तमिलनाडु / रजनीकांत ने कहा- कुछ लोग मेरा भगवाकरण करने की कोशिश कर रहे, लेकिन मैं इसमें नहीं फंसूंगा



रजनीकांत। रजनीकांत।
X
रजनीकांत।रजनीकांत।

  • रजनीकांत ने कहा- कुछ लोग और मीडिया यह बताने की कोशिश कर रहे हैं कि मैं भाजपा का आदमी हूं, जो सच नहीं है
  • अयोध्या मामले पर रजनीकांत ने लोगों से कोर्ट के फैसले का सम्मान करने और शांति बनाए रखने की अपील की

Dainik Bhaskar

Nov 08, 2019, 05:10 PM IST

चेन्नई. फिल्म अभिनेता रजनीकांत ने शुक्रवार को कहा कि कुछ लोग मुझे भगवा रंग में रंगना चाहते हैं। तमिल कवि तिरुवल्लुवर के भी भगवाकरण की कोशिश की गई। लेकिन सच्चाई यह है कि न तो तिरुवल्लुवर और न ही मैं उनके जाल में फसूंगा। अयोध्या मामले पर उन्होंने लोगों से कोर्ट के फैसले का सम्मान करने और शांति बनाए रखने की अपील की। बीते दिनों रजनीकांत ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के समर्थन में बयान दिया था। इसके बाद से भाजपा खेमे से जोड़कर देखा जाने लगा।  

 

फिल्म अभिनेता कमल हासन और रजनीकांत ने चेन्नई में शुक्रवार को राज कमल फिल्म्स इंटरनेशनल के नए कार्यालय में दिवंगत फिल्म निर्देशक के. बालाचंदर की प्रतिमा का अनावरण किया। इस दौरान रजनीकांत ने कहा कि तिरुवल्लुवर को भगवा चोला पहनाना भाजपा का एजेंडा है। कुछ लोग और मीडिया यह बताने की कोशिश कर रहे हैं कि मैं भाजपा का आदमी हूं। यह सच नहीं है। साथ देने पर ई भी राजनीतिक दल खुश होगा, लेकिन फैसला लेना मेरे ऊपर है।

 

उधर, भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव मुरलीधर राव के मुताबिक, हमने यह कभी नहीं कहा कि रजनीकांत पार्टी में शामिल हो रहे हैं या शामिल होना चाहते हैं। भाजपा को इन सब अटकलों में कोई दिलचस्पी नहीं है।

 

हासन ने कहा- हम एक-दूसरे का सम्मान करते हैं

कमल हासन ने कहा कि एक समय में हम दोनों (मैं और रजनीकांत) ने फैसला किया था कि हम एक-दूसरे का सम्मान करेंगे। क्योंकि, हमारा मानना है कि हम दोनों के लिए भविष्य अच्छा होगा। आज भी हम एक-दूसरे का सम्मान, आलोचना और समर्थन करते हैं।

 

तिरुवल्लुवर की फोटो को लेकर विवाद हुआ था

कुछ दिनों पहले तमिलनाडु की भाजपा इकाई ने तिरुवल्लुवर की एक फोटो साझा की थी, जिसे लेकर काफी विरोध हुआ था। तस्वीर में उनकी मूर्ति को भगवा पोशाक पहनाया गया था। इसके अगले दिन कुछ लोगों ने उनकी मूर्ति पर गोबर फेंक दिया था, जिसके बाद काफी विवाद भी हुआ था।

 

तिरुवल्लुवर तमिल कवि हैं, जो करीब 2050 साल पहले तमिलनाडु में रहते थे। उन्होंने तिरुक्कुरल नाम की किताब लिखी थी। यह तमिल भाषा के प्रतिष्ठित साहित्यों में से एक मानी जाती है।

 

‘मोदी-शाह कृष्ण-अर्जुन जैसे’
रजनीकांत बीते दिनों उप राष्ट्रपति वेंकैया नायडू की किताब के विमोचन कार्यक्रम में शामिल हुए थे। तब उन्होंने गृहमंत्री अमित शाह की तारीफ की थी। उन्होंने  कहा था, ‘‘मोदी और अमित शाह कृष्ण और अर्जुन की तरह हैं। हम नहीं जानते कि इसमें कृष्ण कौन है और अर्जुन कौन, ये केवल वे ही जानते हैं।’’ उन्होंने कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाने के केंद्र के फैसले का भी समर्थन किया था। 

 

DBApp

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना