पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • National
  • IIT IIM; Oxygen Cylinder Crisis India Update | Delhi High Court To Narendra Modi Govt Over Oxygen Tankers Management TO IIT OR IIM

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

राजधानी में सांसों का संकट:हाईकोर्ट की केंद्र को फटकार- आप शुतुरमुर्ग बन सकते हैं, हम नहीं; हर हाल में दिल्ली को 700 मीट्रिक टन ऑक्सीजन मिले

नई दिल्ली2 दिन पहले

दिल्ली में ऑक्सीजन संकट पर हाईकोर्ट ने केंद्र को कड़ी फटकार लगाई है। दिल्ली हाईकोर्ट ने मंगलवार को केंद्र से कहा कि आप शुतुरमुर्ग की तरह रेत में सिर डालकर बैठे रह सकते हैं हम नहीं। इसके बाद केंद्र सरकार को नोटिस जारी कर पूछा कि दिल्ली को ऑक्सीजन सप्लाई करने के आदेश का पालन नहीं करने पर क्यों न उसके खिलाफ अदालत की अवमानना का मामला चलाया जाए।

हाईकोर्ट ने केंद्र की उस दलील को भी नकार दिया जिसमें उसने कहा था कि मौजूदा इन्फ्रास्ट्रक्चर के साथ दिल्ली को 700 मीट्रिक टन ऑक्सीजन नहीं दी जा सकती। अदालत ने कहा, 'सुप्रीम कोर्ट पहले ही कह चुका है और अब हम भी यही कह रहे हैं कि केंद्र को हर हाल में अभी से दिल्ली को 700 मीट्रिक टन ऑक्सीजन सप्लाई करनी होगी।'

केंद्र ने दिल्ली को तय मात्रा में ऑक्सीजन सप्लाई नहीं की
केंद्र को फटकार लगाते हुए दिल्ली हाईकोर्ट ने कहा- निर्देश मानने के एफिडेविट का क्या फायदा है, जब वास्तविकता ये है कि 700 मीट्रिक टन ऑक्सीजन सप्लाई ही नहीं की गई। यहां तक कि पहले तय की गई 490 मीट्रिक टन ऑक्सीजन तक एक दिन भी डिलीवर नहीं की गई।

केंद्र सरकार के वकील की दलील ठुकराई
जब असिस्टेंट सॉलिसिटर जनरल ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली को 700 मीट्रिक टन ऑक्सीजन सप्लाई करने का आदेश नहीं दिया था। इस पर कोर्ट ने कहा, ‘हम इससे सहमत नहीं हैं। सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र को सप्लाई के जरिए संतुलन बनाने के स्पष्ट निर्देश दिए थे।

IIT और IIM को ऑक्सीजन मैनेजमेंट सौंप दे सरकार
कोर्ट ने केंद्र सरकार से कहा कि अगर आप ऑक्सीजन सप्लाई का मैनेजमेंट IIT और IIM को दे दें तो वे इसे बेहतर तरीके से संभाल लेंगे। इसमें IIM के एक्सपर्ट्स और ब्रिलियंट माइंड वाले लोगों को जोड़ना चाहिए। कोर्ट ने ये बातें दिल्ली के मायाराम हॉस्पिटल की तरफ से दायर पिटीशन पर सुनवाई करते हुए कहीं।

महाराष्ट्र की ऑक्सीजन दिल्ली को देने की सलाह
कोर्ट को एमिकस क्यूरी ने बताया कि महाराष्ट्र में ऑक्सीजन की डिमांड अभी कम है। ऐसे में वहां भेजी जा रही सप्लाई में कटौती कर दिल्ली को दी जा सकती है। क्यूरी ने ये भी कहा कि ऑक्सीजन को स्टोर किया जा सकता है। जिससे आपात स्थिति में किसी की जान न जाए। वहीं कोर्ट ने केंद्र सरकार को फटकार लगाते हुए कहा कि दिल्ली को 700 मीट्रिक टन ऑक्सीजन की सप्लाई देने के लिए कहा गया है। हर हाल में ये सप्लाई होनी चाहिए।

कोर्ट ने पिछले हफ्ते कहा था- पानी सिर से ऊपर चला गया
इस मामले में शनिवार को हुई सुनवाई के दौरान हाईकोर्ट ने सख्त टिप्पणी करते हुए कहा था कि पानी अब सिर से ऊपर चला गया है। अब हमें काम से मतलब है। अब आपको (केंद्र सरकार) हर चीज की व्यवस्था करनी होगी। हाईकोर्ट ने केंद्र को निर्देश दिया था कि किसी भी हाल में दिल्ली को 490 MT ऑक्सीजन पहुंचनी चाहिए। अगर इसका पालन नहीं किया गया तो अदालत अवमानना की कार्रवाई कर सकती है।

इससे पहले शुक्रवार को भी हाईकोर्ट ने तल्ख टिप्प्णी करते हुए कहा था कि सरकार पूरी फेल साबित हई है। देश संक्रमण में बहुत बड़ी तेजी का गवाह बन रहा है। इसने पूरे मेडिकल सिस्टम पर असर डाला है। किसी ने कल्पना भी नहीं की थी कि ये हम पर इस तरह से हमला करेगा।

रो पड़े थे सीनियर एडवोकेट
सुनवाई के दौरान स्टेट बार काउंसिल के चेयरमैन और सीनियर वकील रमेश गुप्ता रो पड़े थे। उन्होंने कोर्ट से कहा था कि हमारे पास बार काउंसिल के कई संक्रमित सदस्यों के फोन आ रहे हैं। उन्हें ऑक्सीजन सिलेंडर नहीं मिले तो वे मर जाएंगे। इस पर हाईकोर्ट ने कहा, ‘हम आपका दर्द समझते हैं। किसी ने नहीं सोचा था कि कोरोना वायरस के कारण इतने बुरे दिन आ जाएंगे।’

दिल्ली में 24 घंटे में 18 हजार मरीज मिले
दिल्ली में सोमवार को 18,043 लोग कोरोना पॉजिटिव पाए गए। 20,293 लोग ठीक हुए और 448 की मौत हो गई। अब तक 11 लाख 94 हजार लोग संक्रमण की चपेट में आ चुके हैं। इनमें 10 लाख 85 हजार ठीक हो चुके हैं, जबकि 17,414 मरीजों की मौत हो चुकी है। 89,592 का इलाज चल रहा है।

खबरें और भी हैं...

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- दिन सामान्य ही व्यतीत होगा। कोई भी काम करने से पहले उसके बारे में गहराई से जानकारी अवश्य लें। मुश्किल समय में किसी प्रभावशाली व्यक्ति की सलाह तथा सहयोग भी मिलेगा। समाज सेवी संस्थाओं के प्रति ...

और पढ़ें