मेघालय / रोबोटिक पनडुब्बी कर रही खदान में फंसे मजदूरों की तलाश, आईआईटी मद्रास की कंपनी की टीम भी जुटी



Submersible robotic inspection firm joins Meghalaya mine rescue ops
X
Submersible robotic inspection firm joins Meghalaya mine rescue ops

  • भारतीय नौसेना और वायुसेना के साथ मिलकर चला रहे अभियान
  • नदी से हो रहे रिसाव के चलते बचाव अभियान में हो रही परेशानी

Dainik Bhaskar

Jan 13, 2019, 06:48 PM IST

नई दिल्ली. पूर्वी जयंतिया हिल्स जिले में स्थित अवैध खदान में फंसे मजदूरों को निकालने के लिए रोबोटिक तकनीक का इस्तेमाल किया जा रहा। रोबोटिक सबमर्सिबल इन्सपेक्शन में माहिर कंपनी भी मजदूरों को निकालने के लिए चलाए जा रहे अभियान से जुड़ गई है। कंपनी के मुताबिक, रेस्क्यू में 6 सदस्यीय टीम और एक रिमोट से चलने वाला वाहन (आरओवी) लगाया गया है।

खदान से 1 करोड़ ली. से ज्यादा पानी बाहर निकाला गया

  1. प्लानिज टेक्नोलॉजी की वेबसाइट के मुताबिक, यह कंपनी आईआईटी मद्रास द्वारा पोषित कंपनी है। कंपनी नेवी के साथ रेस्क्यू में जुटी है। 13 दिसंबर को मजदूर खदान में थे। इसी दौरान पास में बहने वाली लैटीन नदी का पानी इसमें भर गया था, जिसके चलते मजदूर इसमें फंस गए थे

  2. इस खदान को रैट होल कहा जाता है। 1 करोड़ लीटर से ज्यादा पानी खदान से बाहर निकाला जा चुका है, लेकिन अंदर फंसे मजदूर अभी तक नहीं निकल सके।

  3. सुप्रीम कोर्ट लगातार मामले की सुनवाई कर रहा है। अदालत ने सरकार से पूछा था कि क्या राज्य सरकार ने अवैध खदानों पर कोई कार्रवाई की। सरकार का कहना था कि खदान का संचालक गिरफ्तार हो चुका है। शुक्रवार को सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में कहा कि उसे चमत्कार में विश्वास है, लेकिन देखना यह होगा कि कितने मजदूर खदान से सकुशल बाहर निकल पाते हैं?

COMMENT