शोध / 15 से 19 साल की 40 % महिलाएं प्रेग्नेंसी में कमजोर होती हैं, असर उनके बच्चे पर पड़ता है



Research: 40% of 15 to 19 year old women are weak in pregnancy
X
Research: 40% of 15 to 19 year old women are weak in pregnancy

  • हर साल गर्भधारण करने वाली 53% महिलाओं में होती है खून की कमी
  • स्वास्थ्य मंत्रालय, यूनिसेफ और इंटरनेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ पॉपुलेशन का अध्ययन

Dainik Bhaskar

Sep 12, 2019, 03:44 AM IST

नई दिल्ली (पवन कुमार). देश में 15 से 19 साल की 40% और 20-24 साल की 30% शादीशुदा महिलाएं गर्भधारण के समय शारीरिक रूप से कमजोर होती हैं। इसका गंभीर असर गर्भवती और होने वाले नवजात पर भी पड़ता है। यह खुलासा केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय, यूनिसेफ, इंटरनेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ पॉपुलेशन साइंसेज के अध्ययन से हुआ है।

 

26 हजार 623 महिलाओं पर हुए अध्ययन में कहा गया है कि 15 से 19 आयु वर्ग में प्रेग्नेंट महिलाओं में से 35% दुबली-पतली हैं। इनमें से 5% तो अत्यंत दुबली हैं। 11% का वजन वजन सामान्य से ज्यादा पाया गया। वहीं 20 से 24 आयु वर्ग में 26.3% गर्भवती दुबली-पतली पाई गईं। इनमें से 4.4% तो अत्यंत कमजोर हैं। इस ग्रुप में 21% का वजन सामान्य से ज्यादा पाया गया। अध्ययन में ये दोनों स्थितियों को जच्चा-बच्चा के लिए खतरनाक बताया गया है।


15 से 19 में गर्भनिरोधक गोलियों का इस्तेमाल ज्यादा

15 से 19 वर्ष की आयु वर्ग में 25% शादीशुदा युवतियां गर्भ निरोधक गोलियों का इस्तेमाल करती हैं, जबकि 20 से 24 आयु वर्ग में यह अनुपात 20% है।


हर साल गर्भधारण करने वाली 53% महिलाओं में खून की कमी
अध्ययन के अनुसार हर साल तीन करोड़ महिलाएं देश में गर्भधारण करती हैं। इनमें 20% कमजोर होती हैं। 53% महिलाओं में खून की कमी होती है। 8 फीसदी 18 वर्ष से कम उम्र में मां बन जाती हैं। स्कूल में बच्चियों को आयरन और फॉलिक एसिड की गोली दी जाती है,पर शादी और गर्भ धारण के बीच का जो समय होता है इसमें ऐसा नहीं हो पाता।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना