--Advertisement--

जाकिर नाइक / सुषमा ने पूछा- प्रत्यर्पण कब होगा, मलेशिया के मंत्री का जवाब- अभी फैसला नहीं लिया



जाकिर नाइक जाकिर नाइक
X
जाकिर नाइकजाकिर नाइक

  • जाकिर नाइक पर युवाओं को आतंकी गतिविधियों के लिए उकसाने और हेट स्पीच देने के आरोप
  • 2016 से मलेशिया में है विवादित धर्मगुरु जाकिर नाइक, भारत ने प्रत्यर्पण की अपील की थी

Dainik Bhaskar

Oct 08, 2018, 10:17 PM IST

नई दिल्ली. भारत दौरे पर आए मलेशिया के मानव संसाधन मंत्री एम कुला सेगारन ने कहा कि विवादित धर्मगुरु जाकिर नाइक के प्रत्यर्पण पर अभी मलेशिया सरकार ने फैसला नहीं लिया है। एक बैठक के दौरान विदेश मंत्री सुषमा स्वराज जाकिर नाइक का मसला उठाया।

अदालत कर सकती है प्रत्यर्पण पर फैसला

  1. जाकिर नाइक पर आतंकवाद और मनी लॉन्डरिंग के आरोप हैं। वह जुलाई 2016 में भारत से बाहर चला गया था। विदेश मंत्रालय ने इसी साल जनवरी में मलेशिया से नाइक के प्रत्यर्पण की आधिकारिक अपील की थी।

  2. मलेशिया के मंत्री ने न्यूज एजेंसी को बताया- सुषमा स्वराज ने नाइक के जल्द प्रत्यर्पण की बात कही। उन्होंने पूछा कि क्या उसे भारत भेजा जाएगा। मैंने उनसे (सुषमा) कहा कि इस पर अभी फैसला नहीं लिया गया है। मलेशिया सरकार इसका फैसला अदालत पर छोड़ सकती है। 

  3. भरोसा दिलाते हैं न्याय होगा- मलेशिया

    उन्होंने कहा, "अगर मलेशिया सरकार नाइक के प्रत्यर्पण का फैसला लेती है तो हमारी तरफ से तो मामला खत्म हो जाएगा, लेकिन नाइक फिर भी इस फैसले को चुनौती दे सकता है। अगर सरकार प्रत्यर्पण का फैसला नहीं लेती है तो हम इस मामले को अदालत के फैसले के लिए भेज सकते हैं। हम भरोसा दिलाते हैं कि इसमें पारदर्शिता बरती जाएगी और न्याय होगा।'

  4. नाइक ने मलेशिया के प्रधानमंत्री का शुक्रिया अदा किया था

    जुलाई में मलेशिया के एक अखबार में जाकिर नाइक का बयान छपा था। इसमें नाइक ने मलेशिया के प्रधानमंत्री महाथीर मोहम्मद का शुक्रिया अदा किया था। उसने कहा था कि वे इस मामले को गैर-पक्षपाती नजरिए से देख रहे हैं। मलेशियाई प्रधानमंत्री ने भी कहा था कि वे तब तक नाइक को प्रत्यर्पित नहीं करेंगे, जब तक वह देश में समस्याएं नहीं पैदा करता।

  5. एनआईए ने अदालत में नाइक के खिलाफ चार्जशीट दाखिल की थी। इसमें नाइक पर युवाओं को आतंकी गतिविधियों के लिए उकसाने का आरोप लगाया गया था। इसके अलावा नाइक पर हेट स्पीच और समुदायों के बीच वैमनस्य बढ़ाने के आरोप भी लगे थे। उसके खिलाफ 2016 में एंटी-टेरर लॉ के तहत केस दर्ज किया गया था। 2016 में बांग्लादेश में हुए बम धमाकों के मामले में भी नाइक जांच के दायरे में है। 

Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..