--Advertisement--

दिल्ली / भूख हड़ताल पर बैठी महिला, पुलिस ने कहा- हम भी आपके साथ भूखे रहेंगे तब मानी



नोएडा के एसएसपी ऑफिस के बाहर धरने पर बैठी महिला। नोएडा के एसएसपी ऑफिस के बाहर धरने पर बैठी महिला।
थो‌ड़ी कोशिश के बाद पुलिस ने उसे मना लिया। थो‌ड़ी कोशिश के बाद पुलिस ने उसे मना लिया।
X
नोएडा के एसएसपी ऑफिस के बाहर धरने पर बैठी महिला।नोएडा के एसएसपी ऑफिस के बाहर धरने पर बैठी महिला।
थो‌ड़ी कोशिश के बाद पुलिस ने उसे मना लिया।थो‌ड़ी कोशिश के बाद पुलिस ने उसे मना लिया।

  • महिला का चार साल पहले हरिद्वार से ग्रेटर नोएडा शिफ्ट होते वक्त सामान चोरी हो गया था
  • इसकी शिकायत को लेकर वह कई बार पुलिस से मिली, जब सुनवाई नहीं  हुई तो भूख हड़ताल पर बैठी

Dainik Bhaskar

Dec 08, 2018, 11:05 AM IST

ग्रेटर नोएडा. नोएडा पुलिस के अधिकारियों की तरफ से कोई कार्रवाई नहीं होने से नाराज एक बुजुर्ग महिला शुक्रवार को एसएसपी ऑफिस कैंपस में ही धरने पर बैठ गई। महिला वहीं पर बैनर लगाकर हवन-पूजा करने लगी। महिला का आरोप है कि उसका सामान चार साल पहले चोरी हो गया था। कई बार शिकायत करने के बाद भी पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की।

पुलिस ने गांधीगिरी का रास्ता अपनाया

  1. पुलिस ने बुजुर्ग महिला की नाराजगी को दूर करने के लिए गांधीगीरी को अपनाया।जिसके करीब 25 मिनट बाद ही वह मान गई और हंसते हुए अपना सामान उठाकर घर लौट गई।

  2. ड्राइवर और हेल्पर ने सामान चुरा था

    महिला का नाम माधुरी है। वह ग्रेटर नोएडा के कासना थाना एरिया के एडब्ल्यूएचओ सोसायटी की रहने वाली है। करीब 4 साल पहले वह हरिद्वार से ग्रेटर नोएडा में शिफ्ट हुईं थी। उसने एक पैकर्स-मूवर्स के जरिए अपना सामान ग्रेटर नोएडा मंगाया था।

  3. उसका आरोप है कि रास्ते में ड्राइवर और हेल्पर ने उनके कई इलेक्ट्रॉनिक और अन्य कीमती सामान गायब कर दिए थे। इन सामान की कीमत लाखों में थी। इसके बाद उन्होंने कासना थाने में रिपोर्ट दर्ज कराई, लेकिन 4 साल बाद भी गायब हुआ सामान नहीं मिला।

  4. भूख हड़ताल की जिद पर अड़ी थी

    माधुरी पुलिस द्वारा कोई कार्रवाई नहीं करने से नाराज थी। जब पुलिस के अफसरों ने उसे समझाया तो वह नहीं मानी और भूख हड़ताल करने पर अड़ गई। जब वह नहीं मानी तो अफसरों ने कहा कि हम भी बच्चे हैं। गलती हमसे भी होती है। इसके बाद भी उसने अपनी जिद नहीं छोड़ी।

  5. फिर पुलिसकर्मियों ने भूख हड़ताल करने का फैसला किया। कहा कि वे भी भूखे रहेंगे। यह ड्रामा कुछ देर चला। बाद में वह चाय पीने को तैयार हो गई। इसके बाद उनकी शिकायत पर तत्काल थाना प्रभारी को कार्रवाई करने को कहा।
     

Bhaskar Whatsapp
Click to listen..