पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

रिजर्व बैंक आज मौद्रिक नीति का ऐलान करेगा, रेपो रेट में 0.25% कटौती के आसार

एक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
  • रेपो रेट फिलहाल 6%, कटौती हुई तो आम आदमी के लिए सभी तरह के लोन सस्ते होंगे
  • जीडीपी ग्रोथ रेट घटने की वजह से आरबीआई पर ब्याज दरें घटाने का दबाव
  • सस्ते कर्ज के जरिए बाजार में नकदी बढ़ाकर इकोनॉमी को रफ्तार देने की कोशिश होगी
Advertisement
Advertisement

मुंबई. रिजर्व बैंक की मॉनेटरी पॉलिसी कमेटी (एमपीसी) ने गुरुवार को ब्याज दरों का ऐलान किया। रेपो रेट में 0.25% कटौती की गई है। यह 6% से घटकर 5.75% हो गया है। यह 9 साल में सबसे कम है। इससे कम जुलाई 2010 में 5.75% था। एमपीसी के सभी 6 सदस्यों ने 0.25% रेट कट के पक्ष में वोट किया। रेपो रेट में कमी से सभी तरह के लोन सस्ते होंगे। हालांकि, यह बैंकों पर निर्भर करता है कि वे रेपो रेट में कमी का फायदा ग्राहकों को कब तक और कितना देते हैं। रेपो रेट वह दर है जिस पर आरबीआई कॉमर्शियल बैंकों को कर्ज देता है। 

 

रेपो रेट घटने की उम्मीद पहले से थी 
आर्थिक विकास की रफ्तार सुस्त पड़ने से आरबीआई पर ब्याज दर में कटौती का दबाव बढ़ गया था। मार्च तिमाही में जीडीपी ग्रोथ रेट घटकर 5.8% रह गई। पूरे वित्त वर्ष (2018-19) में विकास दर 6.8% रही। यह पांच साल में सबसे कम है। ऐसे में केंद्रीय बैंक की कोशिश है कि सस्ते कर्ज के जरिए बाजार में नकदी बढ़ाकर अर्थव्यवस्था की रफ्तार तेज की जाए।

 

आउटलुक न्यूट्रल से अकोमोडेटिव किया
आरबीआई की मॉनेटरी पॉलिसी कमेटी ने मौद्रिक नीति को लेकर नजरिया न्यूट्रल से बदलकर अकोमोडेटिव (उदार) कर दिया है। यानी रेपो रेट में फिलहाल इजाफा नहीं किया जाएगा। आरबीआई गवर्नर ने स्पष्ट किया कि इसका मतलब यह भी नहीं है कि अब ब्याज दरों में कटौती नहीं की जाएगी। एमपीसी की अगली बैठक अगस्त में होगी। 7 अगस्त को मौद्रिक नीति का ऐलान किया जाएगा। अक्टूबर-मार्च छमाही में खुदरा महंगाई दर 3.4-3.7 फीसदी रहने की उम्मीद जताई है। मॉनसून की अनिश्चिचतता, क्रूड की कीमतों जैसी वजहों को देखते हुए आरबीआई ने महंगाई दर का अनुमान बढ़ाया है।

 

जीडीपी ग्रोथ का अनुमान घटाकर 7% किया
रिजर्व बैंक ने मौजूदा वित्त वर्ष (2019-20) में जीडीपी ग्रोथ का अनुमान घटाकर 7% कर दिया है। अप्रैल की बैठक के बाद 7.2% का अनुमान जारी किया था।

 

खुदरा महंगाई दर का अनुमान बढ़ाकर 3-3.1 फीसदी किया
रिजर्व बैंक ने अप्रैल से सितंबर की छमाही में महंगाई दर का अनुमान बढ़ाकर 3-3.1% कर दिया है। अप्रैल में 2.9 से 3% की उम्मीद जताई थी। ब्याज दरें तय करते वक्त आरबीआई खुदरा महंगाई दर को ध्यान में रखता है। यह लगातार आरबीआई के 4% के लक्ष्य से नीचे बनी हुई है। अप्रैल में यह 2.92% रही थी।

 

रेपो रेट 5 महीने में 0.75% कम हुआ

शक्तिकांत दास के गवर्नर बनने के बाद लगातार तीसरी बार रेपो रेट घटा है। अप्रैल और फरवरी की समीक्षा बैठकों के बाद भी 0.25-0.25 फीसदी की कटौती की गई थी। फरवरी में दास की अध्यक्षता में आरबीआई की मॉनेटरी पॉलिसी कमेटी की पहली समीक्षा बैठक हुई थी। उर्जित पटेल के इस्तीफा देने के बाद दास ने दिसंबर 2018 में आरबीआई के गवर्नर का पद संभाला था।

Advertisement
0

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव - अपने जनसंपर्क को और अधिक मजबूत करें। इनके द्वारा आपको चमत्कारिक रूप से भावी लक्ष्य की प्राप्ति होगी। और आपके आत्म सम्मान व आत्मविश्वास में भी वृद्धि होगी। नेगेटिव- ध्यान रखें कि किसी की बात...

और पढ़ें

Advertisement