--Advertisement--

फैसला / माल्या को भगोड़ा घोषित करने की कार्रवाई पर रोक लगाने की मांग सुप्रीम कोर्ट ने खारिज की



Supreme court notice to ED on mallyas plea against proceedings to declare h
X
Supreme court notice to ED on mallyas plea against proceedings to declare h

  • माल्या ने प्रवर्तन निदेशालय की कार्रवाई के खिलाफ अपील की थी
  • निदेशालय ने विशेष अदालत से माल्या को भगोड़ा आर्थिक अपराधी घोषित करने की मांग की थी
  • माल्या की अपील पर सुप्रीम कोर्ट ने प्रवर्तन निदेशालय से भी जवाब मांगा

Dainik Bhaskar

Dec 07, 2018, 01:25 PM IST

नई दिल्ली. सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को भगोड़े शराब कारोबारी विजय माल्या की वह मांग खारिज कर दी जिसमें उसने प्रवर्तन निदेशालय की कार्रवाई पर रोक लगाने की अपील की थी। ईडी ने मुंबई स्थित विशेष अदालत में अर्जी दाखिल कर मांग की थी कि माल्या को भगोड़ा आर्थिक अपराधी घोषित किया जाए। माल्या ने इसे सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी थी। कोर्ट ने ईडी को भी नोटिस देकर माल्या की याचिका के संबंध में जवाब मांगा है।

बॉम्बे हाईकोर्ट ने भी माल्या की अपील खारिज की थी

  1. इस मामले में पिछले महीने बॉम्बे हाईकोर्ट ने माल्या की अर्जी खारिज कर दी थी। जिसके खिलाफ माल्या ने सुप्रीम कोर्ट में अपील की थी। ईडी माल्या के खिलाफ मनी लॉन्ड्रिंग के मामले की जांच कर रहा है। उसने 22 जून विशेष अदालत में अर्जी दाखिल कर माल्या को भगोड़ा आर्थिक अपराधी घोषित कर उसकी संपत्तियां जब्त करने का अधिकार देने की मांग की थी।

  2. कर्ज की 100% रकम ले लो, मामला खत्म करो: माल्या

    विजय माल्या ने गुरुवार को ट्वीट कर यह अपील दोहराई कि वह बैंकों का 100% बकाया चुकाने को तैयार है। लेकिन, यह किस्सा खत्म होना चाहिए की उसने पैसा चुराया। माल्या ने बुधवार को सेटलमेंट का प्रस्ताव देते हुए कहा था कि वह साल 2016 में ही कर्ज चुकाने को तैयार था। इस बारे में सरकार को चिट्ठी भी लिखी लेकिन कोई जवाब नहीं मिला।

  3. माल्या के प्रत्यर्पण पर 10 दिसंबर को आ सकता है फैसला

    यूके की अदालत में माल्या के प्रत्यर्पण का मामला चल रहा है। कोर्ट 10 दिसंबर को फैसला सुना सकती है। इस मामले में 12 सितंबर को आखिरी सुनवाई हुई थी। भारत ने फरवरी में माल्या के प्रत्यर्पण की अपील की थी। माल्या पर भारतीय बैंकों के 9,000 करोड़ रुपए बकाया हैं। वह मार्च 2016 में लंदन भाग गया था।

Bhaskar Whatsapp
Click to listen..