--Advertisement--

शेयर बाजार / सेंसेक्स 572 अंक गिरकर 35312 पर बंद, निफ्टी 182 प्वाइंट लुढ़का



Sensex drop 580 points nifty below 10600 on thrusday 6 Dec
X
Sensex drop 580 points nifty below 10600 on thrusday 6 Dec

  • सन फार्मा को छोड़ सेंसेक्स के बाकी 29 शेयरों में गिरावट
  • निफ्टी के 46 शेयरों में नुकसान, इंडियाबुल्स हाउसिंग फाइनेंस 6% टूटा

Dainik Bhaskar

Dec 06, 2018, 05:20 PM IST

मुंबई. शेयर बाजार गुरुवार को लगातार तीसरे दिन नुकसान में रहा। सेंसेक्स 572.28 अंक की गिरावट के साथ 35,312.13 पर बंद हुआ। इंट्रा-डे में यह  35,266.76 तक फिसल गया। निफ्टी की क्लोजिंग 181.75 प्वाइंट नीचे 10,601.15 पर हुई। कारोबार के दौरान इसने 10,588.25 का निचला स्तर छुआ। अंतरराष्ट्रीय बाजारों से कमजोर संकेतों और रुपए में गिरावट जैसी घरेलू वजहों से बाजार में दबाव बढ़ा।

बीएसई, एनएसई के सभी सेक्टर इंडेक्स गिरावट में रहे

  1. सन फार्मा को छोड़ सेंसेक्स के बाकी 29 शेयर नुकसान में रहे। रिलायंस इंडस्ट्रीज 2.72%, यस बैंक 3% और भारती एयरटेल 2.67% लुढ़क गए। निफ्टी के 50 में से 46 शेयर गिरावट के साथ बंद हुए।

  2. बीएसई के सभी 19 सेक्टर इंडेक्स नुकसान में रहे। एनर्जी इंडेक्स 2.35% टूट गया। मिडकैप इंडेक्स में 1.5% और स्मॉल कैप इंडेक्स में 1.4% गिरावट आई। एनएसई के भी सभी सेक्टर इंडेक्स गिरावट के साथ बंद हुए।

  3. निफ्टी के टॉप-5 लूजर

    शेयर गिरावट
    इंडियाबुल्स हाउसिंग फाइनेंस 5.97%
    मारुति 4.67%
    बजाज फिनसर्व 4.43%
    टेक महिंद्रा 4.38%
    टाटा मोटर्स 3.96%

  4. निफ्टी के गेनर

    शेयर बढ़त
    सन फार्मा 1.11%
    जेएसडब्ल्यू स्टील 0.54%
    गेल 0.19%
    पावर ग्रिड 0.03%

     

  5. शेयर बाजार में गिरावट की 4 वजह

     

    कमजोर विदेशी संकेत

    ग्लोबल इकोनॉमी को लेकर अनिश्चितता की स्थिति की वजह से एशियाई बाजारों में गिरावट आई। हॉन्गकॉन्ग, जापान और चीन के बाजार 2.75% तक लुढ़क गए।

     
    बैंकिंग, मेटल, तेल कंपनियों के शेयरों में दबाव

    रिजर्व बैंक ने बुधवार को बताया कि रिटेल लोन को एमसीएलआर की बजाय दूसरे मानक से जोड़ा जाएगा। इस वजह से बैंकिंग शेयरों में बिकवाली बढ़ी। तेल प्रोडक्शन घटने की आशंका से मेटल और तेल कंपनियों के शेयरों में दबाव बढ़ा। ओपेक की बैठक में तेल उत्पादन कम करने का फैसला लिया जा सकता है। 


    रुपए में कमजोरी

    डॉलर के मुकाबले रुपया इंट्रा-डे में 54 पैसे कमजोर होकर 71 पर आ गया। रेटिंग एजेंसी फिच ने कहा कि साल 2019 के आखिर तक रुपया 75 के स्तर तक गिर सकता है। इस वजह से सेंटीमेंट और खराब हुए। 


    विदेशी निवेशकों की बिकवाली

    विदेशी निवेशक (एफपीआई) बाजार से लगातार पैसा निकाल रहे हैं। बुधवार को एफपीआई ने 357.82 करोड़ रुपए की बिकवाली की। घरेलू निवेशकों ने 791.59 करोड़ रुपए के शेयर बेचे।

Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..