• Hindi News
  • Top Home Official Tried To Stall Arrest Matang Singh, Accused In Saradha Chit Fund Scam

कांग्रेस नेता की गिरफ्तारी रोकने की कोशिशों से राजनाथ नाराज, गृह सचिव की छुट्टी तय

7 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
नई दिल्ली. केरल कैडर के आईएएस एलसी गोयल नए गृहसचिव बनाए गए हैं। 1979 बैच के अधिकारी गोयल अनिल गोस्वामी की जगह लेंगे जिन्हें समय से पहले ही बुधवार रात पद से हटा दिया गया। गोयल अभी केंद्रीय ग्रामीण विकास मंत्रालय में सचिव हैं। इस बीच, नया खुलासा हुआ है कि शारदा चिटफंड घोटाले में आरोपी पूर्व केंद्रीय मंत्री मतंग सिंह ने गिरफ्तारी से पहले तत्कालीन गृह सचिव गोस्वामी से फोन पर बात की थी। दोनों के बीच बातचीत रिकॉर्ड हो गई थी क्योंकि उस समय मतंग सिंह का मोबाइल फोन सर्विलांस पर था। दोनोें के बीच बातचीत का टेप पीएमओ को दिया गया था।
शारदा चिटफंड घोटाले के आरोपी और कांग्रेसी नेता मतंग सिंह की मदद करने की रिपोर्ट्स सामने आने के बाद गृह सचिव अनिल गोस्वामी की विदाई तय हो गई थी। गोस्वामी के हटाए जाने के बारे में यह भी कहा जा रहा है कि खुद को हटाए जाने के पहले ही उन्होंने त्यागपत्र दे दिया।
हाल ही में रिपोर्ट्स सामने आई थीं कि गृह मंत्रालय के एक आला अधिकारी ने शारदा घोटाले के मुख्य आरोपी और कांग्रेस नेता मतंग सिंह की गिरफ्तारी को रोकने की कोशिश की। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, गोस्वामी खुद इस मामले में संदेह के घेरे में हैं। इस तरह की खबरें सामने आने के बाद राजनाथ सिंह ने गोस्वामी और सीबीआई डायरेक्टर अनिल सिन्हा से मुलाकात की और मामले की असलियत जानने की कोशिश की। इसके बाद राजनाथ ने प्रधानमंत्री मोदी को पूरे घटनाक्रम के बारे में जानकारी दी।
एक मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, गोस्वामी ने अपनी गलती कबूल कर ली है। ध्यान रहे कि मतंग सिंह को करोड़ों रुपए के शारदा चिटफंड घोटाले में लिप्त होने के आरोपों के बाद पिछले हफ्ते कोलकाता में गिरफ्तार किया गया था। सिंह के कई बड़े नेताओं और अफसरों से घनिष्ठ संबंध हैं। सीबीआई की पूछताछ में शारदा समूह के चेयरमैन सुदिप्त सेन ने मतंग का नाम लिया था।
1977 बैच के जम्मू-कश्मीर कैडर के आईएएस ऑफिसर गोस्वामी बीते दो साल से गृह सचिव का पद संभाल रहे थे। वे इसी साल जुलाई में रिटायर होने वाले थे।
इन अधिकारियों को भी भारी पड़ा सरकार से टकराव
गोस्वामी तीसरे ऐसे आला अधिकारी हैं, जिनका सरकार से टकराव हुआ है। पिछले सप्ताह, सरकार ने सुजाता सिंह को रिटायरमेंट के सात महीने पहले ही विदेश सचिव के पद से हटा दिया था। इससे पहले सरकार डिफेंस रिसर्च एंड डेवलपमेंट ऑर्गनाइजेशन के प्रमुख अविनाश चंदेर को भी हटा चुकी है।