चेन्नई / आईआईटी मद्रास में लोगों की हरकतों पर नजर रखने वाला कैमरा देख मोदी बोले-इसे संसद में इस्तेमाल करूंगा



Prime Minister Narendra Modi attended convocation of IIT Madras
X
Prime Minister Narendra Modi attended convocation of IIT Madras

  • प्रधानमंत्री ने छात्रों से कहा- आपकी रिसर्च देश के लोगों की परेशानी कम करने में मदद करेगी
  • उन्होंने कहा- दुनिया में कहीं भी रहो, भारत माता की जरूरतों को मत भूलना

Dainik Bhaskar

Oct 01, 2019, 04:52 AM IST

चेन्नई. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को आईआईटी मद्रास के दीक्षांत समारोह में हिस्सा लिया। उन्होंने आईआईटी कैम्पस में चल रहे भारत-सिंगापुर हैकेथॉन के विजेताओं को भी सम्मानित किया। इनोवेशन और नए प्रयोगों पर आधारित प्रधानमंत्री के भाषण के दौरान एक वक्त ऐसा भी आया जब हॉल ठहाकों से गूंज उठा।

 

मोदी ने कहा- ‘मेरे युवा दोस्तों ने आज काफी समाधान निकाले। खास तौर पर मुझे कैमरा वाला आविष्कार काफी पसंद आया, जिससे यह पता लगाया जा सकता है कि कौन कितने ध्यान से सुन रहा है। अब मैं इस पर स्पीकर से चर्चा करूंगा और अगर संसद में भी यह शुरू हो सके तो काफी लाभ होगा।’ प्रधानमंत्री ने विद्यार्थियों से कहा कि दुनिया में कहीं भी रहना लेकिन भारत माता की जरूरतों को मत भूलना। आपकी रिसर्च लोगों की परेशानी कम करने में मदद करेगी।

 

कब उबासी ली, कितनी बार मेज पर सो गए, इसकी जानकारी कैमरा देगा

जिस कैमरे की प्रधानमंत्री ने तारीफ की उसकी खासियत यह है कि यह इंसान के काम और पढ़ाई की गलत आदतों को कैप्चर करेगा। उबासी लेना, झपकी लेना, आंख बंद करना, मेज पर सिर रखकर सोना, दाएं-बाएं देखने की हरकतों का यह कैमरा फोटो भी खींच लेगा। साथ ही उसी समय यह भी बता देगा कि आप ने कब-कब कौन सी हरकत की और कितनी बार। यानी पढ़ाई या काम से ध्यान हटने पर कैमरा आपकी हर हरकत पर नजर रखेगा।

 

हैकेथॉन में ये मॉडल भी पेश किए

  • पॉल्यूशन लेवल इंडेक्स का मॉडल दिखाया गया था, जिसमें रियल टाइम डेटा मिल सकता है। 
  • एपिडाेमोलॉजी- इसमें त्रासदी से संबंधित कई विभागों के डेटा को आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस की मदद से त्रासदी की भविष्यवाणी की जाती है।
  • रंग बदलने का मॉडल- अस्पताल में ऐसे उपकरणों की प्रकाश के सामने पहचान कर लेना, जिसे सिर्फ एक बार ही यूज करना होता है। यानी सिरिंज एक बार इस्तेेमाल हो चुकी है तो प्रकाश के संपर्क में आने पर उसका रंग बदल जाएगा। 
  • मेडिकल वेस्ट की ट्रैकिंग- मेडिकल वेस्ट जिस डब्बे में फेंका जा रहा है, उसमें सेंसर लगाकर उसे खाली करने तक की रियल टाइम ट्रैकिंग मैकेनिज्म का मॉडल बनाया गया।
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना