राजस्थान / ऑनर किलिंग के खिलाफ पुलिस का प्रचार- खुलकर प्यार कीजिए, मुगल-ए-आजम का जमाना गया



Rajasthan is the first state to pass the honor killing bill
X
Rajasthan is the first state to pass the honor killing bill

  • पुलिस ने ऑफिशियल ट्विटर पर पाेस्ट में लिखा- प्यार करना कोई गुनाह नहीं
  • ऑनर किलिंग बिल पारित करने वाला राजस्थान देश का पहला राज्य बना

Dainik Bhaskar

Aug 09, 2019, 07:49 AM IST

जयपुर (राजेंद्र गाैतम).  आपने मुगल-ए-आजम फिल्म ताे देखी हाेगी, जिसमें अकबर ने अपने बेटे सलीम की महबूबा अनारकली काे प्यार करने की सजा देते हुए उसे दाे दीवाराें के बीच जिंदा चुनवा दिया था। शायद यह ऑनर किलिंग का पहला मामला था। तब से लेकर अब तक करीब चार साै साल गुजर जाने के बाद भी प्यार करने काे गुनाह माना जाता रहा। अब राजस्थान देश का पहला ऐसा राज्य बन गया है, जहां प्यार करना गुनाह नहीं है, बल्कि ऐसे प्रेमी युगलाें की सुरक्षा पुलिस करेगी।


तीन दिन पहले साेमवार काे ही विधानसभा में ऑनर किलिंग बिल-2019 पारित हुआ है। यह कानून लागू करने वाला राजस्थान प्रदेश में पहला राज्य है। यह कानून बनते ही राजस्थान पुलिस ने इसके प्रचार के लिए भी फिल्म मुगल ए आजम का ही सीन लिया है, जिसे अपने ऑफिशियल ट्वीटर पर पाेस्ट कर लिखा है कि अब मुगल ए आजम का जमाना गया। अब प्यार करना काेई गुनाह नहीं है। अगर प्यार करने वालाें काे काेई शारीरिक नुकसान पहुंचाता है ताे उसे आजीवन कारावास तक हाे सकता है। इसके अलावा 5 लाख रुपए तक का जुर्माना भी लग सकता है। आखिरी पंक्ति में दिल का चिह्न लगाकर लिखा है...क्याेंकि प्यार करना काेई गुनाह नहीं है।

 

दाेस्ती की है ताे निभानी पड़ेगी
रविवार काे फ्रेंडशिप डे पर भी पुलिस ने अपने ट्वीटर अकाउंट पर लिखा था- "आपसे दाेस्ती की है ताे निभानी पड़ेगी ही’। साथ ही पाेस्ट किया था कि फ्रेंडशिप डे पर राजस्थान पुलिस का आप सब दाेस्ताें से वादा है... ‘हम हमेशा आपके साथ हैं, बिना किसी शर्त या शिकायत के।’ आप सब का प्यार हमारी ताकत है।" 


ऑनर किलिंग के दायरे में ये
प्रदेश में ऑनर किलिंग बिल के तहत यदि दो वयस्क सहमति से अंतरजातीय विवाह करें और परिजन किसी एक या दोनों की हत्या कर दें तो यह ऑनर किलिंग माना जाएगा। अंतर सामुदायिक, अंतरधार्मिक, समुदाय में शादी पर भी ये नियम लागू होंगे।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना