• Hindi News
  • National
  • Maharashtra Raigad Terror Boat Video Footage Update | Harihareshwar Beach

महाराष्ट्र में बोट पर मिलीं तीन AK-47:मस्कट से यूरोप जा रही थी ऑस्ट्रेलियाई बोट, हाई टाइड से भारत पहुंची; दुबई की एजेंसी के थे हथियार

मुंबईएक महीने पहलेलेखक: आशीष राय

महाराष्ट्र के रायगढ़ जिले के हरिहरेश्वर तट पर गुरुवार सुबह 8 बजे के करीब समुद्र में एक संदिग्ध बोट मिली। बोट से तीन AK-47 और बुलेट्स बरामद किए गए। हरिहरेश्वर तट से करीब 32 किलोमीटर दूर भारदखोल में एक लाइफ बोट भी मिली, जिसके बाद आतंकी साजिश की आशंका जताई गई।

पुलिस ने बोट को रस्सी के सहारे किनारे खींचा। इसमें काले रंग के बॉक्स में AK-47 और गोलियां थीं। पुलिस ने बताया कि जिस बॉक्स में हथियार रखे हुए थे, उस पर अंग्रेजी में नेप्च्यून मैरिटाइम सिक्योरिटी लिखा हुआ है। यह कंपनी ब्रिटेन की है।

इधर, मामले पर महाराष्ट्र के डिप्टी CM और इंडियन कॉस्ट गार्ड का भी बयान सामने आया है, जिसमें फिलहाल आतंकी साजिश जैसी कोई बात सामने नहीं आई है। हालांकि सुरक्षा के लिहाज से NIA और ATS की टीम मामले की जांच कर रही है।

पढ़िए महाराष्ट्र के डिप्टी CM ने पूरे मामले पर क्या कहा...

महाराष्ट्र के डिप्टी CM देवेंद्र फडणवीस ने घटना को लेकर बताया कि रायगढ़ जिले के श्रीवर्धन तालुका में 1 बोट मिली है। उसमें तीन AK-47 राइफल बरामद हुई हैं। उसके साथ उसका एम्युनेशन और बोर्ड के कुछ कागजात पाए गए हैं। बोट का नाम लेडी हान है और इसकी मालकिन एक ऑस्ट्रेलियाई महिला हाना लॉन्डर्सगन हैं। उनके पति जेम्स होबर्ट बोट के कप्तान हैं।

नाव से बरामद हथियार। इसमें तीन AK-47 और कुछ बॉक्स दिख रहे हैं, जिनमें बुलेट्स हैं।
नाव से बरामद हथियार। इसमें तीन AK-47 और कुछ बॉक्स दिख रहे हैं, जिनमें बुलेट्स हैं।

मस्कट से यूरोप जा रही थी बोट
फडणवीस ने कहा- यह बोट मस्कट से यूरोप जा रही थी। 26 जून 2022 को इस बोट का इंजन खराब हुआ और इस मौजूद लोगों ने डिस्ट्रेस कॉल किया। कोरियन नेवी की शिप ने इन लोगों को रेस्क्यू किया था। रेस्क्यू करने के बाद इन लोगों को ओमान के हवाले कर दिया गया था।

हाई टाइड की वजह से रायगढ़ तट पर पहुंची बोट फडणवीस ने बताया कि हाई टाइड होने के कारण इस बोट की टोइंग नहीं की जा सकी और यह तैरते हुए श्रीवर्धन के समुद्री तट पर पहुंच गई। इंडियन कोस्ट गार्ड ने इसकी पुष्टि की है। हमने अभी तक सुरक्षाबलों को हाई अलर्ट पर रखा है। नाकाबंदी भी जारी है। हम सभी एंगल को ध्यान में रखकर जांच को आगे बढ़ा रहे हैं। क्योंकि फेस्टिवल सीजन है कोई भी रिस्क नहीं लिया जा सकता।

टेरर एंगल के सवाल पर फडणवीस ने कहा- प्राथमिक जानकारी के अनुसार अभी तक हमें कोई टेरर एंगल नजर नहीं आया है, लेकिन जांच के बाद ही सबकुछ साफ हो सकेगा।

इसी बॉक्स में हथियार रखे हुए थे। बॉक्स पर अंग्रेजी में नेप्च्यून मरीटाइम सिक्योरिटी लिखा हुआ है। यह कंपनी ब्रिटेन की बताई जा रही है।
इसी बॉक्स में हथियार रखे हुए थे। बॉक्स पर अंग्रेजी में नेप्च्यून मरीटाइम सिक्योरिटी लिखा हुआ है। यह कंपनी ब्रिटेन की बताई जा रही है।

इंडियन कोस्ट गार्ड के कमांडर ने क्या बताया...

हथियार दुबई की सिक्योरिटी एजेंसी की
कोस्ट गार्ड के कमांडर जनरल परमेश शिवमणी ने कहा- 26 जून को इस बोट से हमें कॉल किया गया था। तब वो मुश्किल में थे और उन्होंने मदद मांगी थी। ओमान की खाड़ी में इस बोट पर मौजूद चार लोगों का रेस्क्यू किया गया था। बोट ब्रिटेन जा रही थी और इस पर ब्रिटेन का झंडा भी लगा था। बाद में यह हरिहरेश्वर चली गई।

इस पर तीन AK-47 के अलावा कुछ छोटे हथियार भी थे। बोट के मालिक से बातचीत की गई है। दुबई की एक सिक्योरिटी एजेंसी ने भी हमें फोन पर बताया कि इस सीरीज के हथियार उनके हैं और यह गायब हैं। इस एजेंसी ने साफ कर दिया है कि यह हथियार बोट पर मौजूद क्रू मेंबर्स की हिफाजत के लिए रखे गए थे।

संदिग्ध नाव की जानकारी मिलते ही पुलिस और प्रशासन की टीम तुरंत समुद्र तट पर पहुंची।
संदिग्ध नाव की जानकारी मिलते ही पुलिस और प्रशासन की टीम तुरंत समुद्र तट पर पहुंची।

आतंकी साजिश से इनकार नहीं: पुलिस
पुलिस ने इस घटना के पीछे आतंकी साजिश से इनकार नहीं किया है। स्थानीय लोगों से पूछताछ की जा रही है। इसके साथ ही पूरे रायगढ़ जिले को हाई अलर्ट पर रखा गया है। साथ ही समुद्र किनारे के सभी इलाकों की नाकेबंदी कर दी गई है। मौके पर एंटी टेरर स्क्वॉड ( ATS) भी पहुंच गई है। ATS चीफ विनीत अग्रवाल ने कहा कि ये आतंकी साजिश भी हो सकती है। बोट दूसरे देश की है या नहीं और इसका मकसद क्या था, हम इसकी भी जांच करेंगे।

1993 ब्लास्ट से पहले रायगढ़ में ही उतारे गए थे RDX
रायगढ़ के तट पर पहले भी संदिग्ध गतिविधियां होती रहीं हैं। कहा जाता है कि 1993 ब्लास्ट से पहले अंडरवर्ल्ड डॉन दाउद इब्राहिम के निर्देश पर यहीं के शेखाडी तट पर ब्लास्ट में इस्तेमाल किए गए RDX उतारे गए थे। 26/11 में कसाब समेत 10 आतंकी भी रायगढ़ के समुद्र को क्रॉस करके मुंबई पहुंचे थे। यह भी थ्योरी सामने आई थी कि कसाब और उसकी टीम ने यहीं अपनी एक नाव बदली थी।

2008 में मुंबई टेरर अटैक भी समुद्र के रास्ते किया गया
करीब 13 साल पहले यानी 26 नवंबर 2008 को मुंबई में आतंकी हमला हुआ था। आतंकियों ने ताज होटल समेत मुंबई के कई जगहों पर कत्लेआम मचाया था। इसमें 300 से ज्यादा लोग मारे गए थे। तब लश्कर-ए-तैय्यबा के 10 पाकिस्तानी आतंकी समुद्र के रास्ते ही यहां आए थे। इनमें से 9 मारे गए थे, जबकि सिर्फ अजमल कसाब को जिंदा पकड़ा गया था। 21 नवंबर 2012 को कसाब को फांसी पर लटका दिया गया था।