• Hindi News
  • International
  • S400 missile India | Russia India S400 Deal Latest News and Updates On Manufacturing S 400 missile system

रक्षा / रूस के मंत्री डेनिस मैनटुरोव ने कहा- तय समय से भारत को सौंप देंगे एस-400 मिसाइल प्रणाली, सरकारी रक्षा कंपनी में निर्माण शुरू

एस-400 मिसाइल सिस्टम, एस-300 का अपडेटेड वर्जन है। एस-400 मिसाइल सिस्टम, एस-300 का अपडेटेड वर्जन है।
X
एस-400 मिसाइल सिस्टम, एस-300 का अपडेटेड वर्जन है।एस-400 मिसाइल सिस्टम, एस-300 का अपडेटेड वर्जन है।

  • मंत्री मैनटुरोव ने कहा- एस-400 प्रणाली की खरीद के लिए पेमेंट समेत अन्य प्रतिबद्धता पूरी हो रही
  • ‘भारत में प्रणाली के ऑपरेटर्स के लिए एक प्रशिक्षण केंद्र बनाया जा रहा है’
  • भारत और रूस के बीच इस प्रणाली को करीब 39 हजार करोड़ रु. में खरीदने के समझौते हुए थे

दैनिक भास्कर

Feb 04, 2020, 06:40 PM IST

मॉस्को. रूस के उद्योग एवं व्यापार मंत्री डेनिस मैनटुरोव ने कहा कि रूस भारत को एस-400 वायु रक्षा प्रणाली तय समय से भारत को सौंप देगा। उन्होंने कहा- सरकारी रक्षा कंपनी एलमैज एंटे ने इसका निर्माण शुरू कर दिया है। स्पुतनिक न्यूज के हवाले से मंगलवार को बताया गया कि मैनटुरोव ने मिसाइल प्रणाली की खरीद के लिए पेमेंट समेत अन्य प्रतिबद्धता पूरी करने की जानकारी दी है।

उन्होंने कहा- भारत में इस प्रणाली के ऑपरेटर्स के लिए एक प्रशिक्षण केंद्र बनाया जा रहा है। भारत और रूस के बीच इस प्रणाली को 5.43 अरब डॉलर (करीब 39 हजार करोड़ रुपए) में खरीदने का समझौता 2018 में हुआ था। 

पेमेंट को लेकर भारत-रूस के बीच उलझनें थीं

समझौते के बाद पेमेंट को लेकर दोनों देशों के बीच कुछ उलझने थीं। हालांकि, पिछले साल विदेश मंत्री एस जयशंकर अपने रूसी समकक्ष सर्गेई लावरोव से मिलने मॉस्को पहुंचे थे। उस समय रूस की फेडरल सर्विस की ओर से बयान जारी कर कहा गया था कि भारत के साथ एस-400 के एडवांस पेमेंट का मुद्दा सुलझा लिया गया है। पिछले महीने रूस के राजदूत रोमन बाबूश्किन ने कहा था कि साल 2025 तक भारत को एस-400 मिसाइल प्रणाली सौंप दी जाएगी।

क्या है एस-400 मिसाइल डिफेंस सिस्टम?
एस-400 मिसाइल सिस्टम, एस-300 का अपडेटेड वर्जन है। यह 400 किलोमीटर के दायरे में आने वाली मिसाइलों और पांचवीं पीढ़ी के लड़ाकू विमानों को भी खत्म कर देगा। एस-400 डिफेंस सिस्टम एक तरह से मिसाइल शील्ड का काम करेगा, जो पाकिस्तान और चीन की एटमी क्षमता वाली बैलिस्टिक मिसाइलों से भारत को सुरक्षा देगा। यह सिस्टम एक बार में 72 मिसाइल दाग सकता है। यह सिस्टम अमेरिका के सबसे एडवांस्ड फाइटर जेट एफ-35 को भी गिरा सकता है। वहीं, 36 परमाणु क्षमता वाली मिसाइलों को एकसाथ नष्ट कर सकता है। चीन के बाद इस डिफेंस सिस्टम को खरीदने वाला भारत दूसरा देश है।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना