• Hindi News
  • National
  • Adhir Ranjan Chowdhury Rashtrapatni Remark | Draupadi Murmu, Nirmala Sitharaman, Smriti Irani Sonia Gandhi

राष्ट्रपत्नी वाले बयान पर अधीर को NCW का नोटिस:7 दिन में जवाब मांगा; कांग्रेस नेता बोले- राष्ट्रपति से माफी मांगूंगा, पाखंडियों से नहीं

नई दिल्ली4 महीने पहले
मानसून सेशन में अब तक विपक्षी दल ही GST और महंगाई को लेकर प्रदर्शन करते रहे हैं। पहली बार बुधवार को भाजपा ने नारेबाजी की और पोस्टर लहराए।

राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू को राष्ट्रपत्नी कहने पर कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी की मुश्किलें बढ़ती जा रही हैं। बयान को लेकर अब राष्ट्रीय महिला आयोग (NCW) ने भी अधीर को नोटिस थमा दिया है और 3 अगस्त सुबह साढ़े 11 बजे तक जवाब मांगा है। इसी मामले में मध्य प्रदेश के डिंडोरी में भी एक भाजपा कार्यकर्ता की शिकायत पर अधीर रंजन पर FIR दर्ज की गई है। इधर, अधीर ने भी बयान पर माफी मांगने की बात कही है। उन्होंने राष्ट्रपति से मिलने का समय भी मांगा है।

इधर, भाजपा के हमले के बाद अधीर ने कहा है कि मेरे विवाद में सोनिया गांधी को न घसीटा जाए। मैं राष्ट्रपति से खुद मिलकर माफी मांगूंगा, लेकिन पाखंडियों (भाजपा नेताओं) से नहीं।

अधीर ने बुधवार को संसद से बाहर निकलने पर राष्ट्रपत्नी वाला बयान दिया था। उसके बाद गुरुवार को जब सदन शुरू हुआ तो लोकसभा में भाजपा महिला सांसदों ने सोनिया माफी मांगें की तख्तियां हाथ में लेकर नारेबाजी की। हंगामे के चलते सदन स्थगित कर दिया गया। मानसून सेशन में यह पहली बार था, जब भाजपा के विरोध के चलते सदन स्थगित किया गया।

संसद में सोनिया और भाजपा सांसद स्मृति ईरानी के बीच भी तीखी नोकझोंक हुई। सोनिया ने स्मृति से कह दिया कि आप मुझसे बात मत कीजिए।

केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने संसद में कहा- कांग्रेस ने राष्ट्रपति का नहीं, पूरे देश का अपमान किया है।
केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने संसद में कहा- कांग्रेस ने राष्ट्रपति का नहीं, पूरे देश का अपमान किया है।

अधीर रंजन ने कल और आज क्या कहा
बुधवार: अधीर जब सदन से बाहर निकले तो मीडिया ने उनसे पूछा था कि आप राष्ट्रपति भवन जा रहे थे पर जाने नहीं दिया गया। तब उन्होंने कहा था कि आज भी जाने की कोशिश करेंगे। हिंदुस्तान की 'राष्ट्रपत्नी' सबके लिए हैं। हमारे लिए क्यों नहीं।
गुरुवार: विवाद बढ़ने पर उन्होंने कहा कि हिंदी मेरी मातृभाषा नहीं है। मेरी जुबान फिसल गई थी, मुझे फांसी पर चढ़ा दीजिए। सत्ताधारी दल तिल का ताड़ बनाने की कोशिश कर रहे हैं। मैंने राष्ट्रपति से मिलने का समय मांगा है। उनसे ही माफी मांगूंगा, पाखंडियों से नहीं।

रमा देवी से सोनिया ने पूछा सवाल, स्मृति बीच में आईं भाजपा सांसद रमा देवी जब अधीर रंजन के बयान के बारे में बात करने पहुंचीं तो सोनिया ने कहा- अधीर रंजन ने माफी मांग ली है। उन्होंने सवाल किया- इस मामले में मेरा नाम क्यों लिया गया? इस पर वहां मौजूद स्मृति ईरानी ने कहा- मैडम मैं आपकी मदद कर सकती हूं, तो सोनिया ने पलट कर कहा- डोंट टॉक टु मी।

इधर, भाजपा की जिस सांसद से बात करने के दौरान सोनिया और स्मृति के बीच नोंकझोंक हुई उनका (रमा देवी) भी बयान आया है। रमा देवी ने कहा कि सोनिया मुझसे बात कर रही थीं, तब स्मृति ईरानी आई और दोनों के बीच विवाद हुआ। हालांकि सोनिया जी को अपने सांसद से माफी मंगवानी चाहिए। इस खबर को पूरा पढ़ने के लिए क्लिक करें...

माफी पर सोनिया बोलीं- अधीर गलती मान चुके
सदन में गुरुवार को जब हंगामे के बाद पहली बार लोकसभा स्थगित हुई तो सोनिया ने मीडिया से कहा था कि अधीर पहले ही गलती मान चुके हैं। सोनिया स्मृति ईरानी के उस बयान का जवाब दे रही थीं, जिसमें उन्होंने कहा था कि कांग्रेस गरीब और आदिवासियों की विरोधी है। अपनी गलती पर माफी मांगने की जगह कांग्रेस सीनाजोरी कर रही है। स्मृति ने कहा था कि सोनिया को कांग्रेस की तरफ से माफी मांगनी चाहिए। कांग्रेस ने हर भारतीय नागरिक का अपमान किया है।

कांग्रेस का आरोप- सोनिया से अपमानजनक लहजे में बात की
कांग्रेस नेता जयराम रमेश ने कहा- स्मृति से सोनियाजी ने शालीन लहजे में बात की। कहा था कि वे स्मृति से बात नहीं कर रही हैं पर स्मृति ईरान का लहजा अपमानजनक था। उन्होंने सोनिया को घेरा कहा कि क्या आप जानती नहीं हैं कि मैं कौन हूं? ये कैसी मर्यादा है। वरिष्ठ सांसद से बात करने का ये तरीका संसद और राजनीति के खिलाफ है।

पहली बार संसद की कार्यवाही भाजपा के कारण रुकी
मौजूदा सत्र में विपक्ष लगातार महंगाई और GST के मुद्दे पर हंगामा कर रहा है। 18 जुलाई से शुरू हुए मानसून सत्र के पहले दिन महंगाई को लेकर राज्यसभा में हंगामा हुआ था। इसके बाद दोनों सदनों की कार्यवाही 19 जुलाई तक के लिए स्थगित कर दी गई थी। 20 जुलाई को लोकसभा पहले शाम 4 बजे तक, फिर पूरे दिन के लिए रोकी गई। इसके बाद GST को लेकर हंगामे के बाद राज्यसभा दोपहर से ही पूरे दिन के लिए स्थगित रही। इस सप्ताह संसद में हंगामा करने के कारण लोकसभा और राज्यसभा के 27 सांसद निलंबित किए गए हैं। निलंबित सांसदों का धरना जारी, खान-पान का जिम्मा विपक्षी दलों ने संभाला... पढ़ने के लिए क्लिक करें...