• Hindi News
  • National
  • Prime Minister Narendra Modi is in Delhi's Dwarka, as part of the Dussehra celebrations on Tuesday, 8 October.

दिल्ली / राम-कृष्ण ने सामूहिकता की शक्ति से परिचय कराया, हम भी इससे अपने संकल्पों को पूरा करें: मोदी



दिल्ली की रामलीला में प्रधानमंत्री नरेंद मोदी। दिल्ली की रामलीला में प्रधानमंत्री नरेंद मोदी।
X
दिल्ली की रामलीला में प्रधानमंत्री नरेंद मोदी।दिल्ली की रामलीला में प्रधानमंत्री नरेंद मोदी।

  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने द्वारका सेक्टर 10 स्थित दशहरा मैदान में रावण दहन किया 
  • उन्होंने कहा- कला, वाद्य, गान, नृत्य हर प्रकार की कला हमारे उत्सवों से अभिन्न रूप से जुड़ी है
  • ‘इसी कारण भारत के हजारों साल की सांस्कृतिक विरासत में कला के चलते भारत में रोबोट नहीं, जीते-जागते इंसान पैदा होते हैं’

Dainik Bhaskar

Oct 08, 2019, 06:47 PM IST

नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को विजयादशमी के मौके पर द्वारका के सेक्टर 10 स्थित दशहरा मैदान में रावण दहन किया। इससे पहले यहां पहुंचने के लिए मोदी ने दिल्ली मेट्रो की एयरपोर्ट एक्सप्रेस लाइन में सवारी की। मोदी ने कहा- जय श्री राम! आप सबको विजयादशमी के पर्व की अनेक शुभकामनाएं। राम-कृष्ण ने सामूहिकता की शक्ति से परिचय कराया। हम भी इससे अपने संकल्पों को पूरा करें।

 

मोदी ने कहा- भारत के सामाजिक जीवन का प्राण तत्व उत्सव है

  • हजारों साल की परंपराओं से हजारों वीर गाथाओं, सांस्कृतिक विरासत के चलते हमारे देश में उत्सवों ने संस्कार, शिक्षा और सामूहिक जीवन का प्रशिक्षण देने का काम किया। उत्सव नए सपनों को सजने का सामर्थ्य देते हैं। हमारी रगों में उत्सव धधकता रहता है। भारत के सामाजिक जीवन का प्राण तत्व उत्सव है। 
  • भारत उत्सवों की भूमि है। शायद ही 365 दिन में एक दिन बचा होगा, जहां हिंदुस्तान के किसी ना किसी कोने में कोई ना कोई उत्सव न मनाया जाता हो।
  • उत्सव के चलते ही हमें कभी क्लब कल्चर में जाना नहीं पड़ा। उत्सव के साथ एक प्रतिभा को निखारने का, उसे सामाजिक गरिमा देने का, पुरस्कृत करने का निरंतर प्रयास चला है। कला, वाद्य, गान, नृत्य हर प्रकार की कला हमारे उत्सवों से अभिन्न रूप से जुड़ी है। इसी कारण भारत के हजारों साल की सांस्कृतिक विरासत में कला के चलते भारत में रोबोट नहीं, जीते-जागते इंसान पैदा होते हैं।
  • इसके भीतर की संवेदनाएं, भावनाएं, दया भावना को लगातार ऊर्जा देने का काम उत्सवों के माध्यम से होता है। अभी-अभी हमने नवरात्रि के 9 दिन हिंदुस्तान का कोई कोना ऐसा नहीं होगा, जहां पर यह पर्व न मनाया जात हो। शक्ति साधना और उपासना का पर्व भीतर की कमियों को कम करने, असमर्थताओं से मुक्ति पाने के लिए होता है। ये शक्ति की आराधना नए स्वरूप में नई शक्ति का संचार करती है।
  • शक्ति साधना के साथ हर मां-बेटी की गरिमा की रक्षा का संकल्प हमारी जिम्मेदारी बनता है। हमारे यहां उत्सव युग-काल के हिसाब से बदलते हैं। हमारा समाज बदलाव को गर्व के साथ स्वीकार करता है। हम चुनौती देने वाले को चुनौती देते हैं और आवश्यकता के मुताबिक, ढलते भी हैं।
  • जब कोई कहता है कि हस्ती मिटती नहीं हमारी, उसका कारण यही है कि समाज में बुराई आती है तो समाज के भीतर से ही बुराई के खिलाफ संघर्ष करने वाले महापुरुष पैदा होते हैं। हमारे ही समाज की बुराई के खिलाफ जब हमारे समाज का व्यक्ति निकलता है तो युगपुरुष और प्रेरणा पुरुष बन जाता है। बदलाव को स्वीकार करने वाले लोग हैं। दिवाली के पर्व पर हम महालक्ष्मी का पूजन करते हैं।
  • हमारे मन में सपना होता है कि आने वाला वर्ष लक्ष्मी हमारे घर में ही रहे। मैंने मन की बात में कहा था कि जिस देश में लक्ष्मी की पूजा होती हो, हमारे गांव-मोहल्ले में लक्ष्मी होती है, हमारी बेटियां लक्ष्मी का रूप होती हैं। हम इस दिवाली पर उन बेटियों को सम्मानित करें, जो दूसरों को प्रेरणा दे सकती हैं। यही हमारी लक्ष्मी पूजा होगी, वही हमारे देश की लक्ष्मी होती हैं।
  • आज विजयादशमी का पर्व है और वायुसेना का भी जन्मदिन है। वायुसेना पराक्रम की ऊंचाइयां प्राप्त कर रही हैं। जब भगवान हनुमान को याद करते हैं, तब विशेष रूप से वायुसेना और उनके जांबाज जवानों को याद करें। उनके उज्ज्वल भविष्य के लिए शुभकामनाएं व्यक्त करतें। विजयादशमी का पर्व यानी आसुरी शक्ति पर दैवी शक्ति की विजय का पर्व है।
  • समय रहते हुए हमने हर पल अपने भीतर की आसुरी शक्ति को परास्त करना भी उतना ही जरूरी होता है। तभी हम राम की अनुभूति कर सकते हैं। प्रभु राम की अनुभूति करने के लिए हमें भीतर की शक्ति को सामर्थ्य देते हुए भीतर की कमियों और आसुरी प्रवृत्ति को नष्ट करना ही हमारा सबसे पहला दायित्व बनता है।
  • पानी बचाना संकल्प है। खाना खाएं तो जूठा न छोड़ें। बिजली बचाएं, देश की संपत्ति का नुकसान नहीं होने दें। यह सभी संकल्प हो सकते हैं। ऐसा कोई संकल्प विजयादशमी पर लें। महात्मा गांधी की 150वीं जयंती हो और गुरुनानक देव का 550वां प्रकाश पर्व हो, ऐसे संयोग पर हम अपने जीवन में संकल्प करें। विजयश्री प्राप्त करेंगे, यह भी संकल्प करें। सामूहिकता में शक्ति होती है।

  • भगवान कृष्ण ने एक उंगली पर गोवर्धन उठाया था, लेकिन ग्वालों को उनकी ताकत का अहसास कराया था। राम ने पुल बनाया था समुद्र में, लेकिन जंगल में मिले अपने साथियों के साथ द्वीप भी बना दिया। सामूहिक ताकत से हम भी अपने संकल्पों को प्राप्त करें।

  •  

    सिंगल प्लास्टिक से मुक्ति का हमारा अपना संकल्प होना चािहए। प्रभु राम के उत्सव को हजारों साल से हम विजय पर्व के रूप में मनाते हैं। रामायण का मंचन करते हैं। युवा पीढ़ी को इस मंचन से जो सांस्कृतिक विरासत से परििचत कराने का काम किया जा रहा है, उसके लिए सभी को धन्यवाद। जय श्री राम।

 

DBApp

 

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना