श्रद्धा के टुकड़े तलाश रही पुलिस को मिला इंसानी जबड़ा:डेन्टिस्ट पता लगाएंगे ये श्रद्धा का है; पुलिस को आफताब के पॉलीग्राफ टेस्ट की अनुमति मिली

नई दिल्ली2 महीने पहले
श्रद्धा और आफताब 8 मई को दिल्ली आए थे। 10 दिन बाद आफताब ने श्रद्धा का मर्डर कर दिया।

दिल्ली के श्रद्धा वालकर मर्डर केस में श्रद्धा की लाश के टुकड़े ढूंढने के दौरान दिल्ली पुलिस को एक इंसानी जबड़ा मिला है। यह जबड़ा श्रद्धा का है या नहीं, ये पता लगाने के लिए एक डेन्टिस्ट की मदद ली जा रही है। वहीं, अब तक पुलिस ने जितने मानव अंग बरामद किए हैं, उन्हें जांच के लिए फॉरेंसिक साइंस लैबोरेटरी भेजा गया है।

एजेंसी के मुताबिक, जबड़े की जांच कर रहे डेन्टिस्ट ने बताया, ‘पुलिस मेरे पास एक जबड़े का फोटो लेकर आई थी, जो उन्हें जांच के दौरान मिला। मैंने पुलिस से कहा कि मुंबई में जिस डॉक्टर ने श्रद्धा का रूट-कैनाल ट्रीटमेंट किया था, उससे श्रद्धा के जबड़े का एक्स-रे मांगिए। बिना एक्स-रे के कुछ भी कह पाना मुश्किल है।'

पुलिस को आफताब के पॉलीग्राफ टेस्ट की अनुमति मिली
पुलिस को आरोपी आफताब के पॉलीग्राफ या लाई डिटेक्टर टेस्ट की अनुमति मिल गई है। इसमें व्यक्ति की धड़कन, नब्ज, सांस लेने की प्रक्रिया को नोट किया जाता है और उससे सवाल पूछे जाते हैं। झूठा जवाब देने पर व्यक्ति की धड़कन, नब्ज और सांस अनियमित हो जाती हैं, इससे उसके जवाबों को सही और गलत माना जाता है।

10 दिन में पूरे हो जाएंगे पॉलीग्राफ, साइकोलॉजिकल और नार्को टेस्ट
फोरेंसिक साइकोलॉजी डिवीजन हेड डॉ. पुनीत पुरी ने बताया कि नार्को टेस्ट के लिए व्यक्ति की अनुमति चाहिए होती है। कोर्ट के आदेश मिलने के 10 दिन में पॉलीग्राफ, साइकोलॉजिकल और नार्को टेस्ट के सारे काम पूरे हो जाएंगे। यह टेस्ट रोहिणी के डॉ. बाबा साहेब अंबेडकर अस्पताल में किया जाएगा। इसके लिए दिल्ली पुलिस ने 50 सवालों की लिस्ट तैयार की है। टेस्ट के दौरान फोरेंसिक साइंस लेबोरेटरी (FSL) की टीम भी मौके पर मौजूद रहेगी।

दिल्ली के रोहिणी इलाके में डॉ बाबा साहेब आंबेडकर अस्पताल में आफताब का नार्को टेस्ट किया जाएगा।
दिल्ली के रोहिणी इलाके में डॉ बाबा साहेब आंबेडकर अस्पताल में आफताब का नार्को टेस्ट किया जाएगा।

श्रद्धा मर्डर केस के अपडेट्स...

  • दिल्ली पुलिस ने आज मुंबई के उस फाइव स्टार होटल स्टाफ से पूछताछ की, जहां आफताब शेफ के तौर पर काम करता था।
  • दिल्ली पुलिस की टीमें हिमाचल प्रदेश के पार्वती घाटी इलाके, देहरादून और ऋषिकेश में भी सर्च अभियान चला रही हैं।
  • पुलिस को छतरपुर जिले के महरौली जंगल से तीसरे दिन खोपड़ी और कुछ हड्डियां मिलीं। अब तक 17 हड्डियां बरामद की गई हैं, उन्हें फोरेंसिक जांच के लिए भेज दिया गया है।
  • दिल्ली पुलिस की टीम का अभी तक आफताब के परिवार से कोई संपर्क नहीं हो पाया है। उनकी तलाश जारी है।
  • दिल्ली पुलिस अब भी मर्डर वेपन, श्रद्धा के फोन की तलाश कर रही है।

श्रद्धा मर्डर केस की जांच CBI को सौंपने की मांग
दिल्ली हाईकोर्ट में याचिका दायर कर श्रद्धा मर्डर केस की जांच CBI को सौंपने की मांग की गई है। एक प्रैक्टिसिंग वकील ने याचिका में कहा है कि यह घटना लगभग 6 महीने पहले हुई थी। दिल्ली पुलिस के पास कर्मचारियों की कमी और सबूतों को खोजने के लिए पर्याप्त तकनीकी उपकरणों की कमी है। इस कारण सटीक जांच नहीं की जा सकती है।

तालाब से पानी निकालने के दौरान मौके पर भारी संख्या में लोकल लोग मौजूद रहे।
तालाब से पानी निकालने के दौरान मौके पर भारी संख्या में लोकल लोग मौजूद रहे।

तालाब में श्रद्धा के सिर की तलाश
इससे पहले दिल्ली पुलिस के सामने आफताब ने कबूल किया कि उसने श्रद्धा का सिर दिल्ली के एक तालाब में फेंका था। इस जानकारी के बाद दिल्ली पुलिस रविवार शाम छतरपुर जिले के मैदान गढ़ी पहुंची और यहां मौजूद एक तालाब खाली करवाने का काम शुरू किया गया। इसके अलावा गोताखोरों को भी बुलाया गया। हालांकि अभी तक श्रद्धा का सिर नहीं मिल पाया है।

आफताब को लेकर पुलिस महरौली के जंगलों में पहुंची। पुलिस को अब तक 17 हड्डियां मिली हैं।
आफताब को लेकर पुलिस महरौली के जंगलों में पहुंची। पुलिस को अब तक 17 हड्डियां मिली हैं।

श्रद्धा की हत्या के 18 दिन बाद मंगवाया सामान
आफताब ने श्रद्धा की हत्या करने के करीब 18 दिन बाद 5 जून को मुंबई से दिल्ली कुछ सामान मंगवाया था। गुडलक पैकर्स एंड मूवर्स से जुड़े गोविंद यादव ने इसकी सारी जानकारी पुलिस को दे दी है। पूछताछ के बाद उसने मीडिया से बातचीत में बताया कि आफताब ने ये सामान मंगवाने के लिए ऑनलाइन बुकिंग कराई थी। वह उस समय छुट्टी पर था, इसलिए दूसरे कर्मचारियों ने आफताब का सामान दिल्ली शिफ्ट किया था। इसके लिए आफताब ने 20 हजार रुपए दिए थे। यादव ने बताया कि इनमें सभी घरेलू सामान था। यादव ने बुकिंग से जुड़े सभी दस्तावेज पुलिस को सौंप दिए हैं।

आफताब के परिवार ने 20 दिन पहले खाली किया घर
दिल्ली पुलिस की टीम ने रविवार को पालघर जिले के वसई इलाके की यूनीक पार्क हाउसिंग सोसाइटी के सेक्रेटरी अब्दुल्ला खान का बयान दर्ज किया, जहां आरोपी आफताब अपने परिवार के साथ रहता था। पूछताछ में खान ने बताया कि आफताब को घर किराए पर दे रखा है। उसके परिवार ने करीब 20 दिन पहले अपना घर खाली कर दिया था।

खान ने कहा कि उन्हें इस बारे में कोई जानकारी नहीं है कि आफताब का परिवार कहां गया। दिल्ली पुलिस ने मामले के सिलसिले में श्रद्धा और आफताब के दोस्तों और रिश्तेदारों सहित कई लोगों को बुलाया है और उनके बयान दर्ज किए जा रहे हैं।

पुलिस के हाथ 18 अक्टूबर का CCTV फुटेज लगा
दिल्ली पुलिस के हाथ बीते शनिवार को 18 अक्टूबर का CCTV फुटेज लगा था। इसमें सुबह चार बजे आफताब बैग ले जाते हुए देखा गया। पुलिस को शक है कि वह श्रद्धा के बॉडी के टुकड़ों को फेंकने गया था। इसके अलावा दिल्ली पुलिस ने आफाताब के महरौली वाले फ्लैट से सारे कपड़ों को जब्त कर लिया है। इनमें श्रद्धा के कपड़े भी शामिल हैं।

18 अक्टूबर के CCTV फुटेज में दिख रहा है कि आफताब ने उस रात तीन चक्कर लगाए थे।
18 अक्टूबर के CCTV फुटेज में दिख रहा है कि आफताब ने उस रात तीन चक्कर लगाए थे।

आफताब-श्रद्धा 8 मई को दिल्ली पहुंचे, 18 को कत्ल
आफताब-श्रद्धा मुंबई से दिल्ली 8 मई को आए थे। यहां से पहाड़गंज के होटल और फिर साउथ दिल्ली में रहने लगे। साउथ दिल्ली के बाद महरौली के जंगल के पास फ्लैट लिया था। दिल्ली पहुंचने के 10 दिन बाद यानी 18 मई को 28 साल के आफताब ने श्रद्धा का मर्डर कर दिया और उसके 35 टुकड़े किए, जिन्हें उसने लगभग तीन हफ्ते तक 300 लीटर के फ्रिज में रखा। इसके बाद हर रोज इन टुकड़ों को मेहरौली के जंगल में फेंकने जाता था। आफताब ने वारदात से पहले अमेरिकी क्राइम शो डेक्स्टर समेत कई क्राइम मूवीज और शोज देखे थे।

श्रद्धा मर्डर से जुड़ी ये खबरें भी पढ़ें...

पापा 25 की हूं, फैसले ले सकती हूं:पिता बोले- बात मान लेती तो जिंदा होती श्रद्धा

श्रद्धा मर्डर केस में एक के बाद एक सनसनीखेज खुलासे हो रहे हैं। 27 साल की लड़की को उसके लिव-इन पार्टनर ने किस बेरहमी से मारा और फिर उसके शरीर के 35 टुकड़े कर दिए, यह कहानी अपने आप में दिल दहलाने वाली है, लेकिन इसमें सबसे दुखद पहलू श्रद्धा के पिता का है। उन्हें इस बात का अफसोस है कि उनकी बेटी ने प्यार में जिद के चलते उनकी बात नहीं मानी। अगर मान ली होती तो आज वह जिंदा होती। पढ़ें पूरी खबर...

श्रद्धा का सिर ढूंढने तालाब खाली कराने पहुंची पुलिस

श्रद्धा मर्डर केस में रोज नए खुलासे सामने आ रहे हैं। रिपोर्ट्स के मुताबिक, दिल्ली पुलिस को आफताब ने बताया है कि उसने श्रद्धा का सिर दिल्ली के एक तालाब में फेंका है। इसके बाद दिल्ली पुलिस रविवार शाम छतरपुर जिले के मैदान गढ़ी पहुंची और यहां मौजूद एक तालाब खाली करा रही है। पढ़ें पूरी खबर...

श्रद्धा मर्डर केस में मणिकर्ण पहुंची दिल्ली पुलिस:आफताब की पीपल कांटेक्ट हिस्ट्री खंगाली

दिल्ली के बहुचर्चित श्रद्धा मर्डर केस की जांच के सिलसिले में दिल्ली पुलिस की टीम हिमाचल प्रदेश के मणिकर्ण पहुंची। टीम ने यहां श्रद्धा और उसकी हत्या के आरोपी आफताब की पीपल कांटेक्ट हिस्ट्री खंगाली। तीन सदस्यीय पुलिस टीम उस गेस्ट हाउस भी पहुंची जहां श्रद्धा और आफताब रुके थे। दिल्ली पुलिस की एक टीम में दो सब इंस्पेक्टर और एक हेड कांस्टेबल शामिल थे। पढ़ें पूरी खबर...

​​​​​पीटने के 5 दिन बाद श्रद्धा को अस्पताल लाया आफताब

श्रद्धा वालकर मर्डर में आफताब अब भी पुलिस को गुमराह कर रहा है। दिल्ली पुलिस ने शुक्रवार को माना कि फिलहाल मामले में तफ्तीश जारी है और ठोस सबूत जुटाए जा रहे हैं। हालांकि, ऐसे सबूत और गवाह सामने आ रहे हैं, जो आफताब की बर्बरता की कहानी को साबित कर रहे हैं। ये सबूत कोर्ट में टिक पाएंगे, ये फिलहाल सबसे बड़ा सवाल है। पढ़ें पूरी खबर...

आफताब ने कुबूल किया.... यस आई किल्ड हर

पुलिस ने बताया कि आफताब से कत्ल के बारे में जो भी पूछा जाता है, वह उसके बारे में अंग्रेजी में जवाब देता है। ऐसा नहीं है कि उसे हिंदी नहीं आती, पर वो अंग्रेजी में ज्यादा कम्फर्टेबल है। उसने कुबूल किया- Yes i killed her... पूरी खबर यहां पढ़ें