• Hindi News
  • National
  • Wikipedia Was Born Today, More Than 1.5 Billion People Use It Every Month

आज का इतिहास:विकिपीडिया का जन्म, 300 से ज्यादा भाषाओं में उपलब्ध; हर महीने 2 अरब से ज्यादा लोग करते हैं इस्तेमाल

4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

अब लोगों के सर्च रिजल्ट का अहम हिस्सा बन चुके विकिपीडिया का जन्म आज ही के दिन हुआ था। हम अगर गूगल पर कुछ भी सर्च करते हैं, तो अधिकतर विकिपीडिया का पेज ही सबसे ऊपर आता है।

विकिपीडिया को 15 जनवरी 2001 को जिमी वेल्स और लैरी सैंगर ने शुरू किया था। विकिपीडिया को इस सोच के साथ शुरू किया गया था कि कोई भी व्यक्ति इसे एडिट कर सकता है। टेक्नोलॉजी की दुनिया में ऐसे तरीके से इकट्ठा की गई जानकारी को क्राउड सोर्सिंग कहा जाता है।

300 भाषाओं में उपलब्ध, 2 अरब से ज्यादा मंथली यूजर्स
विकिपीडिया को पहले केवल अंग्रेजी भाषा में ही लॉन्च किया गया था, लेकिन अब ये 300 से ज्यादा भाषाओं में उपलब्ध है। 2003 में विकिपीडिया को हिंदी में लॉन्च किया गया था। विकिपीडिया में करीब 5.5 करोड़ से ज्यादा आर्टिकल मौजूद हैं और हर महीने 2 अरब से ज्यादा यूजर्स विकिपीडिया पेज पर आते हैं।

विकिपीडिया की शुरुआत 15 जनवरी 2001 को हुई थी
विकिपीडिया की शुरुआत 15 जनवरी 2001 को हुई थी

विकिपीडिया शुरू करने से पहले जिमी वेल्स और लैरी सैंगर ने न्यूपीडिया नाम से इन्साइक्लोपीडिया लॉन्च किया था। इसमें एक्सपर्ट आर्टिकल लिखा करते थे और रिव्यू होने के बाद ही उसे पब्लिश किया जाता था। बाद में जब विकिपीडिया लॉन्च किया गया, तब उसमें हर यूजर को एडिटिंग की इजाजत नहीं थी, लेकिन कुछ महीनों बाद इसमें सभी यूजर को एडिटिंग की इजाजत मिल गई।

कोई भी कर सकता है विकिपीडिया में एडिट
विकिपीडिया के क्रिएटर्स ने इसे कुछ इस तरह बनाया गया है कि कोई भी व्यक्ति इसमें कंटेंट को एडिट कर सकता है। यानी, अगर कोई व्यक्ति चाहे तो विकिपीडिया पेज पर मौजूद किसी भी जानकारी में बदलाव कर सकता है। इसे लेकर विकिपीडिया की आलोचना भी होती रही है और कई बार इसी वजह से इसे जानकारी का भरोसेमंद सोर्स भी नहीं माना जाता है।

हालांकि, विकिपीडिया टीम लगातार इस प्रक्रिया में सुधार कर रही है। वह न केवल अपने पेज पर हर ताजा जानकारी तुरंत अपडेट करती है, बल्कि अगर किसी ने जानबूझकर तथ्यों से छेड़छाड़ करते हुए पेज को एडिट किया है, तो विकिपीडिया टीम उस गलती को भी जल्दी ही सुधार देती है।

भूकंप से भारत-नेपाल में 11 हजार जानें गईं
15 जनवरी 1934 को भारत और नेपाल में एक खतरनाक भूकंप आया था। इस भूकंप में 11 हजार से ज्यादा लोग मारे गए थे। रिक्टर स्केल पर इसकी तीव्रता 8.3 मापी गई थी। बताया जाता है कि भूकंप के झटके इतने जोरदार थे कि इन्हें मुंबई तक महसूस किया गया था।

इस भूकंप से बिहार के मुंगेर और मुजफ्फरपुर शहर पूरी तरह बर्बाद हो गए थे। इसके साथ ही मोतिहारी और दरभंगा शहर में भी भारी नुकसान हुआ था। वहीं नेपाल के काठमांडू, भटगांव और पाटन में भी कई इमारतें ढह गई थीं और सड़कों में दरारें पड़ गई थीं।

भारत और दुनिया में 15 जनवरी की महत्वपूर्ण घटनाएं :

2016 : पश्चिम अफ्रीकी देश बुर्किना फासो में ऑगाडोगू के होटल में आतंकवादी हमले में 28 लोगों की मौत और 56 लोग घायल।
2013 : सीरिया की अलेप्पो यूनिवर्सिटी में रॉकेट हमले में 83 लोगों की मौत और 150 लोग घायल।
2010 : तीन घंटे से भी ज्यादा की अवधि वाला शताब्दी का सबसे लंबा सूर्य ग्रहण लगा। भारत में यह 11 बजकर 6 मिनट पर शुरू होकर 3 बजकर 5 मिनट पर खत्म हुआ।
2009 : दादा साहेब फाल्के पुरस्कार विजेता और फिल्म प्रोड्यूसर तपन सिन्हा का निधन।
2008 : प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की चीन यात्रा के दौरान भारत-चीन सीमा विवाद पर बातचीत की गई।
2008 : उत्तर प्रदेश की मुख्यमंत्री मायावती ने ‘गंगा एक्सप्रेस वे परियोजना’ का शिलान्यास किया।
2006 : ब्रिटिश हाईकोर्ट ने क्वात्रोच्चि के दो बैंक खातों पर से प्रतिबंध हटाने का आदेश दिया। क्वात्रोच्चि बोफोर्स घोटाले का आरोपी था।
1999 : एन फ्रेंक घोषणा पत्र’ पर दस्तखत करने वाले प्रथम विश्व नेता संयुक्त राष्ट्रसंघ के महासचिव कोफी अन्नान बने।
1992 : बुल्गारिया ने बाल्कन के देश मैसिडोनिया को मान्यता दी।
1988 : भारत के पूर्व गेंदबाज नरेंद्र हिरवानी ने ऐतिहासिक उपलब्धि हासिल करते हुए वेस्टइंडीज के खिलाफ अपने पहले टेस्ट मैच में ही 16 विकेट लिए।
1975 : पुर्तगाल ने अंगोला की आजादी के लिए समझौते पर हस्ताक्षर किए।
1965 : भारतीय खाद्य निगम की स्थापना हुई।
1949 : केएम करियप्पा भारतीय थल सेना के पहले कमांडर-इन-चीफ बने। तब से 15 जनवरी को सेना दिवस के रूप में मनाया जाता है।
1759 : लंदन स्थित मोंटेगुवे हाउस में ब्रिटिश संग्रहालय की स्थापना हुई।