पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

केंद्रीय मंत्री अनंत कुमार का 59 साल की उम्र में निधन

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

बेंगलुरु. केंद्रीय मंत्री अनंत कुमार का सोमवार तड़के चार बजे यहां निधन हो गया। वे 59 साल के थे। कुछ महीनों से फेफड़ों के कैंसर से पीड़ित थे। अक्टूबर में न्यूयॉर्क से इलाज कराकर लौटे थे। दोबारा तबीयत बिगड़ने पर उन्हें बेंगलुरु के एक निजी अस्पताल में भर्ती किया गया था। उन्हें वेंटिलेटर पर रखा गया था। उनकी पार्थिव देह बेंगलुरु स्थित घर पर अंतिम दर्शन के लिए रखी गई है। वे 1996 से 2014 के बीच बेंगलुरु दक्षिण सीट से छह बार लोकसभा सदस्य चुने गए थे। अटल बिहारी वाजपेयी सरकार में वे सबसे युवा मंत्री थे।

 

Prime Minister Narendra Modi reaches at the residence of #AnanthKumar in Bengaluru, to pay tribute to the late Union Minister. pic.twitter.com/fBAqbFAxHw

— ANI (@ANI) November 12, 2018

 

अनंत कुमार के निधन पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी समेत कई नेताओं ने शोक जताया। रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा- \"अनंत कुमार के निधन की खबर सुनकर बेहद दुख हुआ। उन्होंने भाजपा की लंबे अरसे तक सेवा की। बेंगलुरु उनके दिल और दिमाग में हमेशा रहा। ईश्वर उनकी आत्मा को शांति दे और उनके परिवार को साहस दे।\"

Extremely saddened by the passing away of my valued colleague and friend, Shri Ananth Kumar Ji. He was a remarkable leader, who entered public life at a young age and went on to serve society with utmost diligence and compassion. He will always be remembered for his good work.

— Narendra Modi (@narendramodi) November 12, 2018

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने दुख जताया

Sad to hear of the passing of Union minister and veteran parliamentarian Shri H.N. Ananth Kumar. This is a tragic loss to public life in our country and particularly for the people of Karnataka. My condolences to his family, colleagues and countless associates #PresidentKovind

— President of India (@rashtrapatibhvn) November 12, 2018

 

आडवाणी-जेटली ने श्रद्धांजलि दी

लालकृष्ण आडवाणी ने कहा- \'\'अनंत कुमार के निधन से दुखी हूं। वे गरीबों के लोकप्रिय नेता और जमीन से जुड़े नेता थे। ईश्वर उनकी आत्मा को शांति दे।\'\' अरुण जेटली ने कहा- \'\'अनंत कुमार का जाना देश और हमारी सरकार के लिए बड़ी क्षति है। उन्होंने भारत के दक्षिणी हिस्से में पहली बार भाजपा को मजबूत किया।\'\'

 

उनके योगदान को भुला नहीं सकते: अमित शाह 

अनंत कुमार जी का जीवन देश, संगठन और विचारधारा के लिए समर्पित रहा, उनके योगदान को कभी भी भुलाया नहीं जा सकता।
दुःख की इस घड़ी में मैं भारतीय जनता पार्टी की ओर से उनके परिजनों व शुभचिंतकों के प्रति अपनी गहरी संवेदना व्यक्त करता हूँ।
ॐ शांति शांति शांति pic.twitter.com/4WJNVROSGq

— Amit Shah (@AmitShah) November 12, 2018

 

सदानंद गौड़ा ने कहा- मेरे भाई अनंत कुमार नहीं रहे

Shocked , it’s unbelievable , My friend , Brother Ananthkumar is no more . pic.twitter.com/zMOYEn7gXc

— Sadananda Gowda (@DVSBJP) November 12, 2018

 

राहुल गांधी ने शोक व्यक्त किया

I’m sorry to hear about the passing of Union Minister, Shri Ananth Kumar ji, in Bengaluru, earlier this morning. My condolences to his family & friends. May his soul rest in peace. Om Shanti.

— Rahul Gandhi (@RahulGandhi) November 12, 2018

 

राजनाथ ने कहा- उनकी यादें हमेशा साथ रहेंगी

My mind is filled with memories of working with Anant Kumar ji in the government and party organisation. These memories will stay with me. His demise is a big loss for the BJP. It is also a personal loss for me.

— राजनाथ सिंह (@rajnathsingh) November 12, 2018

देश के लिए बिना थके काम करते रहे: येदियुरप्पा

I am under deep grief to hear about the untimely demise of my friend and union minister Shri Ananth Kumar ji. He worked tirelessly to strengthen the BJP in Karnataka and nation. May his soul rest in peace and God give strength to bear his loss to his family... pic.twitter.com/DZLuZNZsht

— B.S. Yeddyurappa (@BSYBJP) November 12, 2018

 

आज राष्ट्रध्वज आधा झुका रहेगा
केंद्रीय गृह मंत्रालय के मुताबिक, अनंत कुमार के निधन पर सोमवार को देशभर में राष्ट्रध्वज आधा झुका रहेगा। वहीं, कर्नाटक सरकार ने राज्य में तीन दिन का शोक और सोमवार का अवकाश घोषित किया है। उनका अंतिम संस्कार राजकीय सम्मान के साथ किया जाएगा। 

 

अनंत के पास दो विभागों का प्रभार था

मोदी सरकार में कुमार के पास दो मंत्रालय की जिम्मेदारी थी। वे 2014 से रसायन एवं उर्वरक मंत्री थे। इसके अलावा उन्हें जुलाई 2016 में संसदीय मामलों की जिम्मेदारी भी सौंपी गई थी। अनंत कुमार वाजपेयी सरकार में मार्च 1998 से अक्टूबर 1999 तक नागरिक उड्डयन मंत्री भी रहे। उनका जन्म 22 जुलाई 1959 को बेंगलुरु में हुआ था। उन्होंने केएस ऑर्ट कॉलेज हुबली से बीए किया था। इसके बाद जेएसएस लॉ कॉलेज से एलएलबी की थी। उनके परिवार में पत्नी तेजस्विनी, दो बेटियां ऐश्वर्या और विजेता हैं। 

खबरें और भी हैं...