वंदे भारत एक्सप्रेस की खिड़कियां टूटी, पत्थरों के उछलने से हुआ नुकसान

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
  • तकनीकी स्टॉफ ने टूट-फूट को ठीक करके ट्रेन को रवाना किया
  • ड्रायवर की स्क्रीन के साथ ही टूट गए खिड़कियों के शीशे

नई दिल्ली. वाराणसी से दिल्ली की यात्रा के दौरान वंदे भारत एक्सप्रेस में पत्थरों के चलते टूट-फूट हुई। इसके चलते न सिर्फ मुख्य ड्रायवर की स्क्रीन बल्कि साइड की खिड़कियां भी टूट गई। तकनीकी स्टॉफ ने टूट-फूट को ठीक कर ट्रेन को गंतव्य के लिए रवाना किया। 

1) पत्थरों से टूट गए खिड़कियों के शीशे

उत्तर रेलवे के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी ने बताया, 'शनिवार को उत्तर प्रदेश के आचलदा के पास से जब डिब्रूगढ़ राजधानी एक्सप्रेस गुजरी तो इसके नीचे एक मवेशी आ गया। इससे वंदे भारत एक्सप्रेस पर पत्थरों की मार पड़ी।'

राजधानी के गुजरने से उछले पत्थरों से न सिर्फ ड्रायवर की स्क्रीन बल्कि साइड कोचेस की खिड़कियां भी टूट गईं। इनमें सी4, सी6, सी7, सी8, सी13 शामिल हैं जबकि सी12 के दो कांच भी टूट गए।

तकनीकी स्टॉफ ने टूट-फूट की मरम्मत करने के बाद ट्रेन को रवाना किया। हालांकि ट्रेन को सामान्य गति से गंतव्य तक ले जाया गया। ट्रेन नई दिल्ली रेलवे स्टेशन पर रात 11.05 पहुंची।

टूट-फूट को ठीक करने के बाद यात्रियों की सुरक्षा की दृष्टि से अधिकारियों ने गाड़ी में सेफ्टी शीट्स लगा दी ताकि रविवार को यात्रा के दौरान यात्रियों को तकलीफ का सामना न करना पड़े। रविवार सुबह ट्रेन वाराणसी के लिए नियत समय पर रवाना हुई।

15 फरवरी को प्रधानमंत्री मोदी ने वंदे भारत एक्सप्रेस की शुरुआत की थी। यह ट्रेन सोमवार और गुरुवार को छोड़कर सप्ताह में 5 दिन नई दिल्ली से वाराणसी के बीच चल रही है। आम नागरिकों के लिए इसका सफर 17 फरवरी से शुरू हुआ।