उप्र / किसानों की जमीन हड़पने के मामले में सपा सांसद आजम खान पर 10 दिन में 23 मुकदमे दर्ज



Yogi Sarkar declares SP MP Azam Khan as Land Mafia
X
Yogi Sarkar declares SP MP Azam Khan as Land Mafia

  • एडीएम की ओर से उत्तर प्रदेश एंटी भू माफिया पोर्टल पर दर्ज कराया आजम का नाम
  • जौहर यूनिवर्सिटी के लिए आजम खान पर किसानों की जमीनें कब्जाने का आरोप

Dainik Bhaskar

Jul 19, 2019, 11:58 PM IST

रामपुर. जौहर यूनिवर्सिटी के लिए किसानों की जमीन हड़पने के मामले में रामपुर से समाजवादी पार्टी के सांसद आजम खां पर 10 दिन में 23 मुकदमें दर्ज किए हैं। उप जिलाधिकारी की ओर से आजम खां का नाम उत्तर प्रदेश एंटी भू माफिया पोर्टल पर दर्ज कराया गया है। इस मामले पर आजम ने कहा कि, जमीनें 2005 में किसानों से चेक के माध्यम से नियम के मुताबिक खरीदी गई थी। मेरा मकान एक गली में है। जिसमें चार पहिया वाहन नहीं जा सकता है। चूंकि मैंने भाजपा के खिलाफ चुनाव जीता था, इसलिए मुझे सजा दी जा रही है। सभी आरोप झूठे हैं। वे चाहें तो जांच कर सकते हैं। मेरे चारों तरफ दुश्मन हैं।

 

रामपुर एसपी अजय पाल शर्मा ने बताया कि जमीन कब्जाने के आरोप में अब तक सांसद आजम खान के खिलाफ 23 एफआईआर दर्ज की गई हैं। किसानों का आरोप है कि उन्हें धमकियां देकर जमीन को अवैध रूप से हड़प लिया गया। मामले की जांच के लिए एक टीम बनाई गई है।

 

प्रशासन की ओर से दर्ज कराई गई एफआईआर

आजम खां पर 12 जुलाई को एक मुकदमा प्रशासन की ओर से दर्ज कराया गया। इसमें कहा गया कि आलिया गंज के 26 किसानों ने जमीन कब्जाने का आरोप लगाया। इन सभी ने जिला अधिकारी को शपथ पत्र के साथ शिकायत दर्ज कराई थी कि आजम खां ने उनकी जमीन जबरन जौहर यूनिवर्सिटी में मिला ली। तत्कालीन सीओ सिटी आले हसन खां ने उन्हें डराया धमकाया। हवालात में बंद किया और चरस व स्मैक में जेल भेजने की धमकी दी। इसी कारण उन्होंने शुरू में शिकायत करने की हिम्मत नहीं जुटाई। यह मामला दर्ज करते ही पुलिस ने उसी रात मोहम्मद अली जौहर यूनिवर्सिटी में मुख्य सुरक्षा अधिकारी बने आले हसन खान के आवास पर छापा मारा था।

 

प्रशासन बोला- की जाएगी कार्रवाई 

डीएम आन्जनेय कुमार सिंह का कहना है कि शासनादेश के मुताबिक ऐसे लोगों को भूमाफिया घोषित किया जाता है जो दबंगई से जमीनों पर कब्जा करने के आदी हैं। जो लोग अवैध कब्जे को छोड़ने के लिए तैयार नहीं है और जिनके खिलाफ पुलिस में केस दर्ज है उनका ही नाम उत्तर प्रदेश एंटी भू माफिया पोर्टल पर दर्ज कराया जाता है। सरकार भी इसकी निगरानी करती है।

 

स्पेशल टीम करेगी इसकी विवेचना
एसपी ने कहा कि आजम खां के खिलाफ दर्ज मुकदमों की विवेचना तीन सदस्यीय स्पेशल टीम करेगी। विवेचना पूरी तरह निष्पक्ष होगी। उन्होंने बताया कि भूमाफिया व हिस्ट्रीशीटर में अंतर होता है। हिस्ट्रीशीट उनकी खोली जाती है, जो अपराध करने के आदी हैं।

 

मेरे खिलाफ दर्ज की गई एफआईआर और तीन सदस्यीय एसआईटी गठित करने के साथ भू माफिया घोषित करने की सभी एफआईआर फर्जी हैं। यह बदले की भावना से प्रेरीत हो कर किया जा रहा है। -आजम खान, सांसद रामपुर

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना