पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • International
  • Trump Said What He Said On Capitol Hills Was Reasonable And Impeachment On Me Would Be Terrible.

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

ट्रम्प पर लटकी तलवार:राष्ट्रपति को पद से हटाने के लिए संसद में बहस जारी; ट्रम्प बोले- महाभियोग चलाना भयानक होगा

वॉशिंगटन15 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
ट्रम्प अमेरिका के पहले राष्ट्रपति हैं जो लगातार दूसरी बार महाभियोग का सामना कर रहे हैं। - Dainik Bhaskar
ट्रम्प अमेरिका के पहले राष्ट्रपति हैं जो लगातार दूसरी बार महाभियोग का सामना कर रहे हैं।

अमेरिकी संसद के निचले सदन हाउस ऑफ रिप्रेजेंटेटिव्ज (HOR) में राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प को हटाने के लिए महाभियोग प्रस्ताव पर बहस शुरू हो गई है। प्रस्ताव में ट्रम्प पर हिंसा भड़काने का आरोप है। जिसके चलते पिछले हफ्ते संसद पर उग्रवादियों ने हमला कर दिया था। इसमें 5 लोगों की जान चली गई थी। बहस शुरू होने से पहले ट्रम्प ने मीडिया से बातचीत में एक बार फिर से चेतावनी दे दी। उन्होंने कहा कि कैपिटल हिल के बाहर जो कहा था, वह वाजिब था। मुझ पर महाभियोग चलाना खतरनाक कदम होगा। इससे लोगों में गुस्सा फूटेगा। हालांकि, ट्रम्प ने यह भी कहा कि वो किसी भी तरह की हिंसा नहीं चाहते हैं।

माइक पेंस संभालें राष्ट्रपति का पद
महाभियोग प्रस्ताव में कहा गया है कि नए राष्ट्रपति जो बाइडेन के चार्ज लेने तक उपराष्ट्रपति माइक पेंस को राष्ट्रपति की जिम्मेदारी संभाल लेनी चाहिए। मुख्य विपक्षी दल डेमोक्रेट्स के सदस्यों का कहना है कि मौजूदा हालात को देखते हुए पेंस को तुरंत संविधान के 25वें संशोधन का इस्तेमाल करते हुए राष्ट्रपति ट्रम्प को इस पद से अयोग्य घोषित करें और खुद चार्ज संभालें।

क्या है अमेरिकी संविधान का 25वां संशोधन ?
25वें संशोधन के तहत उपराष्ट्रपति को राष्ट्रपति बनने का अधिकार होता है। ये स्थिति तब आती है जब राष्ट्रपति अपनी जिम्मेदारियों को निभाने में सक्षम नहीं होता। मसलन अगर राष्ट्रपति शारीरिक या मानसिक बीमारी के कारण जिम्मेदारी नहीं संभाल पा रहे हों। सदन में इस समय 25वें संशोधन के सेक्शन 4 पर बहस हो रही है जो उप-राष्ट्रपति को अधिकार देता है कि वो कैबिनेट की बहुमत के साथ मिलकर राष्ट्रपति ट्रम्प को तुरंत अयोग्य घोषित कर सकते हैं।

अगर प्रस्ताव पास हो जाता है तब क्या होगा ?
प्रस्ताव पास होने पर उप-राष्ट्रपति को संसद अध्यक्ष और ऊपरी सदन सीनेट के पीठासीन अधिकारी को एक पत्र लिखकर बताना होगा कि राष्ट्रपति काम करने के लिए योग्य नहीं हैं या अपने पद की जिम्मेदारी नहीं निभा पा रहे हैं। इसलिए उन्हें अयोग्य घोषित किया जा रहा है। ऐसा करने के बाद उपराष्ट्रपति तुरंत राष्ट्रपति बन जाएंगे। इन सबके बीच राष्ट्रपति को लिखित जवाब देने का मौका दिया जाता है। अगर वो इस फैसले को चुनौती देते हैं तो फिर से इसका फैसला संसद को करना होगा।

कितनी बहुमत जरूरी?
सीनेट और निचले सदन में राष्ट्रपति को हटाने के किसी प्रस्ताव को पारित करने के लिए दो-तिहाई बहुमत की ज़रूरत होती है।

इधर... ट्रम्प ने फिर दी चेतावनी

  • डोनाल्ड ट्रम्प ने अपने खिलाफ महाभियोग की प्रक्रिया शुरू होने के बाद मंगलवार को चेतावनी दी है। उन्होंने कहा कि कैपिटल हिल के बाहर जो कहा था, वह वाजिब था और मुझ पर महाभियोग चलाना भयानक कदम होगा। इससे लोगों में गुस्सा फूटेगा।
  • ट्रम्प ने यह भी कहा है कि वो किसी भी तरह की हिंसा नहीं चाहते हैं। डोनाल्ड ट्रम्प का ये बयान अमेरिकी संसद कैपिटल हिल्स में 7 जनवरी को हुई हिंसा के बाद आया है।
  • ट्रम्प मंगलवार को टेक्सास की बॉर्डर वॉल के दौरान पर निकले हैं। इससे पहले उन्होंने रिपोर्टर्स से बातचीत की। हालांकि, उन्होंने इस सवाल का कोई जवाब नहीं दिया है कि वो राष्ट्रपति पद से इस्तीफा देंगे या नहीं।
  • जब पूछा गया कि क्या वो कैपिटल हिल्स में हुई हिंसा के लिए खुद को किसी भी तरह से जिम्मेदार मानते हैं? ट्रम्प ने कहा कि अमेरिकी संसद के बाहर मैंने अपने समर्थकों से जो शब्द बोले थे, वे पूरी तरह से उचित थे। अगर आप पोर्टलैंड और िसएटल में हुई भयानक हिंसा को देखें तो उस वक्त बड़े राजनीतिज्ञों ने जो बयान दिए थे, दरअसल असल समस्या वही है। उन्होंने जो कहा, वही प्रॉब्लम है।

7 जनवरी को क्या हुआ था?
अमेरिका में वोटिंग (3 नवंबर) के 64 दिन बाद संसद जो बाइडेन की जीत पर मुहर लगाने जुटी, तो अमेरिकी लोकतंत्र शर्मसार हो गया। ट्रम्प के समर्थक दंगाइयों में तब्दील हो गए। कैपिटल हिल में तोड़फोड़ और हिंसा की। कैपिटल हिल बिल्डिंग में अमेरिकी संसद के दोनों सदन हाउस ऑफ रिप्रेजेंटेटिव्स और सीनेट हैं। ट्रम्प समर्थकों के हंगामे के चलते कुछ वक्त तक संसद की कार्यवाही रोकनी पड़ी थी।

206 साल बाद अमेरिकी संसद में हिंसा हुई
यूएस कैपिटल हिस्टोरिकल सोसाइटी के डायरेक्टर सैम्युअल हॉलिडे ने CNN को बताया था कि 24 अगस्त 1814 में ब्रिटेन ने अमेरिका पर हमला कर दिया था। अमेरिकी सेना की हार के बाद ब्रिटिश सैनिकों ने यूएस कैपिटल में आग लगा दी थी। तब से अब तक पिछले 206 साल में अमेरिकी संसद पर ऐसा हमला नहीं हुआ।

पिछले साल भी लाया गया था महाभियोग प्रस्ताव
ट्रम्प के खिलाफ पिछले साल भी महाभियोग प्रस्ताव लाया गया था। HOR में डेमोक्रेट्स के बहुमत के चलते यह पास हो गया था, लेकिन सीनेट में रिपब्लिकंस की मेजोरिटी के चलते प्रस्ताव गिर गया। ट्रम्प पर आरोप था कि उन्होंने बाइडेन के खिलाफ जांच शुरू करने के लिए यूक्रेन पर दबाव डाला था। निजी और सियासी फायदे के लिए अपनी शक्तियों का दुरुपयोग करते हुए 2020 के राष्‍ट्रपति चुनाव में अपने पक्ष में यूक्रेन से मदद मांगी थी।

अमेरिका में राष्ट्रपति के खिलाफ अभियोग के मामले

  • 1868 में अमेरिकी राष्ट्रपति एंड्रयू जॉनसन के खिलाफ अपराध और दुराचार के आरोपों पर हाउस ऑफ रिप्रेजेंटेटिव्स में महाभियोग प्रस्ताव पास हुआ। उनके खिलाफ संसद में आरोपों के 11 आर्टिकल्स पेश किए गए। हालांकि, सीनेट में वोटिंग के दौरान जॉनसन के पक्ष में वोटिंग हुई और वे राष्ट्रपति पद से हटने से बच गए।
  • 1998 में बिल क्लिंटन के खिलाफ भी महाभियोग लाया गया था। उन पर व्हाइट हाउस में इंटर्न रही मोनिका लेवेंस्की ने यौन उत्पीड़न के आरोप लगाए थे। उन्हें पद से हटाने के लिए हाउस ऑफ रिप्रेजेंटेटिव में मंजूरी मिल गई थी, लेकिन सीनेट में बहुमत नहीं मिल पाया।
  • वॉटरगेट स्कैंडल में पूर्व राष्ट्रपति रिचर्ड निक्सन (1969-74) के खिलाफ महाभियोग की कार्रवाई होने वाली थी, लेकिन उन्होंने पहले ही इस्तीफा दे दिया। उन पर अपने एक विरोधी की जासूसी कराने का आरोप लगा था।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- दिन उत्तम व्यतीत होगा। खुद को समर्थ और ऊर्जावान महसूस करेंगे। अपने पारिवारिक दायित्वों का बखूबी निर्वहन करने में सक्षम रहेंगे। आप कुछ ऐसे कार्य भी करेंगे जिससे आपकी रचनात्मकता सामने आएगी। घर ...

और पढ़ें

Open Dainik Bhaskar in...
  • Dainik Bhaskar App
  • BrowserBrowser