• Hindi News
  • National
  • xi jingping tour: modi and jingping urged to search indian brother by chinese women

तलाश / चीन की महिला की मोदी-जिनपिंग से अपील- भारतीय सौतेले भाई और उसके परिवार को ढूंढकर लाएं

झू पिंगपिंग (फाइल फोटो) झू पिंगपिंग (फाइल फोटो)
X
झू पिंगपिंग (फाइल फोटो)झू पिंगपिंग (फाइल फोटो)

  • झू केयोंग ने एक भारतीय महिला से शादी की थी लेकिन बाद में चीन जाकर दूसरी शादी कर ली
  • केयोंग ने कई साल बाद अपनी पहली शादी का जिक्र दूसरी बीबी के बच्चों से की
  • केयोंग की मौत के बाद उसकी बेटी अपने सौतेले भारतीय भाई की तलाश कर रही है

दैनिक भास्कर

Oct 11, 2019, 08:58 PM IST

नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग शुक्रवार को मामल्लपुरम में मुलाकात हुई। इसी बीच, एक चीनी महिला दोनों नेताओें से भारत में रह रहे अपने सौतेले भाई को ढूंढने की गुहार लगाती रहीं। झू पिंगपिंग (71) पूर्वी चीन के जियांग्सु प्रांत की रहने वाली है। पिंगपिंग के पास अपने भाई को ढूंढ़ने के लिए पीले रंग का एक कागज है जिस पर उनके भाई का नाम और पता लिखा है। यह कागज पिंगपिंग को अपने दिवंगत पिता से मिला था।

 

पिंगपिंग के पिता झू केयोंग क्यूमिंटांग के चीनी अभियान बल के सैनिक थे। चीन की मौजूदा सत्तारुढ़ कम्युनिस्ट पार्टी द्वारा हराए जाने से पहले साल 1949 तक चीन में क्यूमिंटांग पार्टी की सरकार थी। केयोंग ने 1942 से 1946 के बीच भारत और म्यांमार में जापानी सेना के खिलाफ युद्ध लड़ा था। इस दौरान वे कोलकाता में रुके थे और एक भारतीय महिला से शादी की थी। झू जब 20 से 25 साल के थे तो चीन लौट गए थे और वापस कभी भारत नहीं लौटे।

 

केयोंग चीन लौटने के बाद दूसरी शादी की थी

चीन जाने के बाद केयोंग ने एक मध्य चीन की एक महिला से शादी कर ली थी। काफी साल तक उन्होंने अपनी दूसरी पत्नी और बच्चों से भारत में अपने शादी की बता छुपाई रखी। पिंगपिंग के पिता ने साल 1986 में एक शाम को डिनर टेबल पर पूरे परिवार को बुलाया और इस बात का खुलासा किया कोलकाता में  उनकी बीवी और बच्चे हैं। केयोंग ने अपने बच्चों को एक कागज पर कोलकाता में रहने वाले बच्चे का नाम और उसका पता लिखकर दिया।

 

दो साल पहले केयोंग का निधन हो गया 

दो साल पहले झू केयोंग का निधन हो गया। पिंगपिंग के अनुसार, उनके पिता ने जीवन में कभी भी उनकी पहली मां का नाम और भारत में रहने के समय की कोई अन्य जानकारी साझा नहीं की थी। पिंगपिंग अपने भाई को उसी कागज के टुकरे के सहारे ढूंढ रही है जिस पर उसके पिता ने अपनी याददाश्त टटोल कर उनके भाई का नाम और पता लिखा था। चीनी भाषा में केयोंग द्वारा लिखा गया नाम झेंगसी शिवेक्सी है। झेंगसी का अर्थ पश्चिम में लड़ाई लड़ने वाला होता है।

 

पर्ची पर लिखा नाम पारंपरिक चीनी नाम नहीं

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, झू ने जो नाम लिखा है वह आम चीनी नामों की तरह नहीं है। भारतीय नामों की तरह इसमें नाम पहले और परिवार के सदस्य का नाम बाद में है। साथ ही जो सरनेम शिवेक्सी है वह भी चीनी परिवार का नाम है। ऐसा लगता है कि यह केयोंग के कोलकाता में रहने वाली पत्नी के नाम का चीनी भाषा में अनुवाद हो।

 

भारतीय और चीनी विशेषज्ञ पता नहीं ढूंढ़ सके

कागज पर लिखा पता नं 7823, ह्यूक्सिया सिनकुंन या मौजूदा चाइना टाउन, नं 973, मोसुओसिजी रोड, कोलकाता है। कई भारतीय और चीनी विशेषज्ञ अभी तक इस पता के बारे में जानकारी नहीं जुटा सके हैं। ऐसे में पिंगपिंग को उम्मीद है कि ऐतिहासिक दस्तावेज, आर्काइव और नक्शों की जानकारी रखने वाले सरकारी अधिकारी शायद इस पते के बारे में कोई जानकारी दे सकें।

 

अब तक बच्चों के परवरिश में व्यस्त थी पिंगपिंग

पिंगपिंग का कहना है इतने साल तक उन्हें भारत में रहने वाले अपने सौतेले भाई की जानकारी जुटाने का समय नहीं मिला था क्योंकि उनके पति का निधन कम उम्र में हो गया और वह अपने तीन बच्चों को पालने में व्यस्त थी। अब पिंगपिंग सेवानिवृत्त हो चुकी हैं और उनके बच्चे भी व्यस्त हो चुके हैं इसलिए वह बिछड़े भाई को ढूंढ रही हैं। पिंगपिंग का अनुमान है कि उनके भाई की उम्र 70 से 80 के बीच होगी।

 

DBApp

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना