• Hindi News
  • National
  • ‘Virgin girl is like sealed bottle,’ Jadavpur University professor posts on Facebook, deletes it

कोलकाता / जादवपुर विश्वविद्यालय के प्रोफेसर ने लड़कियों को लेकर फेसबुक पर आपत्तिजनक टिप्पणी की



‘Virgin girl is like sealed bottle,’ Jadavpur University professor posts on Facebook, deletes it
X
‘Virgin girl is like sealed bottle,’ Jadavpur University professor posts on Facebook, deletes it

  • लोगों ने जमकर आलोचना की, विवाद बढ़ने पर पोस्ट डिलीट की
  • कनक सरकार ने अपने बचाव में कहा- ये उनके निजी विचार

Dainik Bhaskar

Jan 14, 2019, 05:06 PM IST

कोलकाता. जाधवपुर यूनिवर्सिटी में अंतरराष्ट्रीय मामलों के प्रोफेसर कनक सरकार अपनी एक पोस्ट को लेकर विवादों में हैं। वर्जिन ब्राइड-व्हाय नॉट, शीर्षक से लिखी पोस्ट को लेकर लोगों ने उनकी जमकर आलोचना की है। इसमें उन्होंने लड़कियों पर आपत्तिजनक टिप्पणी की है। हालांकि, उन्होंने कुछ देर बाद पोस्ट को डिलीट कर दिया। कनक सरकार ने अपने बचाव में कहा कि ये उनके निजी विचार हैं।

कनक ने पोस्ट में शिक्षित युवाओं की काउंसलिंग करने की इच्छा जताई

  1. प्रोफेसर कनक सरकार ने अपनी पोस्ट में लिखा, ''मैं शिक्षित युवाओं की काउंसलिंग करना चाहता हूं। युवाओं को नहीं पता कि कुआंरी लड़की क्या होती हैं? वे एक सीलबंद बोतल की तरह होती हैं। क्या कोई भी व्यक्ति बिस्कुट या फिर कोल्ड ड्रिंक खरीदते समय टूटी सील की बोतल लेना पसंद करेगा?" कनक का कहना था कि कुआंरी लड़की में बहुत सारे गुण होते हैं, जो जन्म से उसके साथ होते हैं।

  2. सरकार की पोस्ट पर विवाद हुआ तो उन्होंने कहा कि ये मेरे निजी विचार हैं। सुप्रीम कोर्ट ने आईटी एक्ट की धारा 66 ए को खत्म कर दिया है। विचारों पर अब कोई पाबंदी नहीं है। उनका कहना था कि पोस्ट को वो फेसबुक से हटा चुके हैं। इसे उनके कार्य से जोड़कर न देखा जाए। वे महिलाओं का सम्मान करते हैं। उन्होंने सोशल मीडिया पर इस संबंध में कई बार अपने विचार व्यक्त किए हैं।  

  3. यूनिवर्सिटी में सहकर्मियों ने आलोचना की 

    जाधवपुर यूनिवर्सिटी के कुलपति ने अभी तक इस मामले में कुछ नहीं कहा है, लेकिन सहकर्मियों ने कनक सरकार की आलोचना की है। जूटा (जाधवपुर विश्वविद्यालय शिक्षक संघ) के महासचिव पार्थ प्रतिम ने कहा कि उनकी पोस्ट निंदनीय है। शिक्षाविद् अमल मुखोपाध्याय ने कहा कि शिक्षक को मार्गदर्शक माना जाता है। ऐसे विचार सभी को शर्मसार करने वाले हैं। 

  4. महिला आयोग अध्यक्ष ने कहा, शिक्षक से ये उम्मीद नहीं

    महिला आयोग की अध्यक्ष लीना गंगोपाध्याय ने कहा कि कुछ लोग कभी नहीं सुधरते। महिलाओं के प्रति उनका रवैया गलत ही रहता है, लेकिन सारे मामले में चिंतनीय बात यह है कि ये बातें एक शिक्षक ने कही हैं। साईबर लॉ मामलों के सरकारी वकील बिवास चटर्जी का कहना है कि जब तक कोई शिकायत न हो, ऐसे मामलों में कार्रवाई नहीं की जा सकती।

COMMENT