--Advertisement--

रोहिंग्या / शरणार्थियों ने कहा- म्यांमार न भेजें, जिन 7 को पहुंचाया वे भी मार दिए जाएंगे



भारत में रोहिंग्या का बायोमैट्रिक डाटा जुटाया जा रहा। -फाइल भारत में रोहिंग्या का बायोमैट्रिक डाटा जुटाया जा रहा। -फाइल
X
भारत में रोहिंग्या का बायोमैट्रिक डाटा जुटाया जा रहा। -फाइलभारत में रोहिंग्या का बायोमैट्रिक डाटा जुटाया जा रहा। -फाइल

  • पहली बार शुक्रवार को सात रोहिंग्या म्यांमार को सौंपे गए थे
  • ये लोग 2012 से असम के शरणार्थी कैंपों में रह रहे थे  
  • सरकार के मुताबिक, देश में 40 हजार से ज्यादा रोहिंग्या मौजूद

Dainik Bhaskar

Oct 07, 2018, 03:08 PM IST

नई दिल्ली. दिल्ली के शरणार्थी कैंप में रहने वाले रोहिंग्या मुस्लिमों ने म्यांमार लौटने से इनकार कर दिया है। केंद्र सरकार से अपील में कहा कि जब तक उनके देश में शांति कायम न हो जाए, शरणार्थियों को पुनर्वास के लिए न भेजा जाए। एक शरणार्थी ने कहा, ''भारत से पिछले दिनों जिन सात शरणार्थियों को म्यांमार भेजा गया है, वे ज्यादा दिन जिंदा नहीं रहेंगे। जल्द ही उनकी हत्या कर दी जाएगी।''

किसी लालच में देश नहीं छोड़ा: शरणार्थी

  1. कालिंदी कुंज के कैंप में मौजूद मोहम्मद फारूक ने न्यूज एजेंसी से कहा, ''मैं यहां (भारत में) 2012 से रह रहा हूं। सरकार से एक ही अपील है कि हमें यहां रहने दिया जाए। हमने म्यांमार में काफी अत्याचार सहे। किसी लालच में अपना देश छोड़कर नहीं आए हैं।''

  2. ''हमारी सभी जानकारियां संयुक्त राष्ट्र और संबंधित संस्थाओं के पास हैं। कुछ दिन पहले पुलिस वर्मा की भाषा में एक फार्म लेकर आई थी, लेकिन हमने इसे भरने से इनकार कर दिया।''

  3. दूसरे शरणार्थी हारून ने बताया कि हम 2005 से भारत में रह रहे हैं, लेकिन सरकार ने 2017 से वीजा रिन्यू करना बंद कर दिया। कुछ लोगों ने वर्मा एंबेसी से भेजा गया फार्म भरा है। म्यांमार में हमारे घर आज भी जलाए जा रहे हैं।

  4. राज्यों को रोहिंग्या पर रिपोर्ट सौंपने के निर्देश

    भारत ने पहली बार शुक्रवार को सात रोहिंग्या को म्यांमार को सौंपा था। ये लोग 2012 से असम के शरणार्थी कैंपों में रह रहे थे। इससे पहले केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने राज्यों को रोहिंग्या की पहचान करने और बायोमैट्रिक डाटा जुटाने के निर्देश दिए थे। उन्होंने कहा था रिपोर्ट मिलते ही म्यांमार सरकार से रोहिंग्या की वापसी के लिए बात करेंगे। 

  5. 18 हजार रोहिंग्या भारत में मौजूद

    भारत के अलग-अलग स्थानों पर शरणार्थी शिविरों में करीब 18 हजार रोहिंग्या रह रहे हैं। इन शरर्णार्थियों ने भारत में स्थित संयुक्त राष्ट्र प्रवासी उच्चायुक्त कार्यालय ( यूएनएचसीआर) में रजिस्ट्रेशन भी करा रखा है। यूएनएचसीआर के प्रवक्ता एन्ड्रेज महेकिक ने जेनेवा में यह जानकारी दी।

  6. यूएनएचसीआर ने इन शरणार्थियों के लिए पहचान पत्र भी जारी किए हैं, जिससे इन्हें मनमाने तरीके से गिरफ्तार या हिरासत में लेकर भेजा न जा सके। भारत से म्यांमार भेजे गए सात रोहिंग्याओं को लेकर उन्होंने कहा- हमने इस बारे में जानकारी मांगी है कि उन्हें किन परिस्थियों के अंतर्गत म्यांमार भेजा गया है। 

  7. 6 लाख 50 हजार रोहिंग्या म्यांमार से भागे

    अगस्त 2017 में अराकान रोहिंग्या साल्वेशन आर्मी के घुसपैठियों के हमले के बाद म्यांमार की सेना ने दक्षिणी इलाके में रोहिंग्या मुस्लिमों के खिलाफ अभियान चलाया। इस दौरान रोहिंग्या मुस्लिमों के घर जलाए गए और हजारों की हत्या कर दी गई। रखाइन प्रांत से जान बचाकर भागे 6 लाख 50 हजार से ज्यादा रोहिंग्या ने भारत और बांग्लादेश में शरण ली।

Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..