पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • National
  • Today History 14 April Aaj Ka Itihas Facts Update Assassination Of Abraham Lincoln, Dhaka Kolkata Train

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

इतिहास में आज:क्लास में आखिरी पंक्ति में बैठाए जाते थे अंबेडकर, अपना पहला लोकसभा चुनाव हार गए थे भारत के संविधान निर्माता

23 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

साल 1951-52। नया-नया आजाद हुआ मुल्क भारत, लोकतंत्र को अपनाकर पहले उत्सव की तैयारियों में लगा था। तमाम संदेह और आशंकाओं के बावजूद देश के लिए ये गौरव का पल था। फरवरी 1952 में चुनाव संपन्न हुए। नतीजे आए और कांग्रेस चुनाव जीत गई। नतीजों में चौंकाने वाली बात ये थी कि लोकतंत्र की आत्मा यानी संविधान को लिखने वाला नेता खुद अपना पहला चुनाव हार गया था। हम बात कर रहे हैं- संविधान निर्माता बाबा साहब भीमराव अंबेडकर की।

बचपन से ही गरीबी और असमानता का साथ

14 भाइयों में सबसे छोटे अंबेडकर का जन्म आज ही के दिन इंदौर के पास छोटे से कस्बे महू में हुआ था। दलित परिवार में जन्म होने की वजह से उन्हें बचपन से ही भेदभाव का सामना करना पड़ा। अंबेडकर को स्कूल में सबसे आखिरी पंक्ति में बैठना पड़ता था। पढ़ाई में बचपन से ही अच्छे अंबेडकर मुंबई के गवर्नमेंट हाईस्कूल के पहले दलित छात्र थे।

देश में महिला सशक्तिकरण का पहला प्रयास- हिंदू कोड बिल

5 फरवरी 1951 को डॉ. अंबेडकर ने संसद में हिन्दू कोड बिल पेश किया। इसमें महिलाओं को पारिवारिक संपत्ति में अधिकार, तलाक का अधिकार, बहु विवाह पर रोक, विधवा विवाह को मान्यता जैसी बातों को हिन्दू कोड बिल में लाने की तैयारी थी। बिल संसद में पेश हुआ तो हंगामा शुरू हो गया। संसद में 3 दिन तक बहस चली।

विरोध करने वालों का तर्क था कि सिर्फ हिन्दुओं के लिए कानून क्यों लाया जा रहा है। इस कानून को सभी धर्मों पर लागू किया जाना चाहिए। बिल का विरोध बढ़ता जा रहा था। देशभर में बिल के विरोध में प्रदर्शन होने लगे। विरोध के चलते बिल उस समय पास नहीं हो सका। बाद में अंबेडकर ने हिंदू कोड बिल समेत अन्य मुद्दों को लेकर कानून मंत्री के पद से इस्तीफा दे दिया। देश के शोषितों और वंचितों की ये आवाज 6 दिसंबर 1956 को दिल्ली में हमेशा के लिए शांत हो गई। 1990 में उन्हें मरणोपरांत भारत के सर्वोच्च नागरिक सम्मान भारत रत्न से सम्मानित किया गया।

अमेरिका के 16वें राष्ट्रपति अब्राहम लिंकन को आज ही के दिन नाटक देखते वक्त गोली मार दी गई थी।
अमेरिका के 16वें राष्ट्रपति अब्राहम लिंकन को आज ही के दिन नाटक देखते वक्त गोली मार दी गई थी।

अब्राहम लिंकन की हत्या

Democracy is government of the people, for the people, and by the people. सामाजिक विज्ञान की किताब में लोकतंत्र की ये परिभाषा तो आपने पढ़ी ही होगी। इस परिभाषा को देने वाले अमेरिका के 16वें राष्ट्रपति अब्राहम लिंकन पर आज ही के दिन जानलेवा हमला हुआ था। राष्ट्रपति वॉशिंगटन के फोर्ड थियेटर में ‘अवर अमेरिकन कजिन’ नाटक देख रहे थे। गोली मारने वाला जॉन वाइक्स बूथ पेशेवर नाट्यकर्मी था। रात सवा दस बजे मौका देखकर जॉन ने लिंकन को सिर पर पीछे से गोली मार दी। लिंकन को अस्पताल ले जाया गया, जहां अगली सुबह यानी 15 अप्रैल को उनका निधन हो गया। लिंकन को गोली मारने वाले जॉन वाइक्स बूथ को दस दिन बाद अमेरिकी सैनिकों ने मुठभेड़ में मार गिराया।

अब्राहम लिंकन का जन्म अमेरिका के केंटकी में हुआ था। लिंकन 9 साल के थे, तभी उनकी मां की भी मृत्यु हो गई। मार्च 1830 में वो अपने परिवार के साथ मैकॉन काउंटी में रहने चले गए। वे यहां मजदूरी का काम करने लगे। लिंकन को दो बार सीनेट के चुनावों में हार भी मिली। 4 मार्च 1861 को वे अमेरिका के राष्ट्रपति बने।

मोक्षगुंडम विश्वेश्वरैया का निधन

आज ही के दिन 1962 में ‘आधुनिक भारत के विश्वकर्मा’ नाम से विख्यात मोक्षगुंडम विश्वेश्वरैया का निधन हो गया था। इनके जन्मदिन 15 सितंबर को इंजीनियर्स डे के रुप में मनाया जाता है। उन्होंने पानी रोकने वाले ऑटोमेटिक फ़्लडगेट का डिजाइन तैयार कर पेंटेंट कराया था, जो 1903 में पहली बार पुणे के खड़कवासला जलाशय में इस्तेमाल किया गया। उन्हें कृष्णराज सागर बांध के निर्माण का मुख्य स्तंभ भी माना जाता है। उन्होंने हैदराबाद शहर को बाढ़ से बचाने का सिस्टम भी दिया था। 1955 में विश्वेश्वरैया को भारत रत्न से सम्मानित किया गया।

कोलकाता और ढाका के बीच रेल सेवा की शुरुआत

स्वतंत्र बांग्लादेश बनने के बाद पहली बार 14 अप्रैल 2008 को भारत और बांग्लादेश के बीच रेल सेवा शुरू हुई। हालांकि 1965 तक ढाका और कोलकाता के बीच रेल संपर्क था, लेकिन 1965 के भारत-पाकिस्तान युद्ध के समय ट्रेन का संचालन रोक दिया गया था। भारत-बांग्लादेश के बीच बंधन एक्सप्रेस ट्रेन का संचालन भी किया जाता है।

इतिहास में 14 अप्रैल के दिन हुई अन्य घटनाएं

2014: इस्लामी संगठन बोको हराम ने नाइजीरिया में चिबोक स्थित एक बोर्डिंग स्कूल से 275 लड़कियों का अपहरण कर लिया।

2010: चीन के किगगाई में 6.9 तीव्रता का भूकंप आया। लगभग 2700 लोगों की मौत।

2010: पश्चिम बंगाल, बिहार, झारखंड और उड़ीसा में चक्रवाती तूफान में 123 लोगों की जान गई।

2006: चीन में प्रथम बौद्ध विश्व सम्मेलन शुरू हुआ।

2005: भारत और अमेरिका ने अपने-अपने उड़ान क्षेत्र एक-दूसरे की एयरलाइनों के लिए खोलने का ऐतिहासिक समझौता किया।

1995: भारत ने एशिया कप के फाइनल मुकाबले में श्रीलंका को हराया। इसी के साथ भारत चौथी बार एशिया कप का चैंपियन बना।

1988: सोवियत संघ ने अमेरिका, पाकिस्तान और अफगानिस्तान के साथ जिनेवा में एक समझौते पर हस्ताक्षर कर अफगानिस्तान से अपनी सेना की वापसी पर सहमति जताई।

1963: हिन्दी के प्रमुख साहित्यकार राहुल सांकृत्यायन का निधन।

1958: सोवियत उपग्रह स्पूतनिक-2 अपने अंतरिक्ष अभियान के 162 दिन बाद नष्ट हुआ।

1944: बॉम्बे पोर्ट (बंदरगाह) पर गोला बारूद से लदे एक जहाज में विस्फोट हो गया। इसमें 800 से भी ज्यादा लोग मारे गए।

1922: प्रसिद्ध भारतीय संगीतकार, शास्त्रीय गायक और सरोद वादक अली अकबर खां का जन्म।

1919: हिन्दी फिल्मों की मशहूर गायिका शमशाद बेगम का जन्म।

1912: ब्रिटेन के साउथैम्पटन से अमेरिका के न्यूयॉर्क के लिए अपनी पहली यात्रा पर निकला यात्री पोत टाइटैनिक हिमखंड से टकराकर डूब गया।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- सकारात्मक बने रहने के लिए कुछ धार्मिक और आध्यात्मिक गतिविधियों में समय व्यतीत करना उचित रहेगा। घर के रखरखाव तथा साफ-सफाई संबंधी कार्यों में भी व्यस्तता रहेगी। किसी विशेष लक्ष्य को हासिल करने ...

और पढ़ें