• Hindi News
  • National
  • Priyanka Gandhi Lucknow [Updates]; Congress General Secretary Lucknow CAA Protest Paidal March Today News

लखनऊ / प्रियंका का आरोप- पुलिस ने गला दबाकर मुझे धकेला, फेसबुक पोस्ट लिखने पर गिरफ्तार पूर्व आईपीएस के परिवार से मिलने से रोका

प्रियंका ने पुलिस के जगह-जगह रोकने पर भी पूर्व आईपीएस दारापुरी के परिवार से मुलाकात की।
पुलिस ने जब प्रियंका की कार रोकी तो वे स्कूटी से आगे बढ़ीं, पुलिस ने इसे भी रोक दिया। पुलिस ने जब प्रियंका की कार रोकी तो वे स्कूटी से आगे बढ़ीं, पुलिस ने इसे भी रोक दिया।
प्रियंका गांधी पुलिस के रोकने पर पैदल ही लखनऊ में एसआर दारापुरी के घर तक पहुंचीं। प्रियंका गांधी पुलिस के रोकने पर पैदल ही लखनऊ में एसआर दारापुरी के घर तक पहुंचीं।
प्रियंका ने कहा कि पूर्व आईपीएस दारापुरी को पुलिस ने 19 दिसंबर को उठा लिया था। प्रियंका ने कहा कि पूर्व आईपीएस दारापुरी को पुलिस ने 19 दिसंबर को उठा लिया था।
पुलिस से बहस करती प्रियंका गांधी। आरोप है कि इसी झड़प के दौरान पुलिस ने उनसे बदसलूकी की। पुलिस से बहस करती प्रियंका गांधी। आरोप है कि इसी झड़प के दौरान पुलिस ने उनसे बदसलूकी की।
X
पुलिस ने जब प्रियंका की कार रोकी तो वे स्कूटी से आगे बढ़ीं, पुलिस ने इसे भी रोक दिया।पुलिस ने जब प्रियंका की कार रोकी तो वे स्कूटी से आगे बढ़ीं, पुलिस ने इसे भी रोक दिया।
प्रियंका गांधी पुलिस के रोकने पर पैदल ही लखनऊ में एसआर दारापुरी के घर तक पहुंचीं।प्रियंका गांधी पुलिस के रोकने पर पैदल ही लखनऊ में एसआर दारापुरी के घर तक पहुंचीं।
प्रियंका ने कहा कि पूर्व आईपीएस दारापुरी को पुलिस ने 19 दिसंबर को उठा लिया था।प्रियंका ने कहा कि पूर्व आईपीएस दारापुरी को पुलिस ने 19 दिसंबर को उठा लिया था।
पुलिस से बहस करती प्रियंका गांधी। आरोप है कि इसी झड़प के दौरान पुलिस ने उनसे बदसलूकी की।पुलिस से बहस करती प्रियंका गांधी। आरोप है कि इसी झड़प के दौरान पुलिस ने उनसे बदसलूकी की।

  • प्रियंका गांधी ने कहा- 70 साल के रिटायर्ड आईपीएस एसआर दारापुरी को सिर्फ एक फेसबुक पोस्ट लिखने पर पुलिस ने घर से उठाया
  • 'पुलिस ने मुझे दो बार रोकने का कारण नहीं बताया, एक महिला पुलिसकर्मी ने मुझे धक्का देकर जमीन पर गिरा दिया'
  • लखनऊ एसपी ने कहा- सोशल मीडिया में प्रियंका गांधी के साथ धक्का-मुक्की और गला दबाने की झूठी खबरें फैलाई जा रहीं
  • कांग्रेस नेता ने प्रियंका के साथ धक्का-मुक्की की निंदा की, योगी सरकार को बर्खास्त कर राष्ट्रपति शासन लगाने की मांग

Dainik Bhaskar

Dec 28, 2019, 10:45 PM IST

लखन‌ऊ. उत्तर प्रदेश पुलिस ने कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी को शनिवार शाम लखनऊ में रिटायर्ड आईपीएस एसआर दारापुरी के परिवार से मिलने जाने के दौरान जगह-जगह रोका। पुलिस ने नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के खिलाफ फेसबुक पोस्ट लिखने पर दारापुरी को गिरफ्तार किया है। प्रियंका का आरोप है कि पुलिस ने उन्हें रास्ते में रोक दिया। जब वे पैदल चलने लगीं तो एक महिला पुलिसकर्मी ने उन्हें धक्का देकर गिरा दिया और गला दबाया। हालांकि, बाद में प्रियंका ने दारापुरी की पत्नी से उनके घर पहुंचकर मुलाकात की।

  • प्रियंका ने कहा- ''अचानक पुलिस मेरी गाड़ी के सामने आ गई और मुझे रोक दिया। जब मैंने इसका कारण पूछा तो कोई जवाब नहीं दिया गया। पुलिस यही कहती रही कि आप नहीं जा सकतीं। इसके बाद मैं पदल चलने लगी तो एक महिला पुलिसकर्मी ने धक्का दे दिया और मेरा गला दबाया। मैं गिर गई जिसके बाद वहां मौजूद लोगों ने मुझे उठाया। मुझे दो बार रोका गया।''
  • ''मैं एसआर दारापुरी के परिवार से मिलने गई थी। वे 70 साल के सेवानिवृत्त आईपीएस अधिकारी हैं। उन्हें पुलिस ने सिर्फ एक फेसबुक पोस्ट लिखने के लिए घर से उठा लिया। वे 19 दिसंबर से पुलिस हिरासत में हैं, उनके परिवार के सदस्य परेशान हैं। मुझे उनसे मिलना था, इसलिए मैं पुलिस के रोके जाने के बाद भी स्कूटी से आगे बढ़ी, लेकिन पुलिस ने उसे भी रोक दिया।''

पुलिस ने कहा- प्रियंका के साथ धक्का-मुक्की और गला दबाने की खबर झूठी

इस मामले में कांग्रेस नेता सुष्मिता देव ने कहा, ''हम प्रियंका गांधी के साथ धक्का-मुक्की की निंदा करते हैं। उत्तर प्रदेश सरकार को बर्खास्त कर वहां राष्ट्रपति शासन लगा दिया जाना चाहिए।'' उधर, लखनऊ के एसपी कलानिधि नैथिनी ने कहा कि हमें सुबह रिपोर्ट मिली थी कि प्रियंका गांधी की कार शेड्यूल रूट के इतर घूम रही है। प्रियंका के साथ धक्का-मुक्की और उनका गला घोंटने जैसी खबरें सोशल मीडिया में फैलाई जा रही हैं, जो गलत हैं। 

देशभक्ति के नाम पर लोगों को डराया जा रहा, लेकिन आवाज बुलंद रखेंगे: प्रियंका

इससे पहले प्रियंका ने कांग्रेस के 135वें स्थापना दिवस के मौके पर पार्टी मुख्यालय में सीएए और एनआरसी के मुद्दे पर मोदी सरकार पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि नए कानून के विरोध में दूसरी पार्टियां खुलकर नहीं बोल रहीं, वे सरकार से डर रही हैं। देशभक्ति के नाम पर लोगों को डराया जा रहा है, लेकिन हम डरने वाले नहीं हैं। अकेले भी रहेंगे तब भी आवाज बुलंद करेंगे। जो देशभर में एनआरसी की चर्चा फैलाते हैं, आज कहते हैं कि इस पर कोई चर्चा ही नहीं हुई थी। ये देश आपको (सरकार) पहचान रहा है, आपकी कायरता को पहचान रहा है और आपके झूठों से ऊब चुका है।

हिंसा से प्रभावित प्रदर्शनकारियों के परिवार से मिल रही हैं प्रियंका

प्रियंका फिलहाल यूपी के दौरे पर हैं, वह हिंसा में गिरफ्तार हुए या मारे गए लोगों के परिजन से मिल रही हैं। उन्होंने बिजनौर में हुए प्रदर्शन के दौरान मारे गए प्रदर्शनकारियों के परिवारों से पिछले रविवार को मुलाकात की थी। प्रियंका ने कहा था कि जब पीड़ित परिवार एफआईआर दर्ज कराने जा रहे हैं तो उन्हें धमकाया जा रहा है। हिंसा में हुई मौतों की न्यायिक जांच होनी चाहिए।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना