• Hindi News
  • National
  • Bengal Gazette; Today History Aaj Ka Itihas 29 January | Bengal Gazette, The First Newspaper Of India Story

आज का इतिहास:अंग्रेजी हुकूमत को हिला देने वाला देश का पहला अखबार 'बंगाल गजट' शुरू हुआ, खबरों से परेशान होकर लगा दिया था बैन

4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

भारत के पहले समाचार पत्र 'हिक्की का बंगाल गजट' की शुरुआत साल 1780 में हुई थी। न्यूजपेपर की भाषा ब्रिटिश इंग्लिश थी। इसे जेम्स ऑगस्टस हिक्की ने शुरू किया था। उस वक्त इस अखबार ने अपनी खबरों से अंग्रेजी हुकूमत के शीर्ष पर मौजूद कई ताकतवर लोगों को हिला कर रख दिया था।

अखबार ने कई लोगों के भ्रष्टाचार, घूसकांड और मानवाधिकार उल्लंघनों को उजागर किया था। बंगाल गजट ने उस वक्त भारत के गवर्नर जनरल वॉरेन हेस्टिंग्स पर आरोप लगाया था कि उन्होंने भारतीय सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस को घूस दी है। बंगाल गजट अपनी प्रभावी पत्रकारिता के जरिए अंग्रेज सरकार की आंखों में चुभने लगा था। खासतौर पर वॉरेन हेस्टिंग्स पर ज्यादा असर पड़ रहा था।

आखिरकार, जब अखबार में एक अज्ञात लेखक ने यह लिख दिया कि सरकार हमारे भले के बारे में नहीं सोच सकती तो हम भी सरकार के लिए काम करने के लिए बाध्य नहीं हैं, तब ईस्ट इंडिया कंपनी ने दो साल बाद इस अखबार को बंद करने का फैसला सुना दिया।

भारत का पहला अखबार निकालने वाले जेम्स हिक्की आयरिश मूल के थे।
भारत का पहला अखबार निकालने वाले जेम्स हिक्की आयरिश मूल के थे।

हिक्की जेल से 9 महीने तक अखबार निकालते रहे
इसके साथ ही हेस्टिंग्स ने हिक्की पर परिवाद का मुकदमा दायर कर दिया। हिक्की को दोषी पाया गया और उन्हें जेल जाना पड़ा। जेल जाने के बाद भी हिक्की के हौसले पस्त नहीं हुए। वह जेल से ही 9 महीने तक अखबार निकालते रहे।

इसके बाद सुप्रीम कोर्ट को एक विशेष आदेश के जरिए उनके प्रिंटिंग प्रेस को ही सील करवाना पड़ा। 30 मार्च 1782 को बंगाल गजट पर पूरी तरह से बैन लगा दिया गया। कुछ हफ्ते बाद प्रिंटिंग प्रेस और पूरे पब्लिकेशन की सरकार ने नीलामी कर दी और इसे इंडियन गजट ने खरीद लिया।

हेस्टिंग्स को महाभियोग का सामना करना पड़ा
बंगाल गजट ने बंद होने से पहले हेस्टिंग्स और सुप्रीम कोर्ट के बीच मिलीभगत के इतने सबूत जारी कर दिए थे कि इंग्लैंड सरकार को इस मामले में दखल देना पड़ा। साथ ही संसद सदस्यों ने इस मामले में जांच बिठा दी। जांच पूरी होने के बाद हेस्टिंग्स और सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस, दोनों को ही महाभियोग का सामना करना पड़ा।

जॉर्ज फर्नांडिस की आज पुण्यतिथि
मजदूर नेता से देश के शीर्ष मंत्रालय की जिम्मेदारी बखूबी संभालने वाले जॉर्ज फर्नांडिस का आज ही के दिन 2019 में निधन हो गया था। 1967 से 2004 तक 9 बार चुनाव जीतकर लोकसभा पहुंचे फर्नांडिस का जन्म 3 जून 1930 को कर्नाटक के मंगलौर में हुआ था। वे 2009 से 2010 तक बिहार से राज्यसभा सांसद भी रहे। अटल सरकार में 1998 से 2004 तक रक्षामंत्री रहे।

करगिल युद्ध और पोखरण परमाणु विस्फोट उन्हीं के कार्यकाल के दौरान हुआ था। ताबूत घोटाले का मामला उजागर होने पर उन्होंने पद से इस्तीफा दे दिया था। वे जनता दल के मुख्य सदस्यों में से एक थे। उन्होंने समता पार्टी की स्थापना की थी। अपने पॉलिटिकल करियर में जॉर्ज फर्नांडिस ने रक्षा के अलावा रेलवे, उद्योग, संचार जैसे अहम मंत्रालय भी संभाले।

भारत और दुनिया में 29 जनवरी की महत्वपूर्ण घटनाएं इस प्रकार हैं:

2007: एक्ट्रेस शिल्पा शेट्टी ने लंदन का बिग ब्रदर रियलिटी शो जीता।

2006: इरफान पठान ने टेस्ट क्रिकेट के पहले ओवर में हैट्रिक बनाई। ऐसा करने वाले वे दुनिया के पहले गेंदबाज थे।

2005: नक्सलियों ने भाजपा के पूर्व अध्यक्ष और अभी उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू के हेलिकॉप्टर को बम से उड़ा दिया था। इस घटना में वह सकुशल बच गए थे।

1994: भारत सरकार ने एयर कॉर्पोरेशन एक्ट 1953 को सस्पेंड कर दिया।

1993: भारतीय क्रिकेटर विनोद कांबली ने टेस्ट डेब्यू किया था।

1970: इंडियन शूटर और एथेंस ओलंपिक 2004 के सिल्वर मेडल विनर राज्यवर्धन सिंह राठौड़ का जन्म हुआ था।