पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

मौत की टनल में जिंदगी की तलाश:टनल को ड्रिल करने में कामयाबी; उत्तराखंड के DGP बोले- ऋषिगंगा पर मलबे की वजह से बनी झील से खतरा नहीं

देहरादून3 महीने पहले

चमोली के तपोवन में NTPC की टनल में फंसे 39 वर्कर्स को तलाश रही रेस्क्यू टीम की उम्मीदें जागी हैं। जिस टनल में वर्कर्स फंसे हैं, उसके साथ वाली अंडरग्राउंड टनल में ड्रिलिंग में कामयाबी मिल गई है। ये ड्रिलिंग गुरुवार को चट्टान आ जाने की वजह से रोकी गई थी। हालांकि, इसमें कैमरा अभी नहीं जा सका है।

इधर, ऋषिगंगा नदी पर मलबे की वजह से बने झील जैसे फॉरमेशन को रेस्क्यू वर्कर्स के लिए चुनौती बताया गया था। इस झील से पानी कभी भी ओवर फ्लो होने का खतरा माना जा रहा था। उत्तराखंड के DGP अशोक कुमार ने शनिवार शाम को कहा कि इस झील से लगातार पानी डिस्चार्ज हो रहा है। अब यह खतरनाक इलाका नहीं है।

मुख्य टनल में ड्रिलिंग पूरी होने की खबर आई
कुछ रिपोर्ट्स में ITBP के प्रवक्ता विवेक पांडे के हवाले से कहा गया है कि ढाई किलोमीटर लंबी मुख्य टनल के साथ वाली टनल में ड्रिलिंग पूरी हो गई है। ये ड्रिलिंग 75 मिमी चौड़ी और करीब 12 मीटर लंबी है। इसी के जरिए मुख्य टनल से मलबा और कीचड़ बाहर आया है। विवेक पांडेय के मुताबिक, अच्छी बात ये है कि इस टनल में अब मलबे और कीचड़ का प्रेशर नहीं आ रहा है। खराब बात ये है कि तकनीकी दिक्कतों की वजह से इसमें कैमरा नहीं जा पाया है। अब कोशिश इस छेद को 250 से 300 मिमी चौड़ा करने की है।

दोबारा ड्रिलिंग की कोशिश कामयाब हुई
गुरुवार को ये काम धौलीगंगा का पानी बढ़ने के बाद रोका गया था। ITBP, NDRF और आर्मी की टीमें दोबारा मुख्य टनल से मलबा निकालने के काम में जुट गई थीं। शुक्रवार को एक बार फिर मुख्य टनल के साथ वाली टनल में ड्रिलिंग का काम नई मशीनों के साथ शुरू किया गया। उत्तराखंड के डीजीपी अशोक कुमार के हवाले से रिपोर्ट्स में कहा गया कि दोबारा ड्रिलिंग की कोशिश कामयाब हो गई है। उम्मीद है कि फंसे हुए वर्कर्स तक इसके सहारे पहुंचा जा सकता है।

रैणी के पास ऋषिगंगा में झील से लगातार रिसाव
इसके बाद रैणी गांव के पास 250 मीटर लंबी और 150 मीटर चौड़ी झील मिली है। ये जगह पेंग गांव से करीब 3 किमी ऊपर पहाड़ पर है। गढ़वाल केंद्रीय विश्वविद्यालय के भूगर्भीय विभाग की असिस्टेंट प्रोफेसर डाॅ. नरेश राणा के नेतृत्व में गई 8 मेंबर्स की टीम ने मुआयने के दौरान इस झील को देखा। टीम के अनुसार ऋषिगंगा के मुहाने पर झील बनी है। ऐसा आपदा के समय मलबे के इकट्‌ठा होने से हुआ है।
झील की वजह से ऋषिगंगा का पानी रुक गया है। वैज्ञानिकों के अनुसार, झील में कम मात्रा में पानी रिस रहा है। ये रिसाव बड़ी तबाही का कारण न बने इसलिए जल्द ही झील को पंचर करना होगा, क्योंकि झील में पानी पूरा भरा हुआ है और ये ओवरफ्लो हो सकता है। 11 फरवरी से ही यहां से हल्का-फुल्का रिसाव हो रहा है। अगर ये ज्यादा मात्रा में हुआ तो राहत और बचाव कार्यों को बड़ा झटका लग सकता है। लगातार पानी के बढ़ते दबाव से झील टूटी तो निचले इलाकों में बाढ़ जैसे हालात पैदा हो सकते हैं।

2 और शव बरामद, अब 168 की तलाश
चमोली की जिलाधिकारी स्वाति भदौरिया ने कहा कि इलाके से अब तक 36 शव बरामद किए जा चुके हैं। दो लोग जिंदा मिले हैं। अब 168 लोगों की तलाश जारी है। इनमें से 39 वर्कर्स टनल के अंदर फंसे होने की आशंका है। NDRF के कमांडेंट पीके तिवारी ने बताया कि नदी के किनारे वाले इलाके में शवों की तलाश लगातार की जा रही है।

खबरें और भी हैं...

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- समय चुनौतीपूर्ण है। परंतु फिर भी आप अपनी योग्यता और मेहनत द्वारा हर परिस्थिति का सामना करने में सक्षम रहेंगे। लोग आपके कार्यों की सराहना करेंगे। भविष्य संबंधी योजनाओं को लेकर भी परिवार के साथ...

और पढ़ें