• Hindi News
  • National
  • Protest Against Renaming Of Konaseema District, 20 Policemen Injured In Violence, Transport Minister's House Burnt

आंध्र प्रदेश में विरोध की आग:अमलापुरम शहर में भीड़ ने ट्रांसपोर्ट मिनिस्टर और विधायक का घर फूंका; पथराव में 20 पुलिसकर्मी घायल

अमरावतीएक महीने पहले

आंध्र प्रदेश के कोनासीमा जिले का नाम बदलने के विरोध में मंगलवार को अमलापुरम में हिंसा भड़क गई। गुस्साई भीड़ ने पुलिस पर पथराव किया और वाहनों को आग लगी दी। अमालापुरम शहर में उग्र भीड़ ने ट्रांसपोर्ट मिनिस्टर पी विश्वरूपा और मुम्मिडीवरम के विधायक पी.सतीश के घर भी फूंक डाले।

पुलिस ने मंत्री और उनके परिवार को सुरक्षित स्थान पर पहुंचा दिया। गुस्साई भीड़ ने पुलिस के एक वाहन और एक बस में भी आग लगा दी। करीब 20 पुलिसकर्मी पथराव में घायल हुए हैं।

परिवहन मंत्री पी विश्वारूपा के घर में गुस्साई भीड़ ने आग लगा दी।
परिवहन मंत्री पी विश्वारूपा के घर में गुस्साई भीड़ ने आग लगा दी।

क्या है मामला
दरअसल, आंध्र प्रदेश सरकार ने 4 अप्रैल को पूर्वी गोदावरी जिले से अलग कोनासीमा जिले का गठन किया था। पिछले दिनों इस जिले का नाम बदलकर बीआर अंबेडकर कोनासीमा कर दिया गया। सरकार ने नाम बदलने को लेकर लोगों से आपत्ति भी मंगाई थी। इसके बाद कोनासीमा साधना समिति ने नाम बदलने के प्रस्ताव पर आपत्ति जताते हुए जिले का नाम कोनासीमा ही रहने देने की मांग की थी।

प्रदर्शनकारियों ने एक पुलिस वैन और एक बस में भी आग लगा दी।
प्रदर्शनकारियों ने एक पुलिस वैन और एक बस में भी आग लगा दी।

समिति मंगलवार को डीएम हिमांशु शुक्ला को ज्ञापन सौंपने जा रही थी। जिसके बाद प्रशासन ने कलेक्ट्रेट के आसपास धारा 144 लागू कर दी। हालांकि फिर भी सैकड़ों की संख्या में समिति के लोग कलेक्ट्रेट के पास पहुंच गए। समिति ने अमलापुरम शहर के मुम्मिडीवरम गेट, घंटाघर और अन्य स्थानों पर प्रदर्शन किया। इसके बाद पुलिस ने इस पर सख्ती दिखाई।

उग्र भीड़ ने मुम्मिडीवरम के विधायक पी.सतीश के घर को भी आग के हवाले कर दिया।
उग्र भीड़ ने मुम्मिडीवरम के विधायक पी.सतीश के घर को भी आग के हवाले कर दिया।

प्रदर्शन को देखते हुए भारी संख्या में पुलिस फोर्स की तैनाती की गई थी। पुलिस ने कुछ प्रदर्शनकारियों को गिरफ्तार भी कर लिया। इस दौरान कुछ युवक भाग निकले, जब पुलिस ने उनका पीछा किया तो प्रदर्शनकारियों ने पुलिस पर हमला कर दिया। भीड़ ने पुलिस पर जमकर पत्थरबाजी की। जवाब में पुलिस ने भी लाठी चार्ज किया। जिसके बाद हिंसा भड़क उठी।

प्रदर्शनकारियों की गिरफ्तारी के बाद मामला बिगड़ा जिसके बाद आगजनी शुरू हो गई।
प्रदर्शनकारियों की गिरफ्तारी के बाद मामला बिगड़ा जिसके बाद आगजनी शुरू हो गई।

गृहमंत्री बोलीं-दोषियों को बख्शेंगे नहीं
जिले में भड़की हिंसा के मामले में राज्य की गृहमंत्री तानेती वनिता ने राजनीतिक पार्टियों पर आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि कुछ राजनीतिक पार्टियों और असामाजिक तत्वों ने मिलकर हिंसा को भड़काया है। यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि घटना में करीब 20 पुलिस कर्मियों को चोट आई हैं। गृहमंत्री ने कहा कि हम इस मामले की जांच करेंगे और जो भी दोषी हैं, उन्हें सख्त से सख्त सजा दिलाएंगे।

पुलिस और प्रदर्शनकारियों के बीच विवाद के बाद भीड़ ने पत्थरबाजी भी की।
पुलिस और प्रदर्शनकारियों के बीच विवाद के बाद भीड़ ने पत्थरबाजी भी की।

जगन मोहन रेड्डी ने 13 नए जिले बनाने का किया था वादा
जगन मोहन रेड्डी सरकार ने 2019 के विधानसभा चुनाव में आंध्र प्रदेश में नए जिले बनाने का वादा किया था। 2 अप्रैल की रात राज्य सरकार ने एक नोटिफिकेशन जारी कर 13 नए राज्यों के गठन की आधिकारिक घोषणा कर दी। इसके बाद 4 अप्रैल को ये राज्य अस्तित्व में आए गए। राज्य में अब कुल जिलों की संख्या 13 से बढ़कर 26 हो गई थी।