पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • Rahul Said PM Modi Is A Coward; He Surrendered Before China And Handed Over The Sacred Land Of India To China.

लद्दाख पर राहुल vs सरकार:कांग्रेस नेता बोले- मोदी ने चीन के आगे सिर झुकाया, उसे हमारी जमीन दे दी; केंद्र का जवाब- हमने कोई जमीन नहीं छोड़ी

नई दिल्ली6 महीने पहले

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने लद्दाख में भारत-चीन बॉर्डर के हालात को लेकर केंद्र सरकार पर तीखा हमला किया है। शुक्रवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस करके राहुल ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को डरपोक तक कह डाला। बोले- वे चीन के सामने खड़े नहीं हो पा रहे हैं। उन्होंने लद्दाख में फिंगर 3 से 4 के बीच की जमीन चीन को सौंप दी, जबकि फिंगर 4 तक भारत की पवित्र जमीन थी। मोदी ने चीन के सामने अपना मत्था टेक दिया है।

इसके बाद केंद्र सरकार ने जवाब दिया कि पूर्वी लद्दाख में पैंगॉन्ग त्सो इलाके में डिसएंगेजमेंट के लिए चीन के साथ हुए समझौते के लिए कोई भी जमीन नहीं छोड़ी है। जो लोग हमारे जवानों की कुर्बानी से संभव हुई उपलब्धियों पर संदेह करते हैं, वास्तव में वे उनका अपमान कर रहे हैं।

भारतीय टैरेटरी फिंगर-4 तक नहीं
रक्षा मंत्रालय ने कहा कि यह दावा पूरी तरह गलत है कि भारतीय इलाका फिंगर 4 तक है। भारत की सीमा नक्शे में दिखाए मुताबिक है। इसमें 43000 वर्ग किमी का वो इलाका भी शामिल है, जिस पर 1962 से चीन का गैर कानूनी कब्जा है। यहां तक कि भारत के हिसाब से LAC भी फिंगर 8 तक है, न कि फिंगर 4 तक। यही कारण है कि भारत ने फिंगर 8 तक पेट्रोलिंग करने के अधिकार को बनाए रखा है।

इधर, गृह राज्य मंत्री किशन रेड्डी ने सोशल मीडिया के जरिए राहुल पर पलटवार किया। रेड्‌डी ने सवाल किया कि चीन को जमीन किसने दी? नेहरू से पूछिए।

डेपसांग के बारे में रक्षा मंत्री ने एक शब्द नहीं बोला
राहुल ने आगे कहा, चीन की सेना स्ट्रैटेजिक एरिया डेपसांग से अंदर आई है। अभी भी वहां चीनी सेना मौजूद है। उसके बारे में डिफेंस मिनिस्टर ने सदन में एक शब्द नहीं बोला। भारत की सरकार हमारी पवित्र जमीन चीन को दे रही है। प्रधानमंत्री मोदी हमारी सेना का अपमान कर रहे हैं। वह हमारी सेना के बलिदान को धोखा दे रहे हैं। भारत में किसी को भी ऐसा करने की अनुमति नहीं दी जानी चाहिए।

सेना तैयार है, लेकिन मोदी नहीं
राहुल ने कहा, चीन को मुंहतोड़ जवाब देने के लिए हमारी सेना के जवान हर रिस्क लेने के लिए तैयार हैं, लेकिन प्रधानमंत्री ऐसा नहीं होने दे रहे। प्रधानमंत्री 100% डरपोक हैं। दिक्कत यही है कि हमारी आर्मी, एयरफोर्स और नेवी चीन से मुकाबले के लिए तैयार है, लेकिन प्रधानमंत्री तैयार नहीं हैं।

राहुल ने रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह पर भी निशाना साधा। कहा कि वो सदन में कहते हैं कि दोनों देशों की सेना पीछे हट रही हैं। ये हमारी बड़ी कामयाबी है। लेकिन मैं इसे असफलता मानता हूं। घर हमारा है। वो (चीन) बिना इजाजत के हमारे घर में घुस आए और हमने उन्हें खदेड़ने की बजाय अपना लिविंग और बेडरूम पकड़ा दिया। ये हमारी कैसी सफलता है? हमने उनको अपना घर दे दिया। ये चीन की सफलता है।

गुरुवार को रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने पहले राज्यसभा और फिर लोकसभा में बयान दिया कि पैंगॉन्ग लेक एरिया (PLA) से सेनाएं पीछे हट रही हैं।
गुरुवार को रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने पहले राज्यसभा और फिर लोकसभा में बयान दिया कि पैंगॉन्ग लेक एरिया (PLA) से सेनाएं पीछे हट रही हैं।

रक्षा मंत्री ने कहा था, एक इंच जमीन भी नहीं लेने देंगे
गुरुवार सुबह रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने राज्यसभा और लोकसभा में लद्दाख के हालात पर बयान दिया था। उन्होंने कहा था कि अब चीन के साथ समझौता हो गया है। लद्दाख की पैंगॉन्ग लेक के उत्तरी इलाके से दोनों देशों की सेनाएं पीछे हटना शुरू हो गई हैं। रक्षा मंत्री ने यह दावा भी किया था कि हम किसी भी देश को अपनी एक इंच जमीन भी नहीं लेने देंगे। इसके बाद शाम 5 बजे रक्षा मंत्री ने लोकसभा में भी चीन से हुए समझौते की जानकारी दी। साथ ही कहा कि दोनों सेनाओं की बख्तरबंद गाड़ियां अपने-अपने परमानेंट बेस पर लौट चुकी हैं।