• Hindi News
  • National
  • The date for filing nominations for the bye elections to the 15 Assembly seats in Karnataka are from November 11 18.

उपचुनाव / कर्नाटक विधानसभा की 15 सीटों के लिए 5 दिसंबर को मतदान, 9 को वोटों की गिनती



प्रतीकात्मक फोटो। प्रतीकात्मक फोटो।
X
प्रतीकात्मक फोटो।प्रतीकात्मक फोटो।

  • 17 विधायकों के अयोग्य घोषित होने के बाद रिक्त हुई सीटों पर उपचुनाव
  • 11 से 18 नवंबर तक नामांकन दाखिल हो सकेंगे
  • 5 दिसंबर को मतदान और 9 दिसंबर को मतगणना होगी

Dainik Bhaskar

Nov 10, 2019, 05:52 PM IST

बेंगलुरू. चुनाव आयोग ने कर्नाटक की 15 विधानसभा सीटों पर उपचुनाव की तारीखें घोषित कर दी हैं। राज्य के मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी संजीव कुमार ने कहा- विधानसभा की 15 सीटों के लिए 5 दिसंबर को मतदान होगा, जबकि वोटों की गिनती 9 दिसंबर को होगी। राज्य में सोमवार से आदर्श आचार संहिता लागू हो जाएगी और इसी दिन से नामांकन की प्रक्रिया भी शुरू हो जाएगी। नामांकन की आखिरी तारीख 18 नवंबर रहेगी। कर्नाटक में 17 विधायकों को अयोग्य करार देने के चलते 15 विधानसभा सीटों पर उपचुनाव हो रहा है।

 

विधानसभा की रिक्त घोषित 17 सीटों में से 15 पर उपचुनाव कराए जा रहे हैं। 2 सीटों मस्की और आरआर नगर पर फैसला नहीं लिया गया है। इन दोनों सीटों पर चुनाव संबंधी याचिका कर्नाटक हाईकोर्ट में दाखिल की गई हैं।

 

15 सीटों पर 37 लाख से ज्यादा मतदाता

मुख्य निर्वाचन अधिकारी संजय कुमार के मुताबिक, 15 सीटों पर होने जा रहे उपचुनाव में 37 लाख 50 हजार से ज्यादा मतदाता उम्मीदवारों की किस्मत का फैसला करेंगे। इसमें 19.12 लाख पुरुष और 18.37 लाख महिला मतदाता शामिल हैं। अन्य श्रेणी के 399 मतदाता भी मतदान करेंगे। 15 सीटों पर उपचुनाव के लिए 4185 पोलिंग बूथ बनाए जाएंगे। वहीं 22 हजार से ज्यादा कर्मचारियों की ड्यूटी लगाई जाएगी। मतदान के लिए में ईवीएम के साथ वीवीपैट का भी इस्तेमाल होगा।


सुप्रीम कोर्ट में मामला लंबित होने से टले थे चुनाव
पहले इन 15 सीटों पर 21 अक्टूबर को चुनाव होना था, लेकिन 17 विधायकों को अयोग्य करार देने से जु़ड़ा मामला सुप्रीम कोर्ट में लंबित होने के चलते चुनाव आयोग ने इसे 5 दिसंबर तक टाल दिया था। पिछले महीने ही सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले पर अपना फैसला सुरक्षित रख लिया था।

 

विधानसभा स्पीकर ने 17 विधायकों को अयोग्य करार दिया था

कर्नाटक विधानसभा के स्पीकर ने तत्कालीन मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी के फ्लोर टेस्‍ट के दौरान 29 जुलाई को मतदान से पहले 17 बागी विधायकों को अयोग्य करार दिया था। ये सभी विधायक विश्वासमत के दौरान गैरहाजिर रहे, जिससे कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन की सरकार गिर गई थी। इसके बाद राज्य में भाजपा की सरकार बनी।

 

अयोग्य घोषित विधायकों में 14 कांग्रेस और 3 जदयू के
अयोग्य घोषित विधायकों ने 29 जुलाई को सुप्रीम कोर्ट में अपील की थी। जिन विधायकों को अयोग्य घोषित किया गया है, उनमें कांग्रेस के प्रताप गौडा पाटिल, बीसी पाटिल, शिवराम हैब्बर, एसटी सोमशेखर, ब्यराति बासवराज, आनंद सिंह, आर रोशन बेग, मुनिरत्ना, के सुधाकर, एमटीबी नागराज, श्रीमंत पाटिल, रमेश जार्किहोली, महेश कुमाताहल्ली और आर शंकर शामिल हैं। वहीं जदयू से एएच विश्वनाथ, गोपालैयाह और नारायण गौडा का नाम भी सूची में शामिल है।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना