पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • National
  • Private Hospital Rs 1 Lakh Per Day Even Seeking PPE Kit Recovery From The Patient

कोरोना से लड़ते 5 राज्यों का हाल:देशभर के निजी अस्पतालों में कोरोना का इलाज पड़ रहा भारी, हॉस्पिटल रोज 1 लाख रु. तक मांग रहे, पीपीई किट की वसूली भी मरीज से

दिल्ली/मुंबई/अहमदाबाद/इंदौर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
यह फोटो ऩई दिल्ली स्थित एलएनजेपी अस्पताल का है। गुरुवार को स्वास्थ्यकर्मी संक्रमण के इलाज के लिए अस्पताल पहुंचे युवक को जानकारी देते नजर आया।
  • पीपीई किट के रोज 9 हजार रु. लिए जा रहे; निगरानी के लिए महाराष्ट्र में सरकारी अफसर तैनात करने पड़े
  • अधिकांश मरीज के इलाज में सिर्फ बुखार की दवा और विटामिन सप्लीमेंट, फिर भी बिल लाखों में थमाए जा रहे
Advertisement
Advertisement

काेराेना मरीज देशभर में निजी अस्पतालाें की मनमर्जी के शिकार हाे रहे हैं। मरीजों के परिजन को बुखार की दवा, विटामिन सप्लीमेंट और पीपीई किट के नाम पर मोटा बिल थमाया जा रहा है। दिल्ली, गुजरात और महाराष्ट्र सहित कई राज्याें में मरीज भर्ती करने से पहले एडवांस में पैसे लिए जा रहे हैं। कई जगह पीपीई किट के लिए ही राेज 9 हजार रु. तक वसूले गए।

वहीं, मुंबई के एक अस्पताल में राेज 1-1 लाख रु. तक का बिल वसूला गया। महाराष्ट्र में ऐसी शिकायतों पर निजी अस्पतालों में निगरानी के लिए 5 आईएएस अफसर तैनात करने पड़े। भास्कर ने दिल्ली, मध्यप्रदेश, गुजरात, महाराष्ट्र, हरियाणा में कोरोना मरीजों को भर्ती कर रहे बड़े निजी अस्पतालाें के बिलों की पड़ताल की। पढ़िए रिपाेर्ट...

दिल्लीः 12 दिन का बिल 4.4 लाख, इसमें 1.06 लाख रु. पीपीई किट के

अशाेक कुमार ने बताया कि वह 12 दिन मैक्स अस्पताल में भर्ती रहे। हाइड्राॅक्सीक्लाेराेक्वीन और विटामिन सी-डी की दवाएं दी गईं। इसका कुल 4.40 लाख रु.का बिल बना। इसमें 1.06 लाख रु.पीपीई किट के थे। 1.58 लाख रु.रूम रेंट के थे। इसी तरह काराेबारी पप्पू काेहली से साढ़ेे पांच लाख रु.वसूले। बिल में रोज 8,900 रु.पीपीई किट के जाेड़े गए थे। इस बारे में मैक्स अस्पताल की जनसंपर्क अधिकारी तनुश्री ने टिप्पणी करने से इनकार कर दिया।

मुंबईः अस्पताल में 15 दिन भर्ती मरीज का बिल 16 लाख रु. बना

सेवंतीलाल एच. पारिख का इलाज 15 दिन चला, जिसका बिल 16 लाख रु. बना। ऐसे में उनका एक दिन का बिल 1 लाख रु. से ज्यादा हुआ। वे मुंबई के नानावटी अस्पताल में भर्ती थे। इस पर अस्पताल प्रबंधन ने सफाई दी- यह बिल अप्रैल का है। राज्य सरकार की काेराेना मरीजाें के बारे में गाइडलाइन मई में जारी की थी। सेवंतीलाल काे काेराेना के अलावा कुछ और बीमारियां भी थीं। उन्हें आईसीयू में वेंटीलेटर पर रखा गया था। इसलिए बिल ज्यादा बना।

अहमदाबादः 14 दिन का बिल 6 लाख से 15.40 लाख रुपए तक
अहमदाबाद में एक दिन का खर्च 50 हजार से लेकर 1.10 लाख रुपए तक है। 14 दिन रुकना पड़े ताे यह खर्च 6 लाख से लेकर 15.40 लाख तक होता है। अहमदाबाद के डीएचएस मल्टी स्पेशियलिटी हॉस्पिटल में सविताबेन के निधन के बाद परिजन ने अस्पताल पर माेटी रकम वसूलने का आरोप लगाया। अस्पताल ने आरोप खारिज करते हुए दावा किया कि सिर्फ 40 हजार का बिल था। 1.50 लाख एडवांस जमा करवाए थे। 1.10 लाख वापस कर दिए गए।

हरियाणा-मप्रः करनाल में 4 लाख तो इंदौर में सवा 3 लाख लिए जा रहे

हरियाणा के करनाल के निजी अस्पतालों में एक दिन का औसत खर्च करीब 30 हजार रु. है। मरीज काे अगर 14 दिन रहना पड़े ताे भी करीब 4 लाख रुपए का बिल बनता है। मध्यप्रदेश में कोरोना के हॉटस्पॉट इंदाैर के अस्पतालाें में 14 दिन के इलाज का खर्च सवा तीन लाख रु. के करीब है। एक दिन आईसीयू वार्ड में रखने के लिए अधिकतम 10 हजार रुपए लिए जा रहे हैं।

Advertisement
0

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव - आज वित्तीय स्थिति में सुधार आएगा। कुछ नया शुरू करने के लिए समय बहुत अनुकूल है। आपकी मेहनत व प्रयास के सार्थक परिणाम सामने आएंगे। विवाह योग्य लोगों के लिए किसी अच्छे रिश्ते संबंधित बातचीत शुर...

और पढ़ें

Advertisement