• Hindi News
  • जापानी पीएम आबे कई करार करने के साथ, वाराणसी भी जाएंगे

भारत में जापान के पीएम: आज हो सकता है बुलेट ट्रेन पर एग्रीमेंट, मोदी के साथ जाएंगे काशी

6 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
नई दिल्ली. भारत और जापान के बीच शनिवार को बुलेट ट्रेन एग्रीमेंट हो गया। पीएम मोदी और जापान के पीएम शिंजो आबे ने सिविल न्यूक्लियर एग्रीमेंट के मेमोरेंडम पर दस्तखत किए। दिल्ली में दोनों नेताओं की मीटिंग के बाद समझौतों का एलान हुआ। इससे पहले मोदी की तारीफ में आबे ने कहा कि मोदी तो भारत की पॉलिसीज भी बुलेट ट्रेन की स्पीड से लागू करते हैं।
मोदी ने क्या एलान किए?
- आबे से दिल्ली के हैदराबाद हाउस में मीटिंग के बाद मोदी ने कहा-भारत में पहला बुलेट ट्रेन नेटवर्क शुरू होगा। मुंबई-अहमदाबाद के बीच पहला हाई स्पीड रेल रूट बनेगा।
- जापान 12 अरब डॉलर यानी करीब 75 हजार करोड़ रुपए का फंड मेक इन इंडिया को प्रमोट करने के लिए बनाएगा।
- दोनों देशों के बीच सिविल न्यूक्लियर एग्रीमेंट पर रजामंदी बनना आपसी भरोसे को दर्शाता है।
- पहली बार जापान मारुति सुजुकी कारों को भारत से इम्पोर्ट करेगा।
- जापान के सिटीजंस को हम 1 मार्च 2016 से वीसा ऑन अराइवल फैसिलिटी देंगे।
- दोनों देशों के बीच डिफेंस इक्विपमेंट और टेक्नोलॉजी ट्रांसफर भी होगा।
- हम यूएन सिक्युरिटी काउंसिल में अपनी सही जगह के लिए जापान से मदद की उम्मीद करते हैं।
- दोनों देश समुद्री सुरक्षा के मामले में भी साथ रहेंगे।
आबे ने क्या एलान किए?

- हम मेक इन इंडिया के लिए मदद करेंगे।
- जापान वाराणसी में कन्वेंशन सेंटर बनाएगा।
- जापान 5 साल में 35 बिलियन डॉलर का इन्वेस्टमेंट भारत में करेगा।
बिजनेस समिट में जापान के पीएम आबे ने क्या कहा?
- “मोदी की पॉलिसीज हाई स्पीड ट्रेन की तरह सेफ, भरोसेमंद और कई लोगों को एक साथ लेकर जाने की ताकत रखती हैं।
- “मजबूत भारत मेरे देश जापान के लिए अच्छा है और मजबूत जापान भारत के लिए अच्छा है।”
क्या कहा मोदी ने?
- “भारत को सिर्फ हाईस्पीड ट्रेन ही नहीं, बल्कि हाई स्पीड ग्रोथ भी चाहिए।”
- “यह पहली बार है कि जापान भारत से कार इम्पोर्ट करेगा।”
बुलेट ट्रेन पर भारत को जापान का स्पेशल ऑफर क्या?
- जापान भारत को 50 साल के लिए 90 हजार करोड़ रुपए का लोन देगा।
-इसका रेट ऑफ इंटरेस्ट केवल 0.5% होगा।
-दूसरे देशों को जापान इस तरह के लोन 1.5 फीसदी के रेट ऑफ इंटरेस्ट से केवल 25 साल के लिए ही देता है।
भारत के लिए खुश होने की वजह ये
- पीएमओ के एक अफसर का इस बारे में कहना है, “रेट ऑफ इंटरेस्ट और लोन चुकाने का जो टाइम जापान ने भारत को दिया है, वह हमारे लिए बेहद फायदेमंद साबित हो सकता है।
- इसके लिए पीएम मोदी ने दोनों देशों के बीच रिश्ते सुधारने की काफी कोशिश की है। दोनों देश इन्फ्रास्ट्रक्चर सेक्टर में सहयोग कर रहे हैं।
बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट पर एक नजर
- 505 किमी लंबे मुंबई-अहमदाबाद रूट पर चलेगी पहली बुलेट ट्रेन।
- 7 घंटे लगते हैं दोनों स्टेशनों के बीच सफर में।
- 300 KMPH रफ्तार से चलेगी बुलेट ट्रेन।
- 2 घंटे का रह जाएगा दोनों शहरों के बीच सफर।
- 98 हजार करोड़ रुपए होगी प्रोजेक्ट की कॉस्ट। 81% कॉस्ट जापान उठाएगा।
- 11 टनल बनेंगी मुंबई-अहमदाबाद रूट में। जिसमें एक टनल समुद्र के अंदर होगी।
- 1% से भी कम इंटरेस्ट रेट पर जापान भारत को लोन देगा। यह लोन 50 साल के लिए होगा।
चीन के मुकाबले हम कहां होंगे?
- भारत 6 साल में 500 किमी हाई स्पीड ट्रेन कॉरिडोर बनाएगा।
- वहीं, चीन ने सिर्फ 6 साल में 6000 किमी हाई स्पीड ट्रेन कॉरिडोर बनाया है।
दुनिया के मुकाबले हम कहां हैं?
देशट्रेनस्पीड
1.फ्रांसटीजीवी320 KMPH
2.चीनएचएसआर300 KMPH
3.जर्मनीआईसीई300 KMPH
4.भारतराजधानी एक्सप्रेस140 KMPH
गतिमान एक्सप्रेस (दिल्ली-आगरा के बीच प्रस्तावित)160 KMPH
5.जापानशिंकान्शेन285 KMPH
6.इटलीईटीआर300 KMPH
किन देशों से भारत की न्यूक्लियर डील है?

- अमेरिका- 2005 (123 एग्रीमेंट)
- फ्रांस - 2008
- रूस - 2009
- मंगोलिया- 2009
- नामीबिया - 2009
- कनाडा - 2010
- अर्जेंटीना, कजाकिस्तान और साउथ कोरिया के साथ भी भारत का न्यूक्लियर एग्रीमेंट है।
वाराणसी में खास तैयारियां
- मोदी और आबे के शाम 4 बजे पहुंचने से पहले वाराणसी में खास तैयारियां हो रही हैं।
- गंगा घाटों की सफाई के लिए मुंबई से स्टीमर मंगाए गए हैं।
- घाटों को खूबसूरती से सजाया जा रहा है।
- पिछले साल अगस्त में जब पीएम मोदी जापान गए थे, तो दोनों देशों के बीच वाराणसी को जापान के शहर क्योटो के तर्ज पर बसाए जाने का समझौता हुआ था।
आगे की स्लाइड्स में देखें, मोदी-आबे की मुलाकात के फोटोज...