गुजरात / राज्य में 35 साल बाद बाघ होने की पुष्टि; शेर, बाघ, तेंदुए की मौजूदगी वाला पहला राज्य बना



संतरामपुर इलाके में बाघ के पंजों के निशान मिले। संतरामपुर इलाके में बाघ के पंजों के निशान मिले।
X
संतरामपुर इलाके में बाघ के पंजों के निशान मिले।संतरामपुर इलाके में बाघ के पंजों के निशान मिले।

  • गुजरात वन विभाग के अनुसार, महिसागर जिले के संतरामपुर के जंगल में यह बाघ देखा गया
  • शिक्षक महेश महेराव ने पहली बार 8 फरवरी को गढ़ गांव के रास्ते पर अपने मोबाइल से बाघ की तस्वीर खींची थी
  • ऐसा कहा जा रहा है कि यह बाघ मध्यप्रदेश से 500 किमी चलकर गुजरात पहुंचा
     

Dainik Bhaskar

Feb 13, 2019, 03:30 PM IST

वडोदरा.   गुजरात में 35 साल बाद बाघ होने की पुष्टि हुई है। इससे पहले बाघ 1983 में मिला था। वन विभाग के अनुसार, महिसागर जिले के संतरामपुर के जंगल में यह बाघ देखा गया। राज्य के दूसरे इलाकों में कहीं और बाघ तो नहीं हैं, इसका पता लगाने के लिए एक सर्वे शुरू किया गया है। इसी के साथ गुजरात देश का पहला राज्य बन गया है, जहां के जंगलों में शेर, बाघ और तेंदुआ मौजूद हैं। 

 

शिक्षक महेश महेराव ने पहली बार 8 फरवरी को गढ़ गांव के रास्ते पर अपने मोबाइल से बाघ की तस्वीर खींची थी। इसके बाद वन विभाग ने इसकी जानकारी जुटानी शुरू की। वन विभाग ने इसकी जांच करने के बाद लुणावाड़ा और संतरामपुर के 59 हजार हेक्टेयर इलाके में 200 जवानों के साथ सर्च ऑपरेशन शुरू किया था। 

 

बाघ के पैर के पंजों के निशान मिले
जंगल में पेड़ पर नाखून के निशान, फूट प्रिंट और ड्रॉपिंग मिलने के बाद हैदराबाद, गांधीनगर और देहरादून साइंस लैब की मदद ली गई। संतरामपुर के जंगल में बाघ के पैर के पंजों के निशान मिले। रात को 5 नाइट विजन कैमरा लगाए जाने के बाद बाघ, तेंदुआ और झरख के फुटेज मिले। उप वन संरक्षक आरएम परमार ने कहा कि हम गर्व से कह सकते हैं कि महिसागर जिले में बाघ है। मंगलवार को संतरामपुर के 54 गांवों में सर्वे किया गया। 

 

मध्यप्रदेश से 500 किमी चलकर आने की संभावना

 

  • बाघ कहां से आया : माना जा रहा है कि बाघ मध्यप्रदेश के रातापानी अभयारण्य से यहां आया है। करीब 500 किमी सफर कर बाघ के संतरामपुर आने की संभावना है।
  • सफर किस तरह से तय किया : अनुमान लगाया जा रहा है कि बाघ नर्मदा नदी के किनारे-किनारे आया और इसके बाद गुजरात में प्रवेश कर संतरामपुर की ओर घुसा। 
  • क्या एक ही बाघ है :  फिलहाल एक ही बाघ होने के सबूत मिले हैं।
  • बाघ देखने संतरामपुर जा सकते है :  नहीं, फिलहाल जंगल में घूमने के लिए प्रतिबंध है।

 

वनमंत्री ने भी पुष्टि की
वनमंत्री, गणपत वसावा ने बताया कि 7-8 साल की उम्र का एक बाघ महिसागर जिले में दिखा है। उज्जैन से एक बाघ गुम होने की जानकारी मध्यप्रदेश सरकार ने पहले ही दी है। हमने नेशनल टाइगर कंजर्वेशन अथॉरिटी से इस मामले में मदद मांगी है।

 

गिरनार से 40 किमी चल दूर गांव पहुंचा शेर 

पोरबंदर के गिरनार से शेर करीब 30-40 किमी चलकर दरिया किनारे बसे पोरबंदर जिले के माधवपुर (घेड) तक पहुंच गया। मंगलवार सुबह शेर को देखते ही गांव में अफरातफरी मच गई। इससे शेर घबरा गया और दो लोगों पर हमला कर दिया।

 

gujrat

 

COMMENT