पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

आजम बोले- अकेले मुसलमान को मारना कायरता, क्या ये है पाकिस्तान न जाने की सजा?

6 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
लखनऊ/रामपुर. दादरी में एक परिवार के गाय का मांस खाने की अफवाह फैलने के बाद एक शख्स की पीट-पीटकर हत्या करने के मामले में सपा के कद्दावर नेता आजम खान ने पीएम मोदी पर निशाना साधा है। उन्होंने कहा, "इस तरह कमजोर और अकेले मुसलमान को मार देना सबसे बड़ी कायरता है। क्या ये पाकिस्तान न जाने की सजा है?" आजम ने पीएम मोदी को बीजेपी वर्करों को रोकने की नसीहत भी दी।
हमेशा के लिए रहती है बदनामी
बुधवार को एक टीवी चैनल से बात करते हुए आजम ने कहा, "जिंदगी, राजनीति और पद हमेशा के लिए नहीं होती, लेकिन बदनामी हमेशा के लिए होती है। इसलिए प्रधानमंत्री जी अपने कार्यकर्ताओं को रोकिए।" आजम ने कहा कि बीजेपी 2017 चुनावों से पहले दंगा कराने की कोशिश में है।
मोदी से की थी होटलों में बीफ की बिक्री पर रोक की मांग
कुछ दिनों पहले आजम ने मोदी को बादशाह शब्‍द से सूचित करते हुए कहा था, ‘बादशाह पहले दिल्‍ली के पांच सितारा होटल में गोमांस बिकवाना बंद कराएं। मुस्‍लिम कभी गोकशी के पक्षधर नहीं था और न है। मोदी हिंदू और मुसलमान को बांटना चाहते हैं। हिंदुस्‍तान में गोमांस कभी पूरी तरह प्रतिबंधित था, तो सिर्फ बाबर के जमाने में। इसके बाद यहां कभी गोमांस पर प्रतिबंध नहीं लगा।’
आरएसएस पर लगाए थे आरोप
बता दें, यूपी के कैबिनेट मंत्री आजम खान ने इसके पहले राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (आरएसएस) पर निशाना साधते हुए कहा कि कुछ बड़ी ताकतें उन्‍हें देश से निकाल कर पाकिस्तान भिजवाने की साजिश में लगी हुई हैं। ऐसे में जरूरी है कि आपसी एकता से सियासी ताकत को बढ़ाया जाए। यह ताकतें तकदीर बदल देंगी।
सिर्फ टीका-टोपी वाले राम-रहीम के नहीं होते
आजम ने ये भी कहा था कि माथे पर टीका और सिर पर टोपी लगाने वाले राम-रहीम के नहीं होते। रामपुर समेत पूरे देश को जलाने की साजिश रची गई थी।
क्या कहती है बीजेपी
भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के प्रदेश प्रवक्ता विजय बहादुर पाठक ने कहा कि समाजवादी पार्टी ध्रुवीकरण की कोशिश कर रही है। ऐसा ही मुजफ्फरनगर के वक्त किया गया था और ऐसा ही अब किया जा रहा है।