• Hindi News
  • National
  • West Bengal| BJP Workers Have Crossed Over To Dhubri In Assam Amid Post Poll Violence

बंगाल में हिंसा का असर:BJP नेता हेमंत बिस्व सरमा का दावा- TMC के हमलों से डरे पार्टी कार्यकर्ता जान बचाने के लिए असम आ रहे

गुवाहाटी6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बंगाल में जारी हिंसा के कारण भाजपा कार्यकर्ता परिवार समेत असम पहुंच रहे हैं। - Dainik Bhaskar
बंगाल में जारी हिंसा के कारण भाजपा कार्यकर्ता परिवार समेत असम पहुंच रहे हैं।

पश्चिम बंगाल में चुनाव नतीजे आने के बाद BJP कार्यकर्ताओं और नेताओं पर लगातार हमले हो रहे हैं। नतीजे आने के बाद जारी हिंसा में अब तक 11 लोगों के मारे जाने की खबर है। इनमें से 6 मौतों की पुष्टि बंगाल सरकार कर चुकी है। इस बीच, असम BJP के बड़े नेता और मंत्री हेमंत बिस्व सरमा ने दावा किया है कि बंगाल में पार्टी कार्यकर्ताओं और उनके परिवारों को निशाना बनाया जा रहा है। TMC वर्कर्स के हमलों से डरकर करीब 400 कार्यकर्ता और उनके परिवार असम में दाखिल हुए हैं।

फोटो भी जारी किए
सरमा ने सोशल मीडिया पर एक पोस्ट में यह दावा किया। इसके साथ ही उन्होंने चार फोटो भी जारी कीं। इनमें भीड़ देखी जा सकती है। सरमा के मुताबिक, बंगाल में नतीजों के बाद BJP कार्यकर्ताओं और उनके परिवारों पर जानलेवा हमले किए जा रहे हैं। इसी डर की वजह से ये लोग बंगाल छोड़कर असम आ रहे हैं। इन्हें यहां के धुबरी जिले में रहने की जगह और खाना दिया जा रहा है। सरमा ने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को भी टैग किया है। उन्होंने लिखा कि यह लोकतंत्र का डरावना चेहरा है।

प्रधानमंत्री ने भी दिया दखल
बंगाल में नतीजों के बाद हो रही हिंसा पर प्रधानमंत्री मोदी भी चिंतित हैं। उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राज्यपाल जगदीप धनखड़ को फोन किया और बंगाल में आगजनी और हत्याओं पर चिंता जाहिर की है। इसके कुछ देर पहले, BJP के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा मंगलवार को कोलकाता पहुंचे। वे दो दिन पश्चिम बंगाल में रहकर हिंसा वाले इलाकों का जायजा लेंगे।

कोलकाता पहुंचने के बाद नड्‌डा ने कहा कि पश्चिम बंगाल के चुनाव के नतीजों के बाद जो घटनाएं देखने और सुनने को मिली हैं वो हैरान करती हैं, चिंता में डालती हैं। ऐसी घटनाएं भारत के विभाजन के समय मैंने सुनी थीं, लेकिन आजाद भारत में चुनाव के नतीजों के बाद इतनी असहिष्णुता हमने आज तक नहीं देखी।

सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर
दूसरी तरफ, इस बीच, सुप्रीम कोर्ट में मंगलवार को एक याचिका दायर की गई। इसमें मांग की गई है कि सुप्रीम कोर्ट केंद्र सरकार को बंगाल में राजनीतिक हिंसा रोकने के लिए केंद्रीय सुरक्षाबल तैनात करने का आदेश दे, ताकि राज्य में कानून-व्यवस्था बहाल की जा सके। राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने भी हिंसा वाली जगहों पर स्पॉट इंक्वायरी का आदेश दिया है।

2 मई से जारी हिंसा में अब तक 11 की मौत
रविवार शाम से सोमवार रात तक विभिन्न हिस्सों में हिंसा की घटनाएं घटी हैं। इन घटनाओं में 11 लोगों के मारे जाने की खबर है। भाजपा का आरोप है कि इनमें 9 उसके कार्यकर्ता हैं। जबकि ब‌र्द्धमान में एक TMC और उत्तर 24 परगना में एक ISF के कार्यकर्ता की जान चली गई है। इन घटनाओं में आरोप तृणमूल कांग्रेस पर लगा है।

खबरें और भी हैं...