• Hindi News
  • National
  • Situation Critical In 5 Districts Bordering Tamil Nadu, Maharashtra And Kerala, Preparations Were On To Open Schools In Karnataka, But Now There Is A Possibility Of Lockdown

कोरोना के सभी वैरिएंट वाले राज्यों का हाल:तमिलनाडु, महाराष्ट्र और केरल की सीमा से लगे 5 जिलों में स्थिति गंभीर; कर्नाटक में लॉकडाउन की आशंका

बेंगलुरु4 महीने पहलेलेखक: बेंगलुरू से भास्कर के लिए विनय माधव
  • कॉपी लिंक
कर्नाटक के 5 जिलों में वीकेंड कर्फ्यू लगा दिया गया है। बेंगलुरू, मैसूर जैसे बड़े शहरों में वीकेंड कर्फ्यू पर विचार हो रहा है। - Dainik Bhaskar
कर्नाटक के 5 जिलों में वीकेंड कर्फ्यू लगा दिया गया है। बेंगलुरू, मैसूर जैसे बड़े शहरों में वीकेंड कर्फ्यू पर विचार हो रहा है।
  • तमिलनाडु, महाराष्ट्र और केरल की सीमा से लगे 5 जिलों में स्थिति गंभीर

कर्नाटक सरकार 23 अगस्त से 9वीं से 12वीं तक के स्कूल खोलने पर विचार कर रही है। वहीं, राज्य में कोरोना की स्थितियां संभावित लॉकडाउन का संकेत भी दे रही हैं। फिलहाल, राजधानी बेंगलुरू में कोरोना की स्थिति नियंत्रण में दिख रही है। हालांकि, केरल, महाराष्ट्र और तमिलनाडु की सीमा से लगे पांच जिलों में स्थिति गंभीर है। यहां पॉजिटिविटी रेट 5% से ऊपर पहुंच गया है। जबकि राज्य का औसत 1.05% है।

इन सबके बीच महाराष्ट्र से सटे विजयपुरा जिले में जीनोम सीक्वेंसिंग में कोविड का नया वैरिएंट मिला है। इस सैंपल को जांच के लिए भेजा गया है। ऐसे में विशेषज्ञ अगले तीन हफ्ते काफी महत्वपूर्ण मानकर चल रहे हैं। वहीं सरकार ने मंदिरों में होने वाली विशेष पूजा पर रोक लगा दी है। श्रद्धालुओं से कहा गया है कि वे सोशल डिस्टेंसिंग के साथ सिर्फ दर्शन करें। कर्नाटक के 5 जिलों में वीकेंड कर्फ्यू लगा दिया गया है। बेंगलुरू, मैसूर जैसे बड़े शहरों में वीकेंड कर्फ्यू पर विचार हो रहा है।

राज्य सरकार से सतर्कता बरतने की अपील
जयदेव इंस्टीट्यूट ऑफ कार्डियोलॉजी के निदेशक डॉ. सीएन मंजूनाथ की अध्यक्षता वाली कोरोना विशेषज्ञ समिति ने राज्य सरकार से सतर्कता बरतने को कहा है। बेंगलुरू को भीड़ से बचाने की सलाह भी दी है। मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई ने विशेषज्ञ समिति के सदस्यों के साथ बैठक की।

बैठक में समिति ने कहा कि कर्नाटक में कोरोना के करीब सभी वैरिएंट मौजूद थे। इनमें अल्फा जीनोम सीक्वेंस के 155, बीटा के सात, डेल्टा के 1,089 और डेल्टा प्लस के चार मामले शामिल हैं। कप्पा के 159 मामले और ईटीए जीनोम सीक्वेंस के एक मामले का पता चला है।

5% से कम संक्रमण दर हो तो स्थिति नियंत्रण में मानी जाए
विशेषज्ञ समिति ने सरकार से कहा था कि अगर किसी क्षेत्र में 5% से कम संक्रमण दर हो तो स्थिति नियंत्रण में मानी जाए। अगर इससे अधिक संक्रमण दर हो तो उस क्षेत्र में मध्यम पाबंदी लगाई जानी चाहिए। एक बार अगर यह 15% के ऊपर चली गई तो इसे 25% को पार करने में अधिक समय नहीं लगेगा।
समिति ने बताया कि अहम समय 15 से 30 अगस्त तक है, जो यह तय करेगा कि राज्य को एक और लॉकडाउन का फैसला लेना चाहिए या नहीं।

प्रोफेशनल कॉलेजों में केरल से पहुंचा संक्रमण
प्रोफेशनल कॉलेजों में शुरू हुई ऑफलाइन कक्षाओं ने नई चुनौती खड़ी कर दी हैं। ज्यादातर निजी प्रोफेशनल कॉलेजों में दूसरे राज्यों के छात्र लौट आए हैं। हासन में एक नर्सिंग कॉलेज के छात्रावास में 38 कोरोना के मरीज मिले हैं। एक अन्य नर्सिंग कॉलेज के छात्रावास में 65 मरीज मिले। इस संक्रमण का स्रोत केरल के छात्रों को बताया जा रहा है। ये छात्र हाल में कॉलेज कैंपस लौटे हैं। इन छात्रों के सैंपल पहले आरटी-पीसीआर टेस्ट में निगेटिव पाए गए थे।