• Hindi News
  • National
  • Kashmiri Pandit Rahul Bhatt Murder Case; Three Terrorists Killed In Encounter By Security Forces

सुरक्षाबलों ने 24 घंटे में लिया राहुल भट का बदला:3 आतंकी किए ढेर; 350 कश्मीरी पंडितों का सरकारी पदों से इस्तीफा

श्रीनगर4 दिन पहले

कश्मीरी पंडित राहुल भट की हत्या में शामिल तीनों आतंकियों को सुरक्षाबलों ने 24 घंटे के अंदर मार गिराया है। जम्मू-कश्मीर सरकार ने राहुल की मौत की जांच के लिए SIT गठित कर दी है। सरकार ने राहुल की पत्नी को सरकारी नौकरी देने और उनकी बेटी की पढ़ाई का पूरा खर्चा उठाने का भी ऐलान किया है। उधर, कश्मीरी पंडितों में लगातार निशाना बनाकर हो रहे हमलों से खौफ फैल गया है। इस टारगेट किलिंग के विरोध में 350 सरकारी कर्मचारियों ने एक साथ इस्तीफा दे दिया है।

आज शाम कश्मीरी पंडित राहुल की हत्या के विरोध में लोगों ने कैंडल मार्च निकाला। वहीं कश्मीर संभागीय आयुक्त पीके पोल ने कहा कि प्रशासन एक सप्ताह के भीतर सेवा से जुड़े सभी मामलों का समाधान कर देगा।

राहुल भट्ट की हत्या के विरोध में लोगों ने कैंडल मार्च निकाला।
राहुल भट्ट की हत्या के विरोध में लोगों ने कैंडल मार्च निकाला।

गुरुवार से ही चल रहा था सर्च ऑपरेशन
गुरुवार को आतंकियों ने बड़गाम जिले के चडूरा तहसील ऑफिस में घुसकर क्लर्क राहुल को शूट कर दिया था। इसके बाद राहुल ने अस्पताल में इलाज के दौरान दम तोड़ दिया था। घटना के बाद से ही इलाके में सर्च ऑपरेशन चल रहा था।

परिवार के सदस्यों और रिश्तेदारों ने राहुल भट का अंतिम संस्कार किया।
परिवार के सदस्यों और रिश्तेदारों ने राहुल भट का अंतिम संस्कार किया।

इसी बीच पुलिस और सुरक्षाबलों की टीम को जानकारी मिली कि बांदीपोरा के बरार इलाके में कुछ आतंकी छिपे हुए हैं। शुक्रवार को आतंकियों और सुरक्षाबलों के बीच एनकाउंटर हुआ। इसमें राहुल की हत्या में शामिल तीनों आतंकी ढेर हो गए।

कश्मीरी पंडितों ने उपराज्यपाल को भेजे इस्तीफे
राहुल भट की हत्या को लेकर कश्मीरी पंडितों में भारी आक्रोश है। हत्या के विरोध में शुक्रवार को 350 सरकारी कर्मचारियों ने इस्तीफा दे दिया है। कर्मचारियों ने उपराज्यपाल मनोज सिन्हा को अपने इस्तीफे भेज दिए हैं। सभी कश्मीरी पंडित प्रधानमंत्री पैकेज के कर्मचारी हैं।

खौफ के चलते 350 कश्मीरी पंडितों ने इस्तीफा दे दिया है, ये सभी सरकारी कर्मचारी हैं।
खौफ के चलते 350 कश्मीरी पंडितों ने इस्तीफा दे दिया है, ये सभी सरकारी कर्मचारी हैं।

इन लोगों का कहना है कि घाटी में कश्मीरी पंडित सुरक्षित नहीं है। रोज इसकी बानगी देखने को मिलती है। सरकार कश्मीरी पंडितों को सुरक्षा देने के वादे तो करती है, लेकिन वो जमीन पर दिखाई नहीं देते। ऐसे में हम कश्मीर में असुरक्षित महसूस कर रहे हैं।

24 घंटे के अंदर दो सरकारी कर्मचारियों की हत्याएं
कश्मीर में 24 घंटों के अंदर हत्या की दो घटनाएं सामने आई हैं। गुरुवार को कश्मीरी पंडित राहुल भट की हत्या हुई थी। शुक्रवार को पुलवामा के गुदूरा में आतंकियों ने SPO रियाज अहमद थोकर पर फायरिंग कर दी, अस्पताल में उनकी मौत हो गई। DIG दक्षिण कश्मीर रेंज अब्दुल जब्बार ने बताया कि रियाज छुट्टी पर था और अपने बच्चे की स्कूल बस का इंतजार कर रहा था। इस दौरान दो अज्ञात बाइक सवारों ने उस पर गोलियां चला दीं।

कश्मीर में टारगेट किलिंग के विरोध में लोग प्रदर्शन कर रहे हैं।
कश्मीर में टारगेट किलिंग के विरोध में लोग प्रदर्शन कर रहे हैं।

राहुल की हत्या के विरोध में प्रदर्शन, पुलिस ने लाठीचार्ज किया
कश्मीरी पंडित अपनी सुरक्षा को लेकर जम्मू से लेकर श्रीनगर तक प्रदर्शन कर रहे हैं। कई जगहों से पुलिस और पंडितों के बीच धक्का-मुक्की की भी जानकारी मिली है। घाटी में तनाव की स्थिति हो गई है। कश्मीरी पंडित जगह-जगह प्रदर्शन कर रहे हैं। उधर, बडगाम के शेखपोरा में प्रदर्शन कर रहे कश्मीरी पंडितों पर पुलिस ने आंसू गैस के गोले और लाठीचार्ज का इस्तेमाल किया। यह सभी लोग श्रीनगर एयरपोर्ट अड्डे की ओर मार्च कर रहे थे।