• Hindi News
  • 125 कैंडिडेट करोड़पति तो 2 के पास एक भी पैसा नहीं, पढ़ें 1st Phase के इंटरेस्टिंग रिकॉर्ड

125 कैंडिडेट करोड़पति तो 2 के पास एक भी पैसा नहीं, पढ़ें 1st Phase के इंटरेस्टिंग रिकॉर्ड

7 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
पटना. बिहार विधानसभा चुनावों की उल्टी गिनती शुरू हो गई है। 12 अक्टूबर को होने वाले फर्स्ट फेज की वोटिंग के लिए नॉमिनेशन का काम खत्म हो गया है। इस फेज में 49 सीटों के लिए 583 कैंडिडेट्स ने नामांकन दाखिल किया है। इनमें 174 के ऊपर आपराधिक मामले दर्ज है। इनमें 130 ऐसे हैं जिनके ऊपर गंभीर आपराधिक मामले हैं। अर्थात गैर जमानती अपराध।

वोटिंग से पहले एडीआर (एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्स) ने शनिवार को रिपोर्ट जारी की है। 16 कैंडिडेट्स पर मर्डर के मामले हैं। इनमें वारसलीगंज के जदयू प्रत्याशी प्रदीप कुमार पर हत्या के चार मामले दर्ज हैं।

कहां कितने कैंडिडेट्स पर मामले दर्ज
मोहिउद्दीनगर - जमालपुर में आधे कैंडिडेट्स पर आपराधिक मामला
मोहिउद्दीनगर - 18 कैंडिडेट्स में 9 पर आपराधिक मामला
जमालपुर - 12 में 6 कैंडिडेट्स पर आपराधिक मामले
बेलहर - 11 में 6 कैंडिडेट्स पर आपराधिक मामले

इस चुनाव में 25% कैंडिडेट्स करोड़पति
25 प्रतिशत यानी 125 कैंडिडेट्स करोड़पति हैं। भाजपा के 27 में 18, जदयू के 24 में 19, राजद के 17 में 11, कांग्रेस के 8 में 6, लोजपा के 13 में 8, सपा के 18 में 6, बसपा के 41 में 3 तथा 42 निर्दलीय प्रत्याशी करोड़पति हैं। अर्थात इनके पास एक करोड़ रुपए से अधिक संपत्ति है।

निर्दलीय विनोद सबसे धनी
> वारिसनगर : विनोद कुमार सिंह, निर्दलीय, 74.73 करोड़ रुपए
> खगडिय़ा : पूनम यादव, जदयू, 41.34 करोड़ रुपए
> भागलपुर : अजीत शर्मा, कांग्रेस, 40.57 करोड़ रुपए

दो कैंडिडेट्स के पास एक रुपया भी नहीं
पहले चरण में दो प्रत्याशियों के पास एक रुपया भी नहीं है। इन्होंने नामांकन में शून्य संपत्ति दिखाई है। इनमें बखरी से भारतीय जनहित दल के कैंडिडेट सुरेश सदा और हिसुआ से मूलनिवास समाज पार्टी के प्रदीप राजबंशी शामिल हैं। बरबीघा से निर्दलीय कैंडिडेट योगेश्वर मांझी के पास 954 रु. की चल संपत्ति है। इनके पास अचल संपत्ति नहीं है।

8 कैंडिडेट्स पर एक करोड़ से अधिक का कर्ज
आठ कैंडिडेट ऐसे हैं जिनके पास एक करोड़ रुपए से अधिक का कर्ज है। झाझा के व्यवसायी किसान अल्पसंख्यक मोर्चा के उमाशंकर भगत के पास 11.47 करोड़, बरबीघा के निर्दलीय राधे शर्मा के पास 6.10 करोड़, जमुई के व्यवसायी किसान अल्पसंख्यक मोर्चा के बलदेव प्रसाद भगत के पास 5.03 करोड़, भागलपुर के कांग्रेस के अजीत शर्मा को 3.13 करोड़ रुपए का कर्ज है।