• Hindi News
  • National
  • Said Before The Summit Will Be Discussed With Quad Leaders On The Development Of Indo Pacific And Global Issues

क्वॉड 2022 में हिस्सा लेने PM मोदी जापान पहुंचे:समिट से पहले बोले- क्वॉड लीडर्स के साथ इंडो-पैसिफिक के डेवलपमेंट और ग्लोबल मुद्दों पर होगी बात

नई दिल्ली/टोक्योएक महीने पहले

PM मोदी 23 से 24 मई तक जापान में होने वाली क्वॉड समिट में हिस्सा लेने सोमवार तड़के टोक्यो पहुंचे। रविवार रात को रवाना होने से पहले PM ने कहा कि वे दूसरे इन-पर्सन क्वॉड लीडर्स समिट में हिस्सा लेंगे। बैठक में चारों क्वॉड देशों के नेताओं के साझा प्रयासों की समीक्षा की जाएगी। वहीं, इंडो- पैसिफिक रीजन के डेवलपमेंट और आपसी हित के ग्लोबल मुद्दों पर विचार भी साझा किए जाएंगे।

प्रधानमंत्री टोक्यो में होने वाले क्वॉड समिट में अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन, जापान के PM फुमियो किशिदा और ऑस्ट्रेलिया के नवनिर्वाचित प्रधानमंत्री एंथनी अल्बनीज से मुलाकात करेंगे। 40 घंटे के टोक्यो प्रवास पर PM जापान के 35 बिजनेस लीडर्स और CEOs से मुलाकात करेंगे।

जापान के बिजनेस लीडर्स के साथ बैठक
PM मोदी जापानी PM फुमियो किशिदा के बुलावे पर जापान जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि इस साल मार्च महीने में किशिदा भारत-जापान ऐनुअल समिट में हिस्सा लेने भारत आए थे। टोक्यो दौरे पर हम भारत- जापान के बीच स्ट्रैटेजिक और ग्लोबल पार्टनरशिप पर बात होगी।

जापान में भारत के राजदूत एसके वर्मा ने बताया कि PM आज जापान के बिजनेस लीडर्स के साथ ही कई कंपनियों के CEO से भी मुलाकात करेंगे। इसके बाद PM प्रवासी भारतीयों के कार्यक्रम में शामिल होंगे और 24 मई को क्वाड मीटिंग में हिस्सा लेंगे।

रूस- यूक्रेन मुद्दे पर बात करेंगे मोदी-बाइडेन

PM मोदी और अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन। (फाइल फोटो)
PM मोदी और अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन। (फाइल फोटो)

क्वॉड बैठक से इतर PM मोदी और अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन टोक्यो में एक बाइलैटरल मीटिंग करेंगें। इस मीटिंग में द्विपक्षीय संबंधों के अलावा रूस-यूक्रेन मसले पर भी बात होगी।

QUAD क्या है?
QUAD यानी क्वॉड्रिलैटरल सिक्योरिटी डॉयलॉग चार देशों का समूह है। इसमें अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया, भारत और जापान शामिल हैं। इन चारों देशों के बीच समुद्री सहयोग 2004 में आई सुनामी के बाद शुरू हुआ था। QUAD का आइडिया 2007 में जापान के उस वक्त के प्रधानमंत्री शिंजो आबे ने दिया था। हालांकि, चीन के दबाव में ऑस्ट्रेलिया पहले ग्रुप से बाहर रहा।

दिसंबर 2012 में शिंजो आबे ने फिर से एशिया के डेमोक्रेटिक सिक्योरिटी डायमंड का कॉन्सेप्ट रखा, जिसमें चारों देशों को शामिल कर हिंद महासागर और पश्चिमी प्रशांत महासागर के देशों से लगे समुद्र में फ्री ट्रेड को बढ़ावा देना था। आखिरकार नवंबर 2017 में चारों देशों का QUAD ग्रुप बना।

QUAD का उद्देश्य
इसका उद्देश्य इंडो-पैसिफिक के समुद्री रास्तों पर किसी भी देश, खासकर चीन, के दबदबे को खत्म करना है। आज ये सभी लोकतंत्रिक देश सुरक्षा, अर्थव्यसव्था और स्वास्थ्य के मुद्दों एक व्यापक एजेंडे पर काम करते हैं।