दिल्ली / तीन बार मुख्यमंत्री रहीं शीला दीक्षित का 81 की उम्र में कार्डियक अरेस्ट से निधन, मोदी-सोनिया ने श्रद्धांजलि दी

Sheila dixit: Former Delhi Chief Minister & Congress leader Sheila Dikshit
Sheila dixit: Former Delhi Chief Minister & Congress leader Sheila Dikshit
Sheila dixit: Former Delhi Chief Minister & Congress leader Sheila Dikshit
Sheila dixit: Former Delhi Chief Minister & Congress leader Sheila Dikshit
Sheila dixit: Former Delhi Chief Minister & Congress leader Sheila Dikshit
Sheila dixit: Former Delhi Chief Minister & Congress leader Sheila Dikshit
Sheila dixit: Former Delhi Chief Minister & Congress leader Sheila Dikshit
Sheila dixit: Former Delhi Chief Minister & Congress leader Sheila Dikshit
X
Sheila dixit: Former Delhi Chief Minister & Congress leader Sheila Dikshit
Sheila dixit: Former Delhi Chief Minister & Congress leader Sheila Dikshit
Sheila dixit: Former Delhi Chief Minister & Congress leader Sheila Dikshit
Sheila dixit: Former Delhi Chief Minister & Congress leader Sheila Dikshit
Sheila dixit: Former Delhi Chief Minister & Congress leader Sheila Dikshit
Sheila dixit: Former Delhi Chief Minister & Congress leader Sheila Dikshit
Sheila dixit: Former Delhi Chief Minister & Congress leader Sheila Dikshit
Sheila dixit: Former Delhi Chief Minister & Congress leader Sheila Dikshit

  • शीला दीक्षित लंबे वक्त से बीमार चल रही थीं, पिछले साल फ्रांस में सर्जरी भी हुई
  • उनको शनिवार दोपहर 3.15 बजे कॉर्डियक अरेस्ट आया था
  • अंतिम संस्कार रविवार दोपहर को दिल्ली के निगम बोध घाट पर किया जाएगा
  • शीला दीक्षित पहली बार 1984 में कन्नौज से सांसद चुनी गईं, 2014 में केरल की राज्यपाल भी बनी थीं

दैनिक भास्कर

Jul 21, 2019, 07:30 AM IST

नई दिल्ली. कांग्रेस की वरिष्ठ नेता शीला दीक्षित का शनिवार को निधन हो गया। वे 81 साल की थीं। उनका अंतिम संस्कार रविवार दोपहर को दिल्ली के निगम बोध घाट पर किया जाएगा। शनिवार सुबह शीला दीक्षित को तबीयत बिगड़ने पर राजधानी के फोर्टिस एस्कॉर्ट्स हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया था। अस्पताल के डायरेक्टर डॉ. अशोक सेठ ने बताया कि इलाज के दौरान दोपहर 3.15 बजे शीला दीक्षित को कॉर्डियक अरेस्ट आया। इसके बाद उन्हें वेंटिलेटर पर रखा गया था। शीला दीक्षित 15 साल दिल्ली की मुख्यमंत्री रहीं। लोकसभा चुनाव से पहले कांग्रेस ने 10 जनवरी को उन्हें दिल्ली में पार्टी के अध्यक्ष की जिम्मेदारी सौंपी थी।

 

शीला दीक्षित की पार्थिव देह उनके पूर्वी निजामुद्दीन स्थित आवास पर अंतिम दर्शन के लिए रखी गई। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, यूपीए चेयरपर्सन सोनिया गांधी, मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी, भाजपा नेता विजय गोयल, ज्योतिरादित्य सिंधिया समेत कई नेताओं ने उन्हें श्रद्धांजलि दी। रविवार सुबह 11.30 बजे के बाद उनकी अंतिम यात्रा निगम बोध घाट के लिए निकलेगी। उधर, केजरीवाल सरकार ने दिल्ली में दो दिन के राजकीय शोक का ऐलान किया है।

 

modi

 

लोकसभा चुनाव में मनोज तिवारी से हार मिली थी

शीला दीक्षित का जन्म 31 मार्च 1938 को पंजाब के कपूरथला में हुआ था। 2014 में उन्हें केरल का राज्यपाल बनाया गया था। हालांकि, उन्होंने 25 अगस्त 2014 को इस्तीफा दे दिया था। वे इस साल उत्‍तर-पूर्व दिल्‍ली से लोकसभा चुनाव लड़ी थीं। हालांकि, उन्हें भाजपा के मनोज तिवारी के सामने हार मिली। शीला 1984 से 1989 तक कन्नौज लोकसभा सीट से सांसद रही थीं। इस दौरान तीन साल केंद्रीय मंत्री पद भी संभाला।

 

1998 में मिली थी दिल्ली की कमान
शीला पहले उत्तर प्रदेश की राजनीति में सक्रिय थीं, लेकिन लगातार 4 लोकसभा चुनाव हारने के बाद 1998 में तत्कालीन कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने उन्हें दिल्ली की जिम्मेदारी दी। शीला ने चुनाव में पार्टी की कमान संभाली और चुनाव जीतकर मुख्यमंत्री बनीं। उन्होंने 2013 तक तीन कार्यकाल बतौर मुख्यमंत्री पूरे किए थे।

 

शीला जी कांग्रेस की बेटी थीं: राहुल गांधी

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने कहा, ''शीला जी के निधन से दुखी हूं। वह मुझे बहुत प्यार करती थीं। दिल्ली और देश के लिए उन्होंने जो किया उसे हमेशा याद रखा जाएगा। वह पार्टी की बड़ी नेता थीं।'' राहुल ने उन्हें कांग्रेस की बेटी बताया। दिल्ली भाजपा के अध्यक्ष मनोज तिवारी ने कहा कि कुछ दिन पहले ही शीला जी से मिला था। वह मेरी मां जैसी थीं।

 

 

राहुल बोले- शीला जी से मेरा व्यक्तिगत लगाव था

 

 

 

राष्ट्रपति कोविंद ने शोक व्यक्त किया

 

 

दिल्ली के विकास में शीला जी का योगदान अहम: मोदी

 

 

शीला जी का निधन दिल्ली के लिए क्षति: केजरीवाल

 

 

गृहमंत्री अमित शाह ने ट्विटर पर दी श्रद्धांजलि दी

 

 

1984 में पहली बार सांसद बनी थीं
शीला दीक्षित ने पहली बार 1984 में कन्नौज सीट से चुनाव लड़ा था। यहां उन्होंने सपा के छोटे सिंह यादव को हराया था। 1984 से 1989 तक सांसद रहने के दौरान वे यूनाइटेड नेशंस कमीशन ऑन स्टेटस ऑफ वीमेन में भारत की प्रतिनिधि रह चुकी हैं।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना