सिंगापुर एयरलाइंस के विमान में बम की सूचना झूठी निकली:सैन फ्रांसिस्को से सिंगापुर के लिए भरी थी उड़ान, फाइटर जेट्स ने दी हवाई सुरक्षा

4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

सिंगापुर एयरलाइंस के एक विमान में बम होने की सूचना झूठी निकली है। इसकी जानकारी सिंगापुर के रक्षा मंत्रालय ने दी है। इसमें बताया गया कि सैन फ्रांसिस्को से फ्लाइट में बैठे यात्री ने अपने हैंडबैग में बम होने का दावा किया था। लैंडिंग के बाद तलाशी के दौरान कुछ भी नहीं मिला। फिलहाल, आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया है।

मंत्रालय के बयान के अनुसार, सिंगापुर एयरलाइंस के एक विमान ने सैन फ्रांसिस्को से सिंगापुर के चांगी के लिए उड़ान भरी। इस बीच 37 साल के यात्री ने दावा किया कि उसके हैंडबैग में बम है और क्रू मेंबर्स के साथ मारपीट करने लगा। इससे यात्रियों में दहशत फैल गईं। क्रू ने किसी तरह यात्रियों को शांत किया और तुरंत अधिकारियों को सूचना दी।

बम की सूचना मिलने पर फाइटर जेट्स विमान के पीछे आए
बम की सूचना मिलने के बाद सिंगापुर एयरफोर्स ने दो फाइटर जेट्स F16C/Ds को विमान के पीछे भेजा। इसके बाद विमान की लैंडिंग चांगी इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर कराई गई। सेना ने तुरंत विमान की और यात्री की तलाशी ली, लेकिन बम की धमकी झूठी निकली। आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया है और पुलिस जांच कर रही है।

एयरलाइन का बयान
एयरलाइन ने बयान जारी किया कि सैन फ्रांसिस्को से उड़ान भरने के 16 घंटे 25 मिनट बाद बुधवार सुबह करीब 5:50 बजे चांगी हवाई अड्डे पर सुरक्षित उतर गई। सभी यात्री सुरक्षित हैं। हम जांच में सहायता कर रहे हैं।

सिंगापुर एयरलाइंस में पहले भी हो चुकी हैं ऐसी घटनाएं
सिंगापुर एयरलाइंस को दुनिया की सबसे सुरक्षित एयरलाइंस में से एक माना जाता है, लेकिन कुछ सालों में इसमें ऐसी कई घटनाएं देखी गई हैं। 2019 में मुंबई से सिंगापुर जा रहे विमान में बम होने की सूचना मिली थी। सिंगापुर एयरफोर्स की निगरानी में चांगी एयरपोर्ट पर सुरक्षित उतार लिया गया था। तलाशी के दौरान पुलिस को कोई संदिग्ध वस्तु नहीं मिली। इसके बाद विमान में सवार 263 यात्र‍ियों से पूछताछ की गई, लेकिन एक महिला और एक बच्चे को छोड़कर अन्य सभी यात्रियों को जाने दिया गया।

उससे एक साल पहले, एयरलाइन के बजट करियर पर यात्रा कर रहे एक पुरुष यात्री ने टिप्पणी की थी कि उसके बैग में एक बम था, जिसके कारण विमान को यू-टर्न लेना पड़ा। बाद में उस पर $4,500 का जुर्माना लगाया गया था।