पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • National
  • PSU Banks To Introduce Home Auto Loans On PSB Loans In 59 Minutes Portal

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

बैंक 59 मिनट में लोन स्कीम के तहत होम-ऑटो लोन देंगे, कहा- इससे लागत भी घटेगी

2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
  • इस प्रावधान से ऑटो और रिएलिटी सेक्टर को राहत मिलेगी
  • सरकार इस योजना के तहत एमएसएमई को पहले से ही लोन दे रही

नई दिल्ली. सरकारी बैंक 59 मिनट में लोन देने की स्कीम के तहत होम और ऑटो लोन समेत रिटेल प्रोडक्ट्स की पेशकश करने की तैयारी कर रहे हैं। फिलहाल psbloansin59minutes पोर्टल पर एमएसएमई को 1 करोड़ रुपए तक के लोन पर सैद्धांतिक मंजूरी एक घंटे से भी कम समय में दी जाती है। बैंक ऑफ इंडिया, होम और ऑटो लोन जैसे कुछ रिटेल प्रोडक्ट्स को पोर्टल पर लाने की योजना बना रहा है। एसबीआई, यूनियन बैंक और कॉरपोरेशन बैंक ने पोर्टल के जरिए 5 करोड़ तक के लोन को मंजूरी देने का फैसला किया है।

1) इंडियन ओवरसीज बैंक एमएसएमई के लिए लिमिट बढ़ाकर 5 करोड़ तक करेगा

ऑटो और होम लोन को 59 मिनट लोन योजना में लाने से ऑटो और रिएलिटी सेक्टर को बड़ी राहत मिल सकती है। सरकार इस योजना के तहत एमएसएमई को पहले से ही लोन दे रही है। बैंक ऑफ इंडिया ने बताया कि वह इसमें कुछ और रिटेल उत्पादों को शामिल करने जा रहा है।

इंडियन ओवरसीज बैंक का कहना है कि स्कीम के तहत प्रतिक्रिया अच्छी मिली है। इस कारण बैंक एमएसएमई के लिए सीमा को बढ़ाकर 5 करोड़ तक करेगा। साथ में ही बैंक होम और पर्सनल लोन को भी इसमें शामिल करेगा। बैंक का कहना है कि इसे रिटेल बिजनेस बढ़ेगा और लागत में भी कमी आएगी।

पिछले साल सितंबर में उभरे एनबीएफसी संकट ने ऑटो और रिएलिटी दोनों को प्रभावित किया है। कर्ज न मिलने से दोनों सेक्टर में बिक्री में भारी गिरावट आई है। इस कारण लाखों लोगों की नौकरियों पर खतरा पैदा हो गया है।

59 मिनट में लोन सुविधा से उपभोक्ताओं को कर्ज मिलने में सुविधा होगी और इससे खपत बढ़ने की उम्मीद है। बैंकों के मुताबिक 59 मिनट लोन योजना से लोन प्रोसेसिंग और समय में कमी आई है। ग्राहक अपने हिसाब से बैंक का चुनाव कर सकेंगे।    

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज घर के कार्यों को सुव्यवस्थित करने में व्यस्तता बनी रहेगी। परिवार जनों के साथ आर्थिक स्थिति को बेहतर बनाने संबंधी योजनाएं भी बनेंगे। कोई पुश्तैनी जमीन-जायदाद संबंधी कार्य आपसी सहमति द्वारा ...

    और पढ़ें