पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Yakub Menon Will Be Hanged In Nagpur Jail

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

मुंबई में 1993 सीरियल ब्लास्ट के दोषी याकूब मेमन को 30 जुलाई को होगी फांसी

6 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
मुंबई. 1993 में मुंबई में हुए सीरियल ब्लास्ट केस में दोषी करार दिए गए याकूब मेमन को फांसी दिए जाने का सपा नेता अबू आजमी ने विरोध किया है। आजमी ने बुधवार को कहा, ''ये सरकार खुलकर ये सब करके सांप्रदायिकता फैला रही है और अपनी मार्केटिंग कर रही है। यह सरकार खुद को मुसलमानों के खिलाफ पोज कर रही है। सजा उनको जरूर मिलनी चाहिए जिन्होंने कुछ गलती की है। लेकिन मैं इस बात को अच्छी तरह जानता हूं कि इस चार्जशीट में याकूब मेमन ने कोई ऐसा काम नहीं किया है, जिससे लगे कि वह गुनहगार हो।''
बता दें कि मुंबई की टाडा कोर्ट ने 53 साल के याकूब की फांसी का वारंट जारी कर दिया है। उसे नागपुर की सेंट्रल जेल में संभवत: 30 जुलाई की सुबह सात बजे फांसी दी जाएगी। यह केस 22 साल पुराना है। टाडा कोर्ट ने याकूब को 8 साल पहले 27 जुलाई, 2007 को सीरियल ब्लास्ट की साजिश रचने का दोषी पाया था। उसे सजा-ए-मौत सुनाई गई थी। इसके बाद उसने बॉम्बे हाईकोर्ट, सुप्रीम कोर्ट और राष्ट्रपति तक के पास अपील की। लेकिन उसे राहत नहीं मिली। वह अब सिर्फ क्यूरेटिव पिटीशन ही दाखिल कर सकता है, जिस पर फांसी से पहले सुनवाई हो सकती है।
सीएम ने भी दे दी मंजूरी
सूत्रों के मुताबिक, महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़णवीस ने याकूब की फांसी की तारीख और वक्त को पहले ही मंजूरी दे दी है। कोर्ट और नागपुर प्रशासन को भी इसकी जानकारी दे दी गई है। याकूब के परिवार को भी इसके बारे में बता दिया गया है। कानून के मुताबिक, किसी भी दोषी को फांसी पर चढ़ाने से 15 दिन पहले उसके परिवार को जानकारी देना जरूरी है। जेल में याकूब की सेहत पर लगातार नजर रखी जा रही है। उसने अपने वकील से मिलने से इनकार कर दिया है।
चार्टर्ड अकाउंटेंट था याकूब
याकूब चार्टर्ड अकाउंटेंट था। उसके वकीलों की दलील थी कि वह सिर्फ धमाकों की साजिश में शामिल था, न कि धमाकों को अंजाम देने में। इस मामले में टाडा की स्पेशल कोर्ट ने 10 अन्य दोषियों को मौत की सजा सुनाई थी। उसे सुप्रीम कोर्ट ने उम्रकैद में बदल दिया। कोर्ट ने कहा था कि इन लोगों का रोल मेमन से अलग था। इन्होंने मुंबई में अलग-अलग जगहों पर एक्सप्लोसिव से लदे वाहन खड़े किए थे। मुंबई में 12 मार्च 1993 को भीड़ भरी 12 जगहों पर हुए ब्लास्ट में 257 लोग मारे गए और 700 से अधिक घायल हो गए थे। बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज की 28 मंजिला इमारत की बेसमेंट में भी ब्लास्ट हुआ था। इसमें 50 लोग मारे गए थे।
मौत की सजा सुनाने में भारत टॉप-5 में
मौत की सजा सुनाने के मामले में भारत की गिनती दुनिया के टॉप-5 देशों में है। लेकिन फांसी की सजा देने में ये मामला अलग हो जाता है। 2014 में दुनियाभर में 2,466 लोगों को फांसी की सजा सुनाई गई। भारत में यह आंकड़ा 64 है। देश में 2001 से 2011 के बीच 10 साल में 1,455 अपराधियों को मौत की सजा सुनाई गई थी।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- व्यक्तिगत तथा पारिवारिक गतिविधियों में आपकी व्यस्तता बनी रहेगी। किसी प्रिय व्यक्ति की मदद से आपका कोई रुका हुआ काम भी बन सकता है। बच्चों की शिक्षा व कैरियर से संबंधित महत्वपूर्ण कार्य भी संपन...

और पढ़ें