• Hindi News
  • National
  • The World's First Successful Heart Surgery, German Doctor Ludwig Ren Had 3 Stitches In The Patient's Heart

आज का इतिहास:दुनिया की पहली सफल हार्ट सर्जरी, जर्मन डॉक्टर लुडविग रेन ने पेशेंट के दिल में लगाए थे 3 टांके

2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

7 सितंबर, 1896। जर्मनी के स्टेट हॉस्पिटल में डॉक्टर लुडविग रेन अपनी डेली ड्यूटी पर थे। सुबह 4 बजे उनके पास एक पेशेंट विल्हम जस्टस को लाया गया। 22 साल के विल्हम को दिल में चाकू लगा था, जिसमें से इतना खून बह रहा था कि उसके पूरे कपड़े खून में रंग गए थे। उसकी धड़कन बहुत धीमी चल रही थी, चमड़ी का रंग फीका पड़ चुका था और सांस लेने में परेशानी हो रही थी।

चाकू के घाव की वजह से खून बहना बंद नहीं हो रहा था। मरीज की जान खतरे में थी। डॉक्टर रेन ने फैसला लिया कि मरीज का ऑपरेशन करना पड़ेगा।

डॉक्टर रेन ने विल्हम के घाव के पास 14 सेंटीमीटर लंबा चीरा लगाया। घाव में खून जमकर काला हो चुका था। डॉक्टर ने पेरिकार्डियम को उंगली से चेक किया। चाकू ने पेरिकार्डियम को चीरते हुए दिल को भी डैमेज कर दिया था। जैसे ही डॉक्टर ने उंगली से पेरिकार्डियम को दबाया, घाव स्पष्ट दिखने लगा और दबाव की वजह से खून भी बहने लगा। पेरिकार्डियम के भीतर दिल का घाव भी साफ-साफ दिखाई दे रहा था। डॉक्टर रेन ने दिल में 3 टांके लगाए तब जाकर खून निकलना बंद हुआ।

अगले 2 हफ्तों तक डॉक्टर रेन ने मरीज को अपनी निगरानी में रखा। मरीज की हालत में धीरे-धीरे सुधार होने लगा और उसे हॉस्पिटल से छुट्टी दे दी गई। ये दुनिया की पहली सफल हार्ट सर्जरी थी।

डॉक्टर रेन ने अपनी प्रेजेंटेशन में सर्जरी को कुछ इस तरह दिखाया था।
डॉक्टर रेन ने अपनी प्रेजेंटेशन में सर्जरी को कुछ इस तरह दिखाया था।

हालांकि, 10 जुलाई 1893 को शिकागो के डॉक्टर डैनियल विलियम्स ने भी इसी तरह का एक ऑपरेशन किया था। 10 जुलाई की रात उनके पास एक पेशेंट को लाया गया जिसे सीने में चाकू लगा था। डैनियल विलियम्स ने उस शख्स का ऑपरेशन किया, लेकिन डैनियल ने पेशेंट के दिल में टांके नहीं लगाए थे। इस वजह से इसे पहली हार्ट सर्जरी नहीं माना जाता।

इसके बाद अलग-अलग सर्जन ने दिल की सर्जरी की थी, लेकिन ऑपरेशन के कुछ दिनों बाद ही पेशेंट की मौत हो गई। डॉक्टर रेन के ऑपरेशन को दुनिया की पहली सफल हार्ट सर्जरी माना जाता है।

1931: लंदन में शुरू हुआ था दूसरा गोलमेज सम्मेलन

ब्रिटेन ने भारत में संवैधानिक सरकार के लिए 1930 में प्रयास शुरू कर दिए थे। इस पर बातचीत के लिए तीन गोलमेज सम्मेलन हुए। इन्हीं सम्मेलनों का नतीजा था कि 1935 में गवर्नमेंट ऑफ इंडिया एक्ट पारित हुआ। इसमें जनता की प्रांतीय स्वायत्तता की मांग को मान लिया गया था।

दूसरे गोलमेज सम्मेलन के दौरान उपस्थित सदस्य।
दूसरे गोलमेज सम्मेलन के दौरान उपस्थित सदस्य।

1931 में आज ही के दिन से लंदन में दूसरा गोलमेज सम्मेलन शुरू हुआ था, जिसमें महात्मा गांधी के साथ-साथ कांग्रेस के नेता भी शामिल हुए थे। हालांकि, यह सम्मेलन पूरी तरह नाकाम रहा था। भारत लौटते ही महात्मा गांधी और कांग्रेस के कई नेताओं को कैद कर लिया गया था।

इसी सम्मेलन के दौरान गांधीजी के बारे में फ्रैंक मॉरिस ने कहा था, 'एक अधनंगे फकीर को ब्रिटिश प्रधानमंत्री से बातचीत के लिए सेंट जेम्स पैलेस की सीढ़ियां चढ़ने का नजारा अपने आप में अनोखा और दिव्य प्रभाव पैदा करने वाला था।'

2008: भारत-अमेरिका में न्यूक्लियर डील

यूपीए सरकार के पहले कार्यकाल में आज ही के दिन 2008 में अमेरिका और भारत के बीच न्यूक्लियर डील के लिए हस्ताक्षर हुए थे। मनमोहन सिंह उस वक्त देश के प्रधानमंत्री थे और लेफ्ट पार्टियों के विरोध के बावजूद अमेरिका से न्यूक्लियर डील की गई थी।

ये डील अमेरिकी राष्ट्रपति जॉर्ज बुश और भारतीय प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के बीच साइन की गई थी। फोटो मार्च 2006 की है।
ये डील अमेरिकी राष्ट्रपति जॉर्ज बुश और भारतीय प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के बीच साइन की गई थी। फोटो मार्च 2006 की है।

इस डील के बाद भारत ने अपनी नागरिक और सैन्य परमाणु गतिविधियों को अलग किया। अमेरिका ने भारत को न्यूक्लियर रिएक्टर बेचने, टेक्नोलॉजी के ट्रांसफर और यूरेनियम की बिक्री पर सहमति जताई थी।

2011: विमान हादसे में रूसी हॉकी टीम की मौत

2011 में आज ही के दिन एक विमान हादसे में रूस के आइस हॉकी क्लब की पूरी टीम की जान चली गई थी। मॉस्को से करीब 300 किलोमीटर उत्तर में स्थित यारोसलावल शहर के पास तुनोशना एयरपोर्ट से उड़ान भरने के तुरंत बाद रूसी विमान याकोवलेव याक-42 क्रैश हो गया। इस हादसे में लोकोमोटिव यारोस्लाव आइस हॉकी की पूरी टीम समेत 43 लोगों की मौत हो गई थी। मृतकों में 11 देशों के खिलाड़ी और कोच शामिल थे।

7 सितंबर के दिन को इतिहास में और किन-किन महत्वपूर्ण घटनाओं की वजह से याद किया जाता है...

2012ः दक्षिण-पश्चिम चीन में भूकंप से 64 लोग मारे गए और 715 घायल हो गए।

2006: आतंकियों ने मालेगांव में दरगाह के पास ब्लास्ट किया। इसमें 37 लोग मारे गए।

2005ः मिस्र में पहली बार राष्ट्रपति चुनाव हुआ।

2004ः फिजी के विजय सिंह टाइगर वुड्स को पीछे छोड़कर विश्व के नंबर एक गोल्फर बने।

2002ः अयाजुद्दीन अहमद बांग्लादेश के नए राष्ट्रपति बने।

1998ः अंतर संसदीय यूनियन (आई.पी.यू.) का 100वां सम्मेलन मॉस्को में शुरू।

1979: ईएसपीएन (एंटरटेनमेंट एंड स्पोर्ट्स प्रोग्रामिंग नेटवर्क) की केबल टीवी पर शुरुआत स्कॉट रासमुसैन और उनके पिता बिल ने की।

1965ः चीन ने भारतीय सीमा पर सेना को तैनात करने की घोषणा की।

1950ः हंगरी में सभी मठों काे बंद किया गया।

1943ः टेक्सास के ह्यूस्टन में एक होटल में आग लगने से 45 लोगों की मौत।

1923ः वियना में इंटरपोल की स्थापना।

1906ः बैंक ऑफ इंडिया की स्थापना हुई।

1902ः ऑस्ट्रेलिया में भयानक सूखा पड़ने के बाद देशभर के लोगों ने बारिश के लिए एक साथ ईश्वर से प्रार्थना की।

खबरें और भी हैं...