• Hindi News
  • National
  • P Chidambaram Shashi Tharoor Vs BJP | Congress Leaders On BJP After Rishi Sunak Became UK PM

चिदंबरम-थरूर की सलाह, भारत में भी हो अल्पसंख्यक PM:भाजपा बोली- मनमोहन सिंह को भूल गए, जानें पूरा मामला

नई दिल्लीएक महीने पहले

ऋषि सुनक ब्रिटेन के नए प्रधानमंत्री चुन लिए गए हैं। इस पद पर पहुंचने वाले वे पहले एशियाई और भारतवंशी हैं। सुनक के PM बनने पर कांग्रेस नेता पी. चिदंबरम और शशि थरूर ने एक नई बहस छेड़ दी है। लगे हाथ भाजपा को भी मौका मिला और उसने भी कांग्रेस पर जमकर हमला बोला। जानिए, दोनों नेताओं और भाजपा ने क्या कहा और कांग्रेस ने खुद को कैसे इनके बयान से अलग किया।

खबर आगे पढ़ने से पहले नीचे दिए गए पोल में शामिल होकर आप अपनी राय जरूर दें...

सबसे पहले जानते हैं चिदंबरम और थरूर ने क्या कहा
ब्रिटेन के प्रधानमंत्री के तौर पर जैसे ही ऋषि सुनक का ऐलान हुआ, कांग्रेस नेता पी. चिदंबरम ने ट्वीट किया- पहले कमला हैरिस और अब ऋषि सुनक। अमेरिका और UK के लोगों की तरह भारत को भी अल्पसंख्यकों को सत्ता में लाना चाहिए। कांग्रेस अध्यक्ष के चुनाव में हार चुके शशि थरूर ने भी चिदंबरम के बयान का समर्थन किया और कहा- अगर ऐसा होता है तो मुझे बहुत खुशी होगी। यह मजबूत लोकतंत्र के लिए अच्छा संदेश होगा।

भाजपा बोली- क्या मनमोहन सिंह को प्रधानमंत्री नहीं मानते
भाजपा ने पी. चिदंबरम और शशि थरूर के बयान पर तल्ख टिप्पणी करते हुए कहा- कांग्रेस में अल्पसंख्यक का मतलब एक वर्ग विशेष है। उनके अलावा ये किसी को अल्पसंख्यक नहीं मानते। जब मनमोहन सिंह देश के प्रधानमंत्री थे, तब ये दोनों नेता उनके मंत्रिमंडल में थे। लेकिन, कांग्रेस के लोग शायद मनमोहन सिंह को प्रधानमंत्री मानते ही नहीं हैं।

कांग्रेस ने दोनों के बयान को गलत बताया
कांग्रेस महासचिव जयराम रमेश ने पार्टी की ओर से बयान जारी करते हुए कहा- भारत को किसी भी देश से सबक लेने की जरूरत नहीं है। भारत में कई अल्पसंख्यक राष्ट्रपति और मुख्यमंत्री बन चुके हैं। उन्होंने जाकिर हुसैन, फखरुद्दीन अली अहमद और एपीजे अब्दुल कलाम के राष्ट्रपति बनने का उदाहरण दिया। उनका बयान चिदंबरम और थरूर को फटकार के रूप में देखा जा रहा है।

अब जानिए जयराम रमेश ने क्या कहा
जयराम रमेश ने कहा- उन्होंने (चिदंबरम और थरूर) क्या कहा है, मैं किसी अन्य नेता की टिप्पणी पर नहीं बोलूंगा। कांग्रेस एक लोकतांत्रिक पार्टी है। भारत जोड़ो यात्रा से हम लोकतंत्र की मजबूती की बात कर रहे हैं, जबकि भाजपा की निरंकुशता सबको दिख रही है। लोकतंत्र में जिन्हें जनादेश मिलेगा वे प्रधानमंत्री बनेंगे। लोकतांत्रिक रूप से अगर कोई चुना जाता है, तो हमें कोई समस्या नहीं है। इंग्लैंड की पार्टी ने उन्हें (सुनक को) प्रधानमंत्री बनाया है, हम इसका स्वागत करते हैं। मुझे नहीं लगता कि हमें कहीं और से सबक लेने की जरूरत है।