• Hindi News
  • National
  • The Investigation Agency Was Challenged A Day Ago, Today ED Gave Notice And Called For Questioning Tomorrow.

संजय राउत को ED का समन:जमीन घोटाले के मामले में आज पूछताछ के लिए बुलाया, दो दिन पहले जांच एजेंसी को चुनौती दी थी

मुंबई7 महीने पहले

महाराष्ट्र में सियासी उठापटक झेल रही शिवसेना की मुश्किलें और बढ़ गई हैं। प्रवर्तन निदेशालय यानी ED ने सांसद संजय राउत को समन भेजकर पूछताछ के लिए बुलाया है। राउत को यह नोटिस पात्रा चॉल जमीन घोटाले के मामले में जारी किया गया है। उन्हें मंगलवार यानी आज ही पेश होने के लिए कहा गया है।

नोटिस के बाद राउत ने कहा कि मैं मंगलवार को जांच एजेंसी के सामने पेश नहीं हो सकूंगा, क्योंकि मुझे अलीबाग में एक मीटिंग में शामिल होना है। उन्होंने ED के समन को साजिश करार देते हुए ट्वीट किया, 'अब मैं समझता हूं कि ED ने मुझे समन क्यों भेजा है। अच्छा है। महाराष्ट्र में बड़े घटनाक्रम चल रहे हैं। बाला साहेब के हम सभी शिव सैनिक एक बड़ी लड़ाई में शामिल हो गए हैं। यह साजिश चल रही है। मेरी गर्दन कट जाए तो भी मैं गुवाहाटी के रास्ते पर नहीं जाऊंगा। चलो। मुझे गिरफ्तार करो! जय महाराष्ट्र!'

ED ने मुंबई की पात्रा चॉल की जमीन को लेकर 1,034 करोड़ रु. के घोटाले की बात कही है। इसी मामले में संजय राउत को नोटिस मिला है।
ED ने मुंबई की पात्रा चॉल की जमीन को लेकर 1,034 करोड़ रु. के घोटाले की बात कही है। इसी मामले में संजय राउत को नोटिस मिला है।

ED ने 5 अप्रैल को राउत की संपत्ति कुर्क की
ED ने 1,034 करोड़ रुपए के पात्रा चॉल भूमि घोटाला मामले में महाराष्ट्र के बिजनेसमैन और राउत के करीबी प्रवीण राउत को फरवरी में गिरफ्तार किया था, जिसके बाद इस केस में संजय राउत का नाम भी जुड़ा। 5 अप्रैल को ED ने इसी मामले में राउत के अलीबाग वाले प्लॉट के साथ दादर व मुंबई में एक-एक फ्लैट को भी कुर्क कर लिया था।

संजय राउत की पत्नी पर भी आरोप
जब ED ने प्रवीण को पकड़ा तो संजय राउत का नाम सामने आया। प्रवीण शिवसेना सांसद संजय राउत का दोस्त है। प्रवीण की पत्नी ने संजय राउत की पत्नी वर्षा को 83 लाख रुपए का कर्ज भी दिया था, जिसका इस्तेमाल राउत परिवार ने दादर में एक फ्लैट खरीदने के लिए किया था। जब जांच शुरू हुई तो वर्षा ने 55 लाख रुपए प्रवीण की पत्नी को लौटा दिए।

पात्रा चॉल मामले में गिरफ्तार हुए प्रवीण शिंदे और संजय राउत की पत्नी वर्षा के बीच बड़ी रकम के लेन-देन की बात कही गई थी।
पात्रा चॉल मामले में गिरफ्तार हुए प्रवीण शिंदे और संजय राउत की पत्नी वर्षा के बीच बड़ी रकम के लेन-देन की बात कही गई थी।

इस मामले का एक और आरोपी सुजीत पतकार भी संजय राउत से जुड़ा हुआ है। सुजीत संजय की बेटी की एक फर्म में पार्टनर है। सुजीत की पत्नी और संजय राउत की पत्नी ने एक साथ मिलकर अलीबाग में जमीन खरीदी। ये जमीन भी घोटाले के पैसे से ली गई थी।

क्या होती है मनी लॉन्ड्रिंग?
मनी लॉन्ड्रिंग बड़ी मात्रा में अवैध पैसे को वैध पैसा बनाने की प्रक्रिया है। सीधे शब्दों में कहें तो ब्लैक मनी को वाइट करने को मनी लॉन्ड्रिंग कहते हैं। ब्लैक मनी वो पैसा है, जिसकी कमाई का कोई स्रोत नहीं होता, यानी उस पर कोई टैक्स नहीं दिया गया है।

मनी लॉन्ड्रिंग के मामले में ऐसा लगता है कि पैसा किसी लीगल सोर्स से आया है, लेकिन वास्तव में पैसे का मूल सोर्स कोई आपराधिक या अवैध गतिविधि होती है। धोखेबाज इस प्रोसेस का इस्तेमाल अवैध रूप से इकट्ठा पैसे को छिपाने के लिए करते हैं।

सीधे शब्दों में कहें तो मनी लॉन्ड्रिंग पैसे के सोर्स को छिपाने की प्रोसेस है, जो अक्सर अवैध गतिविधियों जैसे ड्रग्स की तस्करी, भ्रष्टाचार, गबन या जुए से मिलता है। यानी अवैध तरीके से मिले पैसे को एक वैध स्रोत में परिवर्तित करने की प्रक्रिया को ही मनी लॉन्ड्रिंग कहते हैं।

मनी लॉन्ड्रिंग के जरिए ड्रग डीलर से लेकर बिजनेसमैन, भ्रष्ट अधिकारी, माफिया, नेता तक करोड़ों से लेकर अरबों रुपए तक के फ्रॉड करते हैं।