जहरीली शराब / उप्र-उत्तराखंड के 4 जिलों में 112 की मौत, शराब में चूहा मार दवा मिलाने का शक



शराब के सैम्पल जांच के लिए लखनऊ भेजे गए। शराब के सैम्पल जांच के लिए लखनऊ भेजे गए।
जहरीली शराब से प्रभावित घरों तक पहुंचे अधिकारी। जहरीली शराब से प्रभावित घरों तक पहुंचे अधिकारी।
X
शराब के सैम्पल जांच के लिए लखनऊ भेजे गए।शराब के सैम्पल जांच के लिए लखनऊ भेजे गए।
जहरीली शराब से प्रभावित घरों तक पहुंचे अधिकारी।जहरीली शराब से प्रभावित घरों तक पहुंचे अधिकारी।

  • सहारनपुर के डीएम ने बताया- शराब के पाउच के सैम्पल जांच के लिए लखनऊ भेजे गए, 30 आरोपी गिरफ्तार
  • उत्तराखंड सरकार ने मृतकों के परिवार के लिए 2-2 लाख के मुआवजे का ऐलान किया

Dainik Bhaskar

Feb 10, 2019, 10:15 AM IST

लखनऊ. उत्तरप्रदेश और उत्तराखंड के चार जिलों शनिवार को जहरीली शराब से मरने वालों की तादाद 112 तक पहुंच गई। स्वास्थ्य विभाग के मुताबिक, सबसे ज्यादा 55 मौतें उप्र के सहारनपुर में हुईं। मेरठ में 18, कुशीनगर में 10 और उत्तराखंड के रुड़की में 32 लोगों की जान गई। सूत्रों की मानें तो माफिया ने शराब में स्प्रिट या चूहा मारने की दवा मिलाई थी।

 

उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रमुख सचिव (आबकारी) और डीजीपी को शराब माफियाओं के खिलाफ कड़ी कार्रवाई के साथ दोषी अफसरों को निलंबित करने के निर्देश दिए हैं। उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने मृतकों के परिजन को 2-2 लाख रु की मदद देने की बात कही है।

 

लखनऊ में शराब के पाउच की जांच

सहारनपुर के एसएसपी दिनेश कुमार ने बताया कि घटना के बाद 30 लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है। उत्तराखंड के आरोपी पिंटू ने लोगों को शराब के पाउच लाकर दिए थे। वह लंबे वक्त से इस धंधे में लिप्त है। अवैध शराब के पाउच जांच के लिए लखनऊ लेबोरेटरी भेजे गए हैं।

 

नेताओं के संरक्षण में अवैध शराब का धंधा

सहरानपुर के डीएम आलोक पांडेय ने बताया कि कई लोगों की हालत गंभीर है, जिन्हें इलाज के लिए मेरठ रेफर किया गया है। शुक्रवार को पुलिस और आबकारी विभाग के नौ कर्मचारियों को निलंबित किया गया था। लोगों का आरोप है कि दोनों विभाग की मिलीभगत से प्रदेश में अवैध शराब का कारोबार बड़े पैमाने पर हो रहा है, जिसे नेताओं का भी संरक्षण प्राप्त है।

 

लोगों ने ईंट भट्टे पर अवैध शराब पी थी

कुशीनगर के जवहि दयाल चैनपट्टी में मंगलवार रात जहरीली शराब पीने से तीन लोगों की मौत हो गई थी। इन लोगों ने गांव के बाहर ईंट भट्ठे पर बनने वाली अवैध शराब पी थी। बीते 72 घंटे में शराब पीने से बीमार हुए सात और लोगों ने दम तोड़ दिया। घटना के बाद लोगों में आक्रोश है।

COMMENT