जयपुर / पाक आतंक के खिलाफ अकेले नहीं लड़ पा रहा, तो भारत से मदद मांग सकता है: राजनाथ



Rajnath says Pak can seek India help if it cannot fight against terrorism a
X
Rajnath says Pak can seek India help if it cannot fight against terrorism a

  • गृहमंत्री ने कहा- इस बात में कोई शक नहीं कि पाकिस्तान है आतंकवाद का प्रायोजक 
  • राजनाथ ने दावा किया- नक्सलवाद से जुड़ी घटनाओं में 50-60 फीसदी की कमी आई

Dainik Bhaskar

Dec 02, 2018, 06:04 PM IST

जयपुर. गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने रविवार को कहा कि अगर पाकिस्तान आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई अकेले नहीं संभाल पा रहा है तो हमसे मदद मांग सकता है। गृहमंत्री ने कहा कि मोदी सरकार के कार्यकाल के दौरान भारत में कोई बड़ा आतंकी हमला नहीं हुआ। आतंकवाद में कमी आई है और यह जम्मू-कश्मीर तक सीमित रह गया है।

जम्मू-कश्मीर भारत का अभिन्न अंग- राजनाथ

  1. राजनाथ ने कहा- मैं पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान से कहना चाहता हूं कि अगर अफगानिस्तान में तालिबान और आतंक के खिलाफ अमेरिका की मदद से पाकिस्तान लड़ाई लड़ सकता है, तो आतंकवाद से अकेले ना लड़ पाने की स्थिति में वह भारत से भी मदद मांग सकता है।

  2. गृहमंत्री ने कहा- जम्मू-कश्मीर भारत का अभिन्न अंग है और यह कोई विवाद का मसला नहीं है। मसला यहां पर आतंकवाद का है और पाकिस्तान इस पर हमसे चर्चा कर सकता है। 

  3. उन्होंने कहा- मैं यह दावा नहीं करता कि आतंकवाद रुक गया है। लेकिन, पिछले साढ़े चार साल के दौरान कोई बड़ा आतंकी हमला नहीं हुआ। आतंकवाद केवल कश्मीर तक सीमित रह गया है और वहां पर भी हालात में सुधार हो रहा है। जम्मू-कश्मीर में पंचायत चुनाव सफलतापूर्वक पूरे कराए गए। 

  4. राजनाथ ने कहा कि जम्मू-कश्मीर में सरकार ने राजनीतिक व्यवस्था को शुरू किया है। जहां तक आतंकवाद की बात है तो इस बात में कोई शक नहीं है कि पाकिस्तान इसका प्रायोजक है। 

  5. उन्होंने कहा कि देश और उसकी सीमाएं सुरक्षित हैं। आतंकवाद कम हुआ है। पिछले 4 साल में नक्सलवाद से जुड़ी घटनाओं में 5-60 फीसदी की कमी आई है। यह पहले 90 जिलों तक फैला था और अब 8-9 जिलों तक सीमित रह गया है। 4-5 साल में यह समस्या पूरी तरह खत्म हो जाएगी।

COMMENT